सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

cordless tele communication

 आज हम computers in hindi मे cordless tele communication in hindi - computer network in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- 

cordless tele communication system:-

cordless tele communication सामान्यत : कॉर्डलैस टर्म का उपयोग अधिकतर उन उपकरणों का mention करने के लिए किया जाता है , जो इलैक्ट्रॉनिक हैं अथवा इलैक्ट्रिल हैं तथा वे बिना किसी तार के भी अपना कार्य करने में सक्षम हैं । wireless होने से उनके कार्य की गतिशीलता में कोई बाधा उत्पन्न नहीं होती है । 
कॉर्डलैस सिस्टम स्तर का मूल्यांकन कॉर्डलैस टेलीफोन तकनीक से हुआ है वास्तव में कॉर्डलैस को विकसित इसलिए किया गया कि प्रयोगकर्ता को एक निश्चित वरीयता में गतिशीलता मिल सके । घरों में या छोटे कार्यालयों में टेलीफोन के बजाय एक अलग हैण्डसैट मिल सके जो कि wireless हो तथा वह एनॉलॉग हो । 
इस तकनीक के अन्तर्गत घरों के अन्दर एक ही बेस स्टेशन के द्वारा ध्वनि तथा डेटा प्रदान किया जाता है । इसका प्रयोग घर मेंcommunication के लिए भी किया जाता है तथा इसके अतिरिक्त यह पब्लिक नेटवर्क के साथ भी कनैक्शन प्रदान करता है ।
इस तकनीक के अन्तर्गत कार्यालयों में भी इसका प्रयोग किया जा सकता है कार्यालय में भी एक एक ही बेस स्टेशन के द्वारा कई टेलीफोन हैण्डसैट तथा डेटा उपकरणों को सपोर्ट करता है । यदि प्रयोगकर्ताओं की संख्या ज्यादा हो तो मल्टीपल बेस स्टेशनों का उपयोग किया जाता है । 
कॉर्डलैस टेलीफोन को पोर्टेबल टेलीफोन भी कहा जाता है । यह टेलीफोन अर्थात् हैण्डसैट wireless होता है , जो कि बेस स्टेशन के साथ जुड़ा होता है । इसकी कार्यक्षेत्र की दूरी / सीमा ( range ) निश्चित होती है । बेस स्टेशन एक लैण्डलाईन फोन से जुड़ा होता है । यह कम्यूनिकेशन तकनीक रेडियो तकनीक पर आधारित होती है । इसमें कम्यूनिकेशन रेडियो आधारित होता है । wireless हैण्डसैट की दूरी / range बेस स्टेशन से कुछ मीटर्स ( लगभग 20-30 मीटर ) तक की होती है ।

Types of cordless tele communication :-

कॉर्डलैस टेलीकम्यूनिकेशन सिस्टम के दो भाग होते हैं 
1. बेस स्टेशन 
2. दूसरा हैण्डसैट । 
बेस स्टेशन स्थिर भाग होता है , यह बेस स्टेशन PSTN ( public switched telephone network ) से जुड़ा होता है । बेस स्टेशन से हैण्डसैट तरंगों के माध्यम से जुड़ा होता है । हैण्डसैट भाग पोर्टेबल होता है इसमें एक बैट्री लगी होती हैं इसके बेस स्टेशन पर रखकर चार्ज किया जाता है । बेस स्टेशन को तार के माध्यम से बिजली से जोड़ दिया जाता है । हैण्डसैट के चार्ज होने के पश्चात् हैण्डसेट अपनी निश्चित दूरी तक कार्य कर सकता है ।
इस तकनीक के हैण्डसैट में एक बैट्री लगी होती है , जिसे बेस स्टेशन पर रखकर चार्ज किया जाता है । बेस स्टेशन का प्रयोग हैण्डसैट को चार्ज करने व इसे पब्लिक टेलीफोन नेटवर्क  से जुड़ने के लिए किया जाता है । बेस स्टेशन को तार के माध्यम से बिजली से जोड़ दिया जाता है । 
इस प्रकार के फोन की रेंज 1.7 MHz से लेकर 5.8 GHz तक की होती है । इस तकनीक में आवश्यकतानुसार उचित फ्रीक्वेन्सी बैण्ड का प्रयोग किया जाता है । इस तकनीक में सिग्नल्स को सुरक्षित रखने के लिए DSS ( digital spread spectrum ) का प्रयोग किया जाता है । इस तकनीक के द्वारा ध्वनि की तरंगों को प्रसारित करने के लिए 3 KHz की बैण्डविड्थ का प्रयोग किया जाता है । इस कारण इन सिग्नल्स को उसी नेटवर्क के हैण्डसैट व बेस स्टेशन के द्वारा प्राप्त किया जा सकता है । अत : इस दृष्टि से डिजिटल सिग्नल और अधिक सुरक्षित होते हैं । 
जैसे - जैसे यह तकनीक उच्च स्तर पर विकसित होती गई वैसे - वैसे इसका रूपान्तरण डिजिटल में होता गया , तथा परिणामस्वरूप डिजिटल कॉर्डलैस टेलीफोन विकसित हो गए । इसके अन्तर्गत एक ही बेस स्टेशन एक से अधिक प्रयोगकर्ताओं को सपोर्ट करता है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

What is Message Authentication Codes in hindi (MAC)

What is  Message Authentication Codes in hindi (MAC) :- Message Authentication Codes (MAC) , cryptography के सबसे attractive और complex areas में से एक message authentication और digital signature का area है। सभी क्रिप्टोग्राफ़िक फ़ंक्शंस और प्रोटॉल्स को समाप्त करना असंभव होगा, जिन्हें message authentication और digital signature के लिए executed किया गया है।  यह message authentication और digital signature के लिए आवश्यकताओं और काउंटर किए जाने वाले attacks के प्रकारों के introduction के साथ होता है। message authentication के लिए fundamental approach से संबंधित है जिसे Message Authentication Code (MAC)  के रूप में जाना जाता है।  इसके दो categories में MACs की होती है: क्रिप्टोग्राफिक हैश फ़ंक्शन से बनाई और ऑपरेशन के ब्लॉक सिफर मोड का उपयोग करके बनाए गए। इसके बाद, हम एक relatively recent के approach को देखते हैं जिसे Authenticated encryption के रूप में जाना जाता है। हम क्रिप्टोग्राफ़िक हैश फ़ंक्शंस और pseudo random number generation के लिए MCA के उपयोग को देखते हैं। message authentication ए