सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Oracle transaction | RDBMS in hindi - transaction

 आज हम RDBMS in hindi - transaction in hindi के बारे मे जानेगे क्या होता है तो चलिए शुरु करते हैं :-

Transaction in hindi (कार्यसम्पादन):-

डेटाबेस में डेटा से सम्बन्धित कई प्रकार के कार्य किए जाते हैं , उन कार्यों को transact ( सम्पादित ) करना ही transaction  ( कार्यसम्पादन ) कहलाता है । एक ट्रांजेक्शन के अन्तर्गत डेटा को पढ़ना तथा किसी सूचना को संग्रहित करना दोनों प्रकार के कार्य किए जा सकते हैं । 
एक ट्रांजेक्शन तभी पूर्ण या समाप्त माना जाता है जब उसे commit या rollback दे दिया जाए । यह दो सफल commits के मध्य निष्पादित किए जाने वाले कार्यों की एक logical unit ( तार्किक इकाई ) है । 
जब भी कोई ट्रांजेक्शन प्रारम्भ होता है तो डेटाबेस inconsistent ( असंगत ) स्थिति में आ है । inconsistent 
( असंगत ) स्थिति के अन्तर्गत एक ही प्रकार के समूह की एक से अधिक वैल्यूज़ के लिए एक से अधिक संख्या में परिणाम दिया जाता है । एक ही डेटाबेस से एक ही समूह की सूचनाओं को एक से अधिक जाता प्रयोगकर्ताओं के द्वारा access करना client server तकनीक की एक महत्वपूर्ण गतिविधि है । किसी ट्रांजेक्शन का प्रारम्भ प्राय : दो प्रकार से होता है-
1. Implicitly ( अस्पष्ट रूप से ) 
2. Explicitly ( स्पष्ट रूप से ) 

1. Implicitly ( अस्पष्ट रूप से ) :-

इस प्रकार का transaction ( कार्यसम्पादन ) DML स्टेटमेन्ट देने पर Implicitly ( अस्पष्ट रूप से ) स्वतः ही प्रारम्भ हो जाता है , इस प्रारम्भ को implicit प्रारम्भ कहा जाता है । इसे नियंत्रित करने के लिए locks का use किया जाता है । इन्हें shared lockexclusive lock कहा जाता है । 

2. Explicitly ( स्पष्ट रूप से ) :-

यदि कोई transaction in hindi ( कार्यसम्पादन ) explicitly तरीके से contral किया जाता है तो यह user पर निर्भर करता है कि वह इन transaction ( कार्यसम्पादन ) के द्वारा किए जाने वाले ऑपरेशन की कोडिंग किस प्रकार करता है।

Transaction states (Transaction की अवस्थाएं):-

1. Active State ( सक्रिय अवस्था ) 
2. Partially Committed state ( आंशिक रूप से प्रतिबद्ध अवस्था ) 
3. Aborted State ( विफल अवस्था ) 
4. Failed State ( असफल अवस्था ) 
5. Committed State ( प्रतिबद्ध अवस्था)

1. Active State ( सक्रिय अवस्था ):-

किसी transaction ( कार्यसम्पादन ) इस अवस्था पर तब पहुंचता है जब किसी transaction ( कार्यसम्पादन ) का initialization आरंभीकरण ) किया जाता है । जब transaction ( कार्यसम्पादन ) को प्रारम्भ करने की प्रथम कमाण्ड दिया जाता है तब यह कहा जा सकता है कि transaction ( कार्यसम्पादन ) सक्रिय स्थिति में है । 

2. Partially Committed state ( आंशिक रूप से प्रतिबद्ध अवस्था ) :-

transaction ( कार्यसम्पादन ) इस अवस्था पर तब पहुंचता है जब डेटाबेस transaction ( कार्यसम्पादन ) का अंतिम स्टेटमेन्ट execute ( कार्यान्वित ) कर देता है ।

3. Aborted State ( विफल अवस्था ) :-

जब transaction ( कार्यसम्पादन ) की सामान्य प्रक्रिया सिस्टम के किसी हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर के फेल होने के कारण सिस्टम प्रक्रिया को आगे नहीं बढ़ा सकता है तो ऐसी स्थिति में transaction in hindi( कार्यसम्पादन ) विफल अवस्था में आ जाता है । 

4. Failed State ( असफल अवस्था ):-

Transaction in hindi


यदि कोई ट्रांजेक्शन विफल की अवस्था में आ चुका है , उसके बाद वह असफल की अवस्था में जा जाएगा तथा वह ट्रांजेक्शन अपनी सामान्य अवस्था अर्थात् ट्रांजेक्शन प्रारम्भ होने से पूर्व की अवस्था में पहुंच जाता है । 

5. Committed State ( प्रतिबद्ध अवस्था ) :-

जब टेबल पर किए गए सभी बदलाव तथा सभी ऑपरेशन सफलता पूर्वक हो जाते हैं तो किसी ट्रांजेक्शन को प्रतिबद्ध कहा जाता है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना