सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

unix commands in hindi

what is switching methods in hindi

 आज हम computers in hindi मे what is switching methods in hindi - computer network in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

switching in hindi:-

स्विचिंग ( Switching ) एक मेथड ( Method ) है , जिसमें Communicate करने वाले Devices एक दूसरे से आसानी से जुड़े होते हैं और Switch एक हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर होता है , जो डिवाइसेस ( Devices ) को अस्थायी तौर पर लिंक ( Link ) करता है । 
अन्य शब्दों में यह कहा जा सकता है कि स्विचिंग एक क्रिया है जिसमें एक टेलीकम्यूनिकेटिंग डिवाइस जिसे स्विच कहा जाता है , के माध्यम से कम्यूनिकेशन किया जाता है । इस क्रिया में स्विच किसी एक डिवाइस से संदेश ग्रहण करता है तथा उस सन्देश को उसके गन्तव्य तक पहुंचा देते हैं । 

types of switching methods (techniques) in hindi:-

1. Packet Switching in hindi( पैकेट स्विचिंग)

2. Circuit Switching in hindi ( सर्किट स्विचिंग)

1. Packet Switching in hindi( पैकेट स्विचिंग):-

पैकेट स्विचिंग ( Packet switching ) , मैसेज स्विचिंग ( Message switching ) के समान होती है , जिसमें डेटा को ब्लॉक्स ( Blocks ) के रूप में Transmit किया जाता है । डेटा ब्लॉक ( Data block ) को नेटवर्क में पहले राउटर ( Router ) द्वारा बफर ( Buffer ) किया जाता है और जब तक डेटा अपने डेस्टिनेशन ( Destination ) तक नहीं पहुँच पाता , तब तक उन्हें अगले राउटर ( Router ) को फॉरवर्ड ( Forward ) कर दिया जाता है । पैकेट स्विचिंग में डेटा के ब्लॉक साइज ( Block size ) की अधिकतम सीमा सीमित ( Limit ) होती है । और यह संदेश को डिस्क ( Disk ) की बजाय मेन मैमोरी ( Main memory ) में अस्थायी तौर ( Temprory ) पर संग्रहित ( Store ) होने की अनुमति प्रदान करता है ।

2. Circuit Switching in hindi ( सर्किट स्विचिंग):-

सर्किट स्विचिंग ( Circuit switching ) एक कम्यूनिकेशन तकनीक ( Communication technique ) है । 
सर्किट स्विचिंग ( Circuit switching ) में दो कम्प्यूटर्स या टेलीफोन के बीच एक डेडीकेटड पाथ ( Dedicated path ) स्थापित ( Create ) होता है और तब तक रहता है जब तक कि किसी डिवाइस ( Device ) के द्वारा सेशन को ( Terminate ) नहीं किया जाता है । 
इसमें एक ही फिजीकल पाथ ( Physical path ) से होकर ट्रान्समिशन ( Transmission ) की प्रत्येक यूनिट ( Unit ) , जैसे - फ्रेम ( Frame ) ट्रांस्मिट ( Transmit ) होता है।
टेलीफोन सिस्टम , सर्किट स्विचिंग ( Circuit switching ) का प्रयोग करता है । टेलीफोन सिस्टम में एक डेडिकेटेड पाथ ( Dedicated path ) स्थापित ( Create ) होता है और तब तक रहता है जब तक टेलीफोन पर बात कर रहे दो व्यक्तियों में से कोई एक व्यक्ति सेशन को टर्मिनेट ( Terminate ) नहीं कर देता स्थापित कनेक्शन एक फिजीकल सर्किट ( Physical circuit ) होता है । जब टेलीफोनों के द्वारा सेशन ( Session ) को टर्मिनेट ( Terminate ) किया जाता है तो फिजीकल सर्किट ( Physical circuit ) और सम्बन्धित रिसैसेज ( Related resources ) को मुक्त ( Free ) कर दिया जाता है और वे अगले कॉल ( Call ) के लिए उपलब्ध करा दिये जाते हैं । ISDN और स्विचिड 56 ( Switched 56 ) , लीज्ड लाइन्स ( Leased lines ) , सर्किट स्विचिंग ट्रान्समिशन फैसिलिटी ( Circuit switching  transmission facility ) के उदाहरण हैं ।

comparison between packet switching and circuit switching:-

1. समर्पित लिंग :-

इसमें कोई समर्पित इसमें समर्पित लिंग होता है जबकि लिंक नहीं होता है । 

2. डेटा विभाजन:-

 इसके अन्तर्गत डेटा को यहां डेटा का विभाजन छोटे - छोटे भागों में किया जाता है , जिसे पैकेट कहा जाता है । जबकि यहा डेटा विभाजित किया जाता को लगातार क्रम में रखा जाता है।

3. लिंक शेयरिंग :-

एक से अधिक कम्यूनकेशन पर यात्रा करने वाले पैकेट नेटवर्क लिंक को को आपस में share करते हैं ।  जबकि इसके अन्तर्गत अलग अलग session के लिए अलग - अलग लिंक होते हैं , कोई sharing नहीं की जाती है ।

4. स्थानान्तरण समय:-

 अलग - अलग डेटा पैकेट length कारण पैकेट स्थानान्तरण में अलग- अलग समय लगता है । जबकि  इसके अन्तर्गत bit delay constant होता है अर्थात् पैकेट स्थानान्तरण में एक जैसे समय लगता है ।

5 . अतिरिक्त भार :-

इसके अन्तर्गत प्रत्येक ( overhead ) पैकेट के साथ अतिरिक्त भार ( overhead ) जुड़ा होता है । जबकि यहां कोई अतिरिक्त भार ( overhead ) नहीं जुड़ा होता है ।

6 .बैण्डविड्थ का प्रयोग:-

 इसके अन्तर्गत बैण्डविड्थ का अधिकतम इस्तेमाल होता है।
 जबकि इसके अन्तर्गत बैण्डविड्थ का exclusive प्रयोग होता है ।

7 . ट्रांस्मिशन कॉस्ट  ( कीमत ) :-

इसके अन्तर्गत डेटा को ट्रांस्मिट करने की कीमत कम होती है। जबकि इसके अन्तर्गत डेटा को ट्रांस्मिट करने की कीमत अधिक होती है ।

8 . सर्विस की गुणवत्ता:-

 इसके अन्तर्गत सर्विस की गुणवत्ता ( quality ) अधिक अच्छी नहीं होती है । इसमें सूचना के खराब होने का डर अधिक होता है ।जबकि इसके अन्तर्गत डेटा को ट्रांस्मिट करने की कीमत अधिक होती है ।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ