Skip to main content

relational model in hindi - DBMS in hindi

 आज हम  computers  in hindi  मे   relational model in hindi-   DBMS in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- relational model in hindi (रिलेशनल मॉडल क्या है?):- इसमे रिलेशनल डेटा मॉडल सबसे पहले E.E.Codd द्वारा 1970 में तथा बाद में IBM के San Jose Reserch Laboratosy जो कि R सिस्टम के development के लिए Responsible है इसके द्वारा 1970 के दौरान ही Presented किया गया और दूसरी बार कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय बार्कले जो इन्ग्रेस अकादमिक ओरिएन्टेड RDMS के development के लिए Responsible है इसके द्वारा Presented किया गया । 1980 के आसपास कई producers द्वारा Professional  रिलेशनल डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (RDBMS)   producers को प्रारंभ किया गया और आजकल RDBMS's डेटाबेस मैनेजमेंट के लिए उच्च स्तर की Technique रखते है और अब Personal computers (  personal computer kya hai )और mainframe की limits में कई सारे  रिलेशनल डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (RDBMS )  इसमे आते हैं । इसमे रिलेशनल डेटा मॉडल में डेटा को tables के रूप में Displayed करते हैं । रिलेशनल मॉडल Mathema

OSI मॉडल क्या है?-what is OSI model

OSI मॉडल क्या है?(what is OSI model in hindi):-
आज हम सीखेंगे OSI मॉडल क्या है? (What is OSI model in hindi) OSI मॉडल परतों का स्पष्टीकरण (OSI Model Layers Explanation),ओएसआई मॉडल परतों और इसके कार्यों (OSI Model Layers and its Functions) क्या होते हैं।
OSI मॉडल क्या है?


OSI मॉडल :- (Open System Interconnection Model)
इंटरनेशनल ऑर्गेनाइजेशन फॉर स्टैंडर्ड स्टैंडरार्इजेशन (International organisation for standarization) ने एक सेट सेट प्रकाशित किया जो डिवाइसेज (Devices) को जोड़ने के लिए नेटवर्क आर्किटेक्चर का वर्णन करता है। इसका उपयोग नेटवर्क और नेटवर्क एप्लीकेशन (Network application) को बताने के लिए किया जा सकता है। इसके पश्चात OSI ने इस मॉडल का एक रिवीजन (Revision) प्रकाशित किया जिसे ओपन सिस्टम इंटर कनेक्शन रेफरेंस मॉडल (Open System Interconnection reference model कहा गया।
निर्माता कंपनियों द्वारा अपने अपने नेटवर्क उत्पादों को डिजाइन करते समय OSI रेफरेंस मॉडल का अनुपालन किया जाता है। OSI रेफरेंस मॉडल यह विवरण  देता है  की  कम्युनिकेशन (Communication) को  संभव  बनाने  के लिए किस तरह हार्डवेयर (Hardware) और सॉफ्टवेयर(Software) एक साथ मिलकर लेयर्ड फैशन मैं कार्य कर सकते हैं।
ओएसआई मॉडल (OSI Model) को आईएसओ ओएसआई रेफरेंस मॉडल (ISO Reference Model) भी कहते है। यह एक मॉडल है जिसमें सात परतें होते हैं। भौतिक परत (Physical Layer), डेटा लिंक परत (Data Link Layer), नेटवर्क परत (Network Layer), परिवहन परत (Transport Layer), सत्र परत (Session Layer), प्रस्तुतीकरण परत (Presentation Layer), और अनुप्रयोग परत (Application Layer) ओएसआई मॉडल की सात परतें हैं।

OSI मॉडल की परतें (LAYERS OF OSI‎ MODEL IN HINDI):- 
1. फिजिकल लेयर(Physical Layer):-
यह सब से नीचली लेयर होती है यह परत लेयर की भौतिक पर भी होती है। यह लेयर डाटा इनकोडिंग(Data-encoding) और बिट  सिनकोनाइजेशन (Bit-synchronization) के मेकैनिज्म की सर्विसेज प्रदान करती है। यह लेयर बिटस्ट्रीम(Bit-stream) को एक फिजिकल मीडियम (Physical medium) जैसे नेटवर्क केबल (Network cable) पर ट्रांसमीट ट्रांसलेट करती हैं मतलब यह लेयर बीट्स(bits) एक कंप्यूटर से  दूसरे कंप्यूटर पर ट्रांसमिट (Transmit) करती है। यह लेयर आवेग की समय अवधि (Duration) को परिभाषित करती है।
 यह लेयर, डाटा लिंक लेयर से फ्रेमो (Frames) को स्वीकार (Accept)करती है तथा उनके स्ट्रक्चर(structure) और कंटेंट (content)को  सीरियली (serially) ट्रांसमिट (Transmit) करती है।
 इस लेयर को हार्डवेयर लेयर (Hardware layer) भी कहा जाता है। इस लेयर के द्वारा यह भी बताया जाता है की नेटवर्क केबल पर डाटा को भेजने के लिए किस ट्रांसमिशन तकनीक (Transmission technique) का प्रयोग किया जाएगा।
यह लेयर आने वाले डाटा को एक एक  बीट (bit) करके प्राप्त करती है, इसके बाद यह इन डाटा स्ट्रीम्स (data streams) को रीफ्रेमिंग (Reframing) के लिए डाटा लिंक इन्हें लेयर को भेज दिया जाता है।
यह लेयर डिवाइसेज के लिए इलेक्ट्रिकल और फिजिकल स्पेसिफिकेशन (Electrical and Physical specification) को बताती है। यह हार्डवेयर आइटम्स (Hardware items) जैसे केबल (Cables), कार्ड (cards), वोल्टेज (voltage)को परिभाषित (define) करती है।

2. डेटा लिंक लेयर(Data link layer):-
 यह लेयर हबस (Hubs) और स्विचस (Switches) के द्वारा उनके अनेक कार्य में उपयोग में ली जाती है।
 यह लेयर नेटवर्क लेयर से डेटा फेमस (Data frames) को स्वीकार(Accept) कर उन्हें फिजिकल लेयर (physical layer) को पास (pass) कर देती है और रिसीविंग एंड(Receiving end) पर अर्थात जहां फ्रेमस (frames) को भेजा गया था वहां यह लेयर फिजिकल लेयर से बिट्स को लेकर उन्हें डेटा फ्रेम्स(Data frames) में बदल देती है।
 डाटा लिंक लेयर इन डाटा फ्रेमो (Data frames) के एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर पर त्रुटि मुक्त ट्रांसफर(Error free transfer) के लिए उत्तरदाई होती है अर्थात जब यह लेयर कोई फ्रेम भेजती है तो वह प्राप्त करने वाले  के द्वारा  एकनॉलेजमेंट (Acknowledgement) के भेजे जाने का इंतजार(wait) करती है  और ट्रांसमिशन (Transmission) के दौरान फ्रेम में आई त्रुटि (Error) को ढूंढती है और इसके बाद क्षतिग्रस्त (Damage) हुए फ्रेमो (frames) को पुनः भेजा जाता है।

3. नेटवर्क लेयर(Network Layer):-
यह लेयर नेटवर्क की स्थिति(Condition) के आधार पर डाटा के लिए सोस् (Source)  से डेस्टिनेशन(Destination) तक के रूट(Route) का निर्धारण करती है।
यह लेयर मैसेजेस (Messages) के ऐड्रेसिंग (Addressing) करती है और लॉजिकल एड्रेसेस (Logical addresses) तथा नामों को फिजिकल एड्रेसेस (Physical addresses) में ट्रांसलेट (Translate) करने के लिए उत्तरदायी होती है।
यदि सोर्स कंप्यूटर (Source computer) द्वारा भेजे गए डेटा को राउटर (Router) जितना बड़ा होता है उसने ही साइज में नहीं भेज पाता है तो नेटवर्क लेयर उस डेटा छोटी छोटी यूनिट्स (Units) में विभाजित (Divide) कर देती है।
यह लेयर नेटवर्क की ट्रैफिक(Traffic) से संबंधित समस्याओं जैसे पैकेट्स की रूटिंग (Routing) और कंजक्शन(congestion) को भी नियंत्रित (control) और मैनेज (manage) करती है।
इंटरनेट प्रोटोकोल(internet protocol (IP)) ओर इंटरनेटवर्क पैकेट एक्सचेंज(IPX) नेटवर्क लेयर प्रोटोकॉल के उदाहरण है।

4. ट्रांसपोर्ट लेयर (Transport Layer):-
 यह लेयर डाटा भेजने वाले कंप्यूटर (Sending computer) पर संदेश (Messages) को छोटे-छोटे पैकेट्स (Packets) में विभाजित (Divide) कर उन्हें पैकेज (Package) के रूप में एकत्रित करती है। और  यह सुनिश्चित करती है  की पैकेट्स (Packets) बिना किसी त्रुटि (Error) के  और सही क्रम (Order) में  और बिना लॉस (Loss) या  डुप्लीकेशन (Duplication) के  भेजा जाएगा।
रिसीविग कंप्यूटर (Receiving Computer) पर यह लेयर पैकेटस को रिअसेंबल (Reassemble) कर उन्हें ओरिजिनल मैसेज (Original message) में कन्वर्ट (Convert) करती है तथा मैसेज (Message) सही तरह से प्राप्त हो जाने का एक्नॉलेजमेंट (Acknowledgement) भेजती है।
यह लेयर एरर हैंडलिंग (Error handling) का काम करती है।
ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकोल (Transmission packet protocol) और sequenced पैकेट एक्सचेंज ट्रांसपोर्ट लेयर प्रोटोकोल  के उदाहरण है।

5. सेशन लेयर (Session Layer):-
 इस के द्वारा सेशन (Session) को बनाया(create किया) जाता है, इसके द्वारा दो  अलग अलग कंप्यूटरों  पर रन(run) हो  रहे एप्लीकेशनस (Applications)  में से  एक कनेक्शन को  बंद (Close) करने, खोलने (open करने) और उसको उपयोग में लेने  की अनुमति देती है, इस कनेक्शन (connection) को  सेशन (session) कहते हैं।
यह लेयर नेटवर्क में दो एप्लीकेशन (Applications) को कम्यूनिकेट (Communicate) करने के लिए जरूरी कार्य जैसे सुरक्षा (Security) प्रदान करना, नाम को पहचानना (name recognization) आदि को निष्पादित करने के लिए उत्तरदायी होती है।
यह लेयर डाटा स्ट्रीम्स (Data streams) में चेक प्वाइंट्स (check points) भी लगाते हैं, इससे प्रयोगकर्ता (user) के कार्य (work) सिंक्रोनाइस (synchronize=) होता है। ये चेक प्वाइंट्स (check points) त्रुटि (Error) का पता लगा करने के लिए डाटा (data) को छोटे-छोटे समूह (Groups) में विभाजित (Divide) करते हैं।

6.प्रेजेंटेशन लेयर (Presentation Layer):-
 इस लेयर के द्वारा डाटा के फॉर्मेट (Format) को परिभाषित किया जाता है। इस लेयर को ट्रांसलेटर लेयर (Translator Layer) भी कहते हैं।
यह लेयर प्रोटोकॉल्स को बदलने (convert करने), कैरेक्टर सेट (Character set) को बदलने (Convert करने), डाटा को ट्रांसलेट (Translate) करने तथा ग्राफिक्स कमांड्स (graphics command) को एक्सपेंड (Expand) करने के लिए उत्तरदायी होती है।
जब दो अलग-अलग कंप्यूटरों  के बीच  कम्युनिकेशन (Communication) की आवश्यकता होती है  तो  ट्रांसलेशन (Translation) जरूरी होता है  और कार्य इस लेयर  के द्वारा किया जाता है।

7. एप्लीकेशन लेयर (Application Layer):-
 यह सबसे ऊपरी लेयर (Upper Layer) है। यह लेयर एक विंडो (Window) की तरह कार्य करती हैं, जिसके द्वारा एप्लीकेशन प्रोसेस (Application process), नेटवर्क सर्विसेज (network services) को प्राप्त कर सकती है।
यह लेयर सर्विसेज (services) जैसे फाइल ट्रांसफर (File transfer), ई-मेल (e-mail) और डेटाबेस एक्सेस (Database access) के लिए सॉफ्टवेयर का समर्थन करती है।
इस लेयर को प्रोटोकॉल्स अपने आप में प्रोग्राम (program) होते हैं जैसे फाइल ट्रांसफर प्रोटोकोल (File transfer protocol (FTP))। इन्हें अन्य प्रोग्राम्स (Programs) के द्वारा भी प्रयोग में लिया जा सकता है जैसे  सिंपलमेल ट्रांसफर प्रोटोकोल (Simple Mail Transfer Protocol-SMTP) का प्रयोग ज्यादातर ई-मेल (e-mail) द्वारा किया जाता है।

Comments

Popular posts from this blog

कंप्यूटर की पीढियां । generation of computer in hindi language

generation of computer in hindi  :- generation of computer in hindi language ( कम्प्युटर की पीढियाँ):- कम्प्यूटर तकनीकी विकास के द्वारा जो कम्प्यूटर के कार्यशैली तथा क्षमताओं में विकास हुआ इसके फलस्वरूप कम्प्यूटर विभिन्न पीढीयों तथा विभिन्न प्रकार की कम्प्यूटर की क्षमताओं के निर्माण का आविष्कार हुआ । कार्य क्षमता के इस विकास को सन् 1964 में कम्प्यूटर जनरेशन (computer generation) कहा जाने लगा । इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर के विकास को सन् 1946 से अब तक पाँच पीढ़ियों में वर्गीकृत किया जा सकता है । प्रत्येक नई पीढ़ी की शुरुआत कम्प्यूटर में प्रयुक्त नये प्रोसेसर , परिपथ और अन्य पुर्षों के आधार पर निर्धारित की जा सकती है । ● First Generation of computer in hindi  (कम्प्युटर की प्रथम पीढ़ी) : Vacuum Tubes ( वैक्यूम ट्यूब्स) ( 1946 - 1958 ):- प्रथम इलेक्ट्रॉनिक ' कम्प्यूटर 1946 में अस्तित्व में आया था तथा उसका नाम इलैक्ट्रॉनिक न्यूमेरिकल इन्टीग्रेटर एन्ड कैलकुलेटर ( ENIAC ) था । इसका आविष्कार जे . पी . ईकर्ट ( J . P . Eckert ) तथा जे . डब्ल्यू . मोश्ले ( J . W .

पर्सनल कंप्यूटर | personal computer

पर्सनल कंप्यूटर क्या है? ( Personal Computer kya hai ?) :- personal computer definition :- ये Personal computer  क्या है शायद हम सभी लोगों यह  पता होगा क्यूंकि इसे हम अपने घरों में, offices में, दुकानों में देखते हैं  Personal computer (PC) किसी भी उपयोगकर्ता के उपयोग के लिए बनाये गए किसी भी छोटे और सस्ते कंप्यूटर का निर्माण किया गया । सभी कम्प्युटर Microprocessors के विकास पर आधारित हैं। Personal computer  का उदाहरण माइक्रो कंप्यूटर,  डेस्कटॉप कंप्यूटर, लैपटॉप कंप्यूटर, टैबलेट हैं। पर्सनल कंप्यूटर के प्रकार ( personal computer types ):- ● डेस्कटॉप कंप्यूटर (Desktop) ● नोटबुक (Notebook) ● टेबलेट (tablet) ● स्मार्टफोन (Smartphone) कम्प्युटर का इतिहास ( personal computer history) :- कम्प्यूटर के विकास   (personal computer evolution)  के आरम्भ में जो भी कम्प्यूटर विकसित किया जाता था , उसकी अपनी एक अलग ही संरचना होती थी । तथा अपना एक अलग ही नाम होता था । जैसे - UNIVAC , ENIAC , MARK - 1 आदि । सन् 1970 में जब INTEL CORP ने दुनिया का पहला माइक्रोप्रोसेसर (

कम्प्युटर कीबोर्ड क्या है और कीबोर्ड के प्रकार

कम्प्युटर कीबोर्ड क्या है ( keyboard in hindi ) की - बोर्ड लगभग टाइपराइटर के सामान ही होता है , फर्क सिर्फ इतना है कि टाइपराइटर में लगे बटनों की अपेक्षा की - बोर्ड के बटन आसानी से दबते हैं जिससे लम्बे समय तक कार्य करने में सुविधा रहती है । की - बोर्ड के बटनों में एक खास बात यह भी होती है कि किसी बटन को कुछ देर तक दबाए रखा जाये तो  वह स्वयं को repeats होता है ।  की - बोर्ड एक केबल के द्वारा कम्प्यूटर से जुड़ा होता है जिसका एक सिरा की - बोर्ड तथा दूसरा सिरा CPU के पीछे लगे एक सॉकेट में लगाया जाता है । टाइपराइटर की तुलना में की - बोर्ड में कई अधिक Keys होती हैं , जिनसे अनेक प्रकार के काम किये जाते है। की -  बोर्ड के सबसे ऊपर right side ओर तीन रोशनी देने वाली light लगी होती हैं । ये Caps Lock , Num Lock तथा Scroll Lock key की स्थिति दर्शाते रहते हैं । की - बोर्ड ( कुंजीपटल ) user के निर्देशों / आदेशों अथवा डाटा / सूचना को कम्प्यूटर में input कराने का महत्वपूर्ण माध्यम है तथा सर्वाधिक प्रचलित है इसके द्वारा सूचना / डाटा सेन्ट्रल प्रोसेसिंग यूनिट को भेजा जाता है । Caps Lock / Num