Skip to main content

relational model in hindi - DBMS in hindi

 आज हम  computers  in hindi  मे   relational model in hindi-   DBMS in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- relational model in hindi (रिलेशनल मॉडल क्या है?):- इसमे रिलेशनल डेटा मॉडल सबसे पहले E.E.Codd द्वारा 1970 में तथा बाद में IBM के San Jose Reserch Laboratosy जो कि R सिस्टम के development के लिए Responsible है इसके द्वारा 1970 के दौरान ही Presented किया गया और दूसरी बार कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय बार्कले जो इन्ग्रेस अकादमिक ओरिएन्टेड RDMS के development के लिए Responsible है इसके द्वारा Presented किया गया । 1980 के आसपास कई producers द्वारा Professional  रिलेशनल डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (RDBMS)   producers को प्रारंभ किया गया और आजकल RDBMS's डेटाबेस मैनेजमेंट के लिए उच्च स्तर की Technique रखते है और अब Personal computers (  personal computer kya hai )और mainframe की limits में कई सारे  रिलेशनल डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (RDBMS )  इसमे आते हैं । इसमे रिलेशनल डेटा मॉडल में डेटा को tables के रूप में Displayed करते हैं । रिलेशनल मॉडल Mathema

आउटपुट डिवाइस क्या हैं और इसके प्रकार

आउटपुट डिवाइस क्या हैं ( What is output devices? )

क्या आप जानते हैं की Output device का मतलब क्या होता है ?
आउटपुट ( output ) का मतलब हैै  out का मतलब बाहर, और PUT का मतलब रखना होता है । Device में हम output को देखते हैं। अर्थात् Output device एक ऐसा डिवाइस है जिसमें हम कंप्यूटर में डाटा के रिजल्ट को देख सकते हैं मूल रूप से कहा जाए तो आउटपुट डिवाइस को हम विद्युत यंत्र यानी ( Electrical device) भी कहते हैं। जो Digital data को कंप्यूटर से प्राप्त करता है और उसे हमारे पास समझ में आने वाली भाषा में स्पष्ट रूप से प्रदर्शित करता है। कंप्यूटर में आउटपुट 0 और 1 के form में देता है जिसे हम Machine language  बोलते हैं मॉनिटर और स्पीकर ऐसे आउटपुट डिवाइस है जिसे व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाता है।इन दोनों डिवाइस में हमें तुरंत प्रतिक्रिया प्राप्त होती है
 जैसे मॉनिटर में हमने जो भी शब्द हम लिखते हैं या इनपुट करते हैं उसे मॉनिटर अपने स्क्रीन पर आउटपुट के रूप में दर्शाता है।
उसी प्रकार स्पीकर से हम तुरंत वह डेटा या गाना सुन लेते हैं जिसे हम कंप्यूटर के playlist से चुनते हैं।

आउटपुट डिवाइस की परिभाषा ( define of output device)

कम्प्यूटर में संग्रहित सूचना अथवा कम्प्यूटर की किसी भी प्रक्रिया के परिणाम को हम प्राप्त करते हैं, उन्हें आउटपुट डिवाइस ( output device ) कहते हैं । 
ये आउटपुट सामान्यता टेक्स्ट ग्राफिक्स , फोटो ऑडियो / विडियो के रूप में होते हैं ।  इस कार्य के लिए अब तक कई आउटपुट डिवाइसों का विकास हो चुका है , लेकिन फिर भी वीडियों मॉनीटर और प्रिन्टर सबसे अधिक प्रयोग में आने वाली आउटपुट डिवाइसें हैं ।
1 Monitor
2 Printer 
3 Plotter 
4 Head phone
5 Speaker 
6 Projector 

1. Monitor ( Video display unit ) 

 इसे विडियों विजुअल डिस्प्ले यूनिट ( वीडीयू ) भी कहते है । मॉनीटर कम्प्यूटर से प्राप्त परिणाम को सॉफ्ट कॉपी के रूप में दिखाता है । मॉनीटर तीन प्रकार के होते हैं ; मोनोक्रोम डिस्प्ले मॉनीटर , R.G.B और कलर डिस्प्ले मॉनीटर ।
Moniter

कुछ प्रमुख प्रयोग में आने वाले मॉनीटर निम्न है
 》कैथोड रे टयूब ( Cathode Ray Tube - CRT ) : -
 यह एक आयताकार बॉक्स की तरह दिखने वाला मॉनीटर होता है । इसे डेस्कटॉप कम्प्यूटर के साथ आउटपुट देखने के लिए प्रयोग करते हैं । यह आकार में बड़ा तथा भारी होता है । इसकी स्क्रीन में पीछे की तरफ फॉस्फोरस की एक परत लगाई जाती है । इसमें एक इलेक्ट्रॉन गन ( Electron Gun ) होती है । येे मुख्य रूप से television के लिए बनाए गए मगर ये monitor आज कल कम्प्युटर कम उपयोग मे लिए जातेे है।
》एलसीडी ( Liquid Crystal Display - LCD ) :-
 LCD एक प्रकार की अधिक प्रयोग में आने वाली आउटपुट डिवाइस है । यह CRT की अपेक्षा काफी हल्का किन्तु महँगा आउटपुट डिवाइस है । इसका प्रयोग लैपटॉप में , नोटबुक में , पर्सनल कम्प्यूटर में , डिजिटल घड़ियों आदि में किया जाता है । LCD में दो प्लेट होती हैं । इन प्लेटों के बीच में एक विशेष प्रकार का द्रव ( Liquid ) भरा जाता है । जब प्लेट के पीछे से पर निकलता है तो प्लेट्स के अन्दर के द्रव एलाइन होकर चमकते हैं , जिससे चित्र दिखाई देने लगता है । 
》 LED (Light Emitted Dioded ) :-
एक प्रकार की इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है।  यह एक Output device  है जिसका प्रयोग कंप्यूटर से प्राप्त output को देखने के लिए करते हैं।  यह आजकल घरों में टेलीविजन की तरह प्रयोग किया जाता है।  इसके अंदर छोटे - छोटे LED (Liauid |Emitted Diode) लगे हुए हैं।आजकल LEDs लाल , हरा और नीला प्रकाश उत्पन्न कर सकते हैं इन सभी रंगो के सहयोग से विभिन्न रंग के चित्र LED पर दिखाई देते हैं।

टीएफटी ( Thin - Film - Transistor - TFT ) 

TFT और एक्टिव मैट्रिक्स LCD ( amlcd ) एक प्रकार की आउटपुट डिवाइस है TFT में एक पिक्सल को कण्ट्रोल करने के लिए एक से चार ट्रांजिस्टर लगे होते हैं । ये ट्रांजिस्टर पैसिव मैट्रिक्स की अपेक्षा स्क्रीन को काफी तेज , चमकीला , ज्यादा कलरफुल बनाते हैं । इस आउटपुट डिवाइस की मुख्य बात ये है कि हम इसमें बने चित्र को विभिन्न Angles से भी देख सकते हैं । जबकि अन्य मॉनीटर में यदि विभिन्न कोणों Angles से चित्र देखने पर चित्र स्पष्ट दिखाई नहीं देते हैं TFT अन्य मॉनीटर्स की अपेक्षा महँगा , लेकिन काफी अच्छी क्वालिटी का चित्र डिस्प्ले ( Display ) करने वाला output device है ।

2. Printers 

 Printer एक प्रकार का output device होता है । इसका प्रयोग कम्प्यूटर से प्राप्त डेटा और सूचना को किसी कागज पर प्रिंट करने के लिए करते हैं । यह ब्लैक और वाइट के साथ - साथ कलर डॉक्यूमेंट को भी प्रिंट कर सकते है । किसी भी printer की क्वालिटी उसकी प्रिंटिग की क्वालिटी पर निर्भर करती है अर्थात् जितनी अच्छी प्रिंटिंग क्वालिटी होगी , Printer उतना ही अच्छा माना जाएगा । किसी printer की गति कैरेक्टर प्रति सेकण्ड ( Character per secound - CPS ) में , लाइन प्रति मिनट ( Line per minute - LPM ) में और मेजेज प्रति मिनट (Pages per minute-PPM) में मापी जाती है।
Output device

किसी printer की क्वालिटी डॉट्स प्रति इंच में मापी जाती है अर्थात् पेपर पर एक इंच में जितने ज्यादा - से - ज्यादा बिन्दु होंगे  प्रिंटिंग उतनी ही अच्छी होगी । प्रिंटर को दो  भागों में बाँटा गया है।
Impact Printer
Non-Impact Printer

●Impact Printer 

यह printer टाइपराइटर की तरह कार्य करता है । इसमें अक्षर छापने के लिए छोटे - छोटे पिन या हैमर्स का उपयोग होता हैं । इन पिनों पर अक्षर बने होते हैं । ये पिन स्याही से लगे हुए रिबन और उसके बाद पेपर पर प्रहार करते हैं , जिससे अक्षर पेपर पर छप जाते हैं । impact printer एक बार में एक कैरेक्टर या एक लाइन प्रिण्ट कर सकता है । इस प्रकार के printer  ज्यादा अच्छी क्वालिटी की प्रिंटिंग नहीं करते हैं । ये printer ओर printers की तुलना में सस्ते होते हैं और प्रिंटिंग के दौरान आवाज अधिक करते हैं , इसलिए इनका प्रयोग कम होता है।
Impact printer चार प्रकार के होते हैं -
1 Dot matrix printer
2 Daisy wheel printer
3 Line printer
4 Drum printer

● Non-Impact Printer 

ये printer कागज पर प्रहार नहीं करते , बल्कि अक्षर या चित्र प्रिट करने के लिए स्याही की फुहार कागज पर छोड़ते हैं । नॉन इम्पैक्ट printer प्रिंटिंग में  इंकजेट तकनीकी का प्रयोग करते हैं । इसके द्वारा उच्च क्वालिटी के ग्राफिक्स और अच्छे अक्षरों को छापता है । ये printer , impact printer से महँगे होते हैं , किन्तु इनकी छपाई Impact printer की अपेक्षा ज्यादा अच्छी होती है ।
Non-Impact Printer के प्रकार निम्न है-
1 Inkjet printer
2 Thermal printer
3 Laser printer
4 Elector magnetic printer
5 Elector static printer
प्रिंटर की अधिक जानकारी के लिए लिंक पर क्लिक करें ।

3. Plotter

Output device

प्लॉटर एक Output device है , जिसका प्रयोग बड़ी ड्राइंग या चित्र जैसे कि कंस्ट्रक्शन प्लान्स ( Construction Plans ) , मैकेनिकल वस्तुओं की ब्लूप्रिंट आदि के लिए करते हैं । इसमें ड्रॉइंग बनाने के लिए पेन , पेन्सिल , मार्कर आदि राइटिंग टूल का प्रयोग होता है । यह प्रिंटर की तरह होता है। इसके द्वारा छपाई अच्छी होती है , परन्तु ये बहुत धीमे होते हैं तथा मूल्य भी अपेक्षाकृत अधिक होता है । लेजर प्रिंटरों के आ जाने के बाद इनका प्रयोग लगभग समाप्त हो गया है ।
प्लॉटर की अधिक जानकारी के लिए लिंक पर क्लिक करें ।

4. Head Phones


Output device
Head Phones एक प्रकार की Output device है । जिसमें लाउड स्पीकर होते है तथा इसकी बनावट ऐसी होती है कि ये सिर पर बेल्ट की तरह पहना जा सकता है तथा दोनों स्पीकर मनुष्य के कान के ऊपर आ जाते हैं । इसलिए इसकी आवाज सिर्फ इसे पहनने वाला व्यक्ति ही सुन सकता है । किसी - किसी हैड फोन के साथ माइक भी लगा होता है , जिससे सुनने के साथ - साथ बात भी की जा सकती है । इस उपकरण का प्रयोग प्रायः टेलीफोन ऑपरेटरों , कॉल सेण्टर ऑपरेटरों , कमेण्टेटरों आदि द्वारा किया जाता है ।

5. Speaker

Output device
यह एक प्रकार का output device होता है।जो कम्प्यूटर से प्राप्त आउटपुट से प्राप्त आउटपुट को आवाज के रूप में  सुनाता है । यह कम्प्यूटर से डेटा विद्युत धारा के रूप में प्राप्त करता है । इसे सीपीयू से जोड़ने के लिए साउण्ड कार्ड की जरूरत पड़ती है । यही साउण्ड कार्ड साउण्ड उत्पन्न करता है । इसका प्रयोग गाने सुने मे करते हैं । कम्प्यूटर स्पीकर वह स्पीकर होता है जो कम्प्यूटर में आन्तरिक या बाह्य रूप से लगा होता है । 

6. Projector

Output device
 यह एक प्रकार का output device है , जिसका प्रयोग कम्प्यूटर से प्राप्त सूचना या डेटा को एक बड़ी स्क्रीन पर देखने के लिए करते हैं । इसकी सहायता से एक समय में बहुत सारे लोग एक समूह में बैठकर कोई परिणाम देख सकते हैं । इसका प्रयोग क्लास रूम ट्रेनिंग या एक बड़े कॉन्फ्रेन्स  हॉल जिसमें ज्यादा संख्या में दर्शक हों , जैसी जगहों पर किया जाता है । इसके द्वारा छोटे चित्रों को बड़ा करके सरलतापूर्वक देखा जा सकता है । यह एक प्रकार का अस्थायी output device है ।




Releted topic  

Comments

Popular posts from this blog

कंप्यूटर की पीढियां । generation of computer in hindi language

generation of computer in hindi  :- generation of computer in hindi language ( कम्प्युटर की पीढियाँ):- कम्प्यूटर तकनीकी विकास के द्वारा जो कम्प्यूटर के कार्यशैली तथा क्षमताओं में विकास हुआ इसके फलस्वरूप कम्प्यूटर विभिन्न पीढीयों तथा विभिन्न प्रकार की कम्प्यूटर की क्षमताओं के निर्माण का आविष्कार हुआ । कार्य क्षमता के इस विकास को सन् 1964 में कम्प्यूटर जनरेशन (computer generation) कहा जाने लगा । इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर के विकास को सन् 1946 से अब तक पाँच पीढ़ियों में वर्गीकृत किया जा सकता है । प्रत्येक नई पीढ़ी की शुरुआत कम्प्यूटर में प्रयुक्त नये प्रोसेसर , परिपथ और अन्य पुर्षों के आधार पर निर्धारित की जा सकती है । ● First Generation of computer in hindi  (कम्प्युटर की प्रथम पीढ़ी) : Vacuum Tubes ( वैक्यूम ट्यूब्स) ( 1946 - 1958 ):- प्रथम इलेक्ट्रॉनिक ' कम्प्यूटर 1946 में अस्तित्व में आया था तथा उसका नाम इलैक्ट्रॉनिक न्यूमेरिकल इन्टीग्रेटर एन्ड कैलकुलेटर ( ENIAC ) था । इसका आविष्कार जे . पी . ईकर्ट ( J . P . Eckert ) तथा जे . डब्ल्यू . मोश्ले ( J . W .

पर्सनल कंप्यूटर | personal computer

पर्सनल कंप्यूटर क्या है? ( Personal Computer kya hai ?) :- personal computer definition :- ये Personal computer  क्या है शायद हम सभी लोगों यह  पता होगा क्यूंकि इसे हम अपने घरों में, offices में, दुकानों में देखते हैं  Personal computer (PC) किसी भी उपयोगकर्ता के उपयोग के लिए बनाये गए किसी भी छोटे और सस्ते कंप्यूटर का निर्माण किया गया । सभी कम्प्युटर Microprocessors के विकास पर आधारित हैं। Personal computer  का उदाहरण माइक्रो कंप्यूटर,  डेस्कटॉप कंप्यूटर, लैपटॉप कंप्यूटर, टैबलेट हैं। पर्सनल कंप्यूटर के प्रकार ( personal computer types ):- ● डेस्कटॉप कंप्यूटर (Desktop) ● नोटबुक (Notebook) ● टेबलेट (tablet) ● स्मार्टफोन (Smartphone) कम्प्युटर का इतिहास ( personal computer history) :- कम्प्यूटर के विकास   (personal computer evolution)  के आरम्भ में जो भी कम्प्यूटर विकसित किया जाता था , उसकी अपनी एक अलग ही संरचना होती थी । तथा अपना एक अलग ही नाम होता था । जैसे - UNIVAC , ENIAC , MARK - 1 आदि । सन् 1970 में जब INTEL CORP ने दुनिया का पहला माइक्रोप्रोसेसर (

कम्प्युटर कीबोर्ड क्या है और कीबोर्ड के प्रकार

कम्प्युटर कीबोर्ड क्या है ( keyboard in hindi ) की - बोर्ड लगभग टाइपराइटर के सामान ही होता है , फर्क सिर्फ इतना है कि टाइपराइटर में लगे बटनों की अपेक्षा की - बोर्ड के बटन आसानी से दबते हैं जिससे लम्बे समय तक कार्य करने में सुविधा रहती है । की - बोर्ड के बटनों में एक खास बात यह भी होती है कि किसी बटन को कुछ देर तक दबाए रखा जाये तो  वह स्वयं को repeats होता है ।  की - बोर्ड एक केबल के द्वारा कम्प्यूटर से जुड़ा होता है जिसका एक सिरा की - बोर्ड तथा दूसरा सिरा CPU के पीछे लगे एक सॉकेट में लगाया जाता है । टाइपराइटर की तुलना में की - बोर्ड में कई अधिक Keys होती हैं , जिनसे अनेक प्रकार के काम किये जाते है। की -  बोर्ड के सबसे ऊपर right side ओर तीन रोशनी देने वाली light लगी होती हैं । ये Caps Lock , Num Lock तथा Scroll Lock key की स्थिति दर्शाते रहते हैं । की - बोर्ड ( कुंजीपटल ) user के निर्देशों / आदेशों अथवा डाटा / सूचना को कम्प्यूटर में input कराने का महत्वपूर्ण माध्यम है तथा सर्वाधिक प्रचलित है इसके द्वारा सूचना / डाटा सेन्ट्रल प्रोसेसिंग यूनिट को भेजा जाता है । Caps Lock / Num