सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

computer glossary in hindi - कम्प्यूटर शब्दावली "B"

आज हम computer in hindi मे आज हम computer glossary in hindi (कम्प्यूटर शब्दावली) के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

computer glossary in hindi (कम्प्यूटर शब्दावली) "B" :-

BASIC + :-

यह बेसिक प्रोग्रामिंग भाषा का उच्च एवं powerful version है , यह बहुत बड़ी मात्रा में डेटा को प्रोसेस कर सकता है । 

BBS :-

इसका पूरा नाम बुलेटिन बोर्ड सिस्टम (bulletin board system) है तथा यह मोडेम के द्वारा एक कम्प्यूटर से दूसरे कम्प्यूटर में स्टोर सूचनाओं के लिए प्रयोग किया जाता है । 

BCD :-

यह बाइनरी कोडेड डेसिमल का संक्षिप्त नाम है । 

BDOS :-

यह ' बेसिक डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम ' का रूप है । 

BVD Adder :-

इलैक्ट्रानिक विद्युत परिपथ प्रत्येक 4 बिट के ऊपर 2 संख्याओं को coded करता है । 

BCD Code:-

 Binary Coded Decimal Code का रूप ।

BCH Code :-

Bose Chaudhary Hocquenghen Code का रूप ।

BIOS :-

अर्थात् बेसिक इनपुट आउटपुट सिस्टम ।

 BL :-

कम्प्यूटर में टेक्स्ट लिखते समय बीच का खाली स्थान BL के द्वारा दर्शाया जाता है । 

BPI :-

Bits Per Inch पुरा नाम है ।

 BPS :-

बिट्स पर सेकेण्ड अर्थात् मोडेम द्वारा एक सेकण्ड में स्थानान्तरित किए जाने वाले डेटा को मापने में प्रयोग इकाई ।

BOT :-

कम्प्यूटर में डेटा स्टोर करने के लिए प्रयुक्त होने वाली टेप के स्टार्टिंग प्वाइंट को BOT कहते हैं । 

BROM :-

अर्थात् - बाइपोलर रीड ओनली मेमोरी । इस प्रकार की मेमोरी बाइपोलर सेमीकंडक्टर उपकरणों द्वारा प्रयोग की जाती है ।
-:computer glossary in hindi (कम्प्यूटर शब्दावली):-

BSC :-

इसका अर्थ है- बाइनरी सिंक्रनाइज कम्युनिकेशन तथा डेटा ट्रांसमिशन के reference में प्रयोग किया जाता है ।

Backend Processor :-

किसी specific objective की पूर्ति के लिए लगाया गया अतिरिक्त प्रोसेसर 

Background :-

मल्टी प्रोग्रामिंग वातावरण में कम शक्ति वाले प्रोग्रामों का implementation 

Background Noise:-

 OCR उपकरणों अथवा स्कैनरों द्वारा कार्य करते समय उत्पन्न होने वाली ध्वनि ( आवाज ) | 

Background Processing :-

कम्प्यूटर के किसी निम्नस्तरीय प्रोग्राम द्वारा की जा रही डेटा प्रोसेसिंग 

Background Program:-

 वह प्रोग्राम जिसके प्रयोग की कोई विशेष जरूरत नहीं होती है । 

Background Reflectance :-

एक कैरेक्टर के चारों ओर के प्रतिबिम्ब की मात्रा को निर्धारित करने वाली पहचान । 

Backward Chaining:-

 खोजने अथवा ढूंढ़ने की वह तकनीक जो first stage की ओर ले जाने में सहायक है । 

Babble :-

अनेक चैनलों का आपसी संबंध 

Backbone :-

इस शब्द का प्रयोग इंटरनेट से संबद्ध सभी उपकरणों व मार्गों के लिए होता है । 

Background:-

 कम शक्ति के प्रोग्रामों में मल्टी प्रोग्रामिंग environment का implementation 

Background Noise :-

एक प्रकार की आवाज जो स्कैनर या ओ . सी . आर . उपकरणों से होती है । 

Background Processing :-

वह डेटा प्रोसेसिंग जो कम्प्यूटर के किसी निम्न स्तरीय प्रोग्राम द्वारा की जा रही हो । 

Background Programme :-

अनावश्यक प्रोग्राम जिनकी कोई आवश्यकता नहीं होती ।

Backing Up :-

Backing up वह क्रिया होती है जिसमें डेटा फाइल या प्रोग्राम फाइल की प्रतियां बनती हैं ।

Back Office :-

इंटरनेट कम्पनी द्वारा एकाउंटिंग , सर्विस व्यवस्था आदि किए जाने वाले activity को बैंक आफिस कहते हैं । 

Back Slash :-

कम्प्यूटर के की - बोर्ड की एक ' की ' को कहते हैं ।
-:computer glossary in hindi (कम्प्यूटर शब्दावली):-

Batch Processing:-

 बैच प्रोसेसिंग प्रक्रिया में एक ही फाइल में अनेक कमांड लिखकर उन्हें execute किया जाता है । 

Batch Total :-

Batch Total बैच रिकार्डों के समूह का योग होता है ।

Batten System :-

वी . बैटन द्वारा invented डेटा को sorted करने की एक विधि । 

Battery System :-

बैटरी बैकअप क्रिया में कम्प्यूटर को U.P.S. सिस्टम के द्वारा प्रयोग किया जाता है । 

Band Rate :-

प्रति मिनट प्रिंट की संख्या । 

Baudot , Emile :-

एक आविष्कारकर्ता जिन्होंने Baudot Code का आविष्कार सन् 1880 में किया था । 

Baud Rate :-

एक सेकण्ड में स्थानांतरित किया जाने वाला एक डेटा मोडेम। 

Bay:-

Bay एक तरह का Rack या Calonet है जिसमें इलेक्ट्रानिक उपकरण को Install किया जाता है । 

BBC Micro ( Acron ) :-

6502 प्रोसेसर पर आधारित एक माइक्रो कम्प्यूटर जिसमें 16K RAM होती है । 

Bead :-

बहुत अधिक संख्या में डाटा बेस रिकार्ड का leading

Bebugging :-

किसी प्रोग्राम में जानबूझकर की गई गलतियां । 

Beenet :-

Local Area Network ( LAN ) , जहां सूचनाओं को भेजने की दर 1 मेगा बिट प्रति सेकण्ड होती है । 

Begining of Information:-

 Maker Begining of Tape Maker के समान । 

Begining of Tape Maker :-

चुम्बकीय टेप के उस बिन्दु पर निशान लगाना जहां सूचनाएं संचित हैं । 

Bell 103 :-

300 बड्स प्रति सेकण्ड्स की गति वाला एक स्टैण्डर्ड मोडेम। 

Bells and Whistles :-

Bells and Whistles उसे कहते हैं जिसमें कम्प्यूटर सिस्टम की विशेष क्षमता की जानकारी प्राप्त होती है ।
-:computer glossary in hindi (कम्प्यूटर शब्दावली):-

Binary Coded Octal :-

3 बिट को मिलाकर आठ संख्याओं को संचित करना । 

Binary Counter:-

 गणना करने वाला जो प्रत्येक internal arrival पर 1 बाइनेरी से बढ़ता है 

Binary Encloding:-

 बाइनेरी के प्रारूप में प्रदर्शित करना , किसी भाषा का वर्ण समूह । 

Binary Notation :-

Base - 2 में लिखी गयी संख्याओं की पद्धति 

Binary Number System or Code :-

0 तथा ' 1 ' की दो अंकों को लेकर संख्याओं को लिखना । 

Binary Point:-

 mixed बाइनेरी संख्याओं का मूल बिंदू जो टुकड़ों वाले भाग को अलग करता है । 

Binary Relation :-

दो समूहों के बीच का संबंध । 

Binary Search :-

जब तक desired documents नहीं मिल जाते , यह चुने हुए दस्तावेजों की जांच करता है । 

Binary Requence :-

बाइनेरी अंकों की Successor । 

Binary Synchronous:-

 IBM के कम्प्यूटर और दूर के टर्मिनल के बीच सूचनाओं का एक साथ भेजा जाना । 

Binary System :-

ऐसी numerical method जिसमें केवल दो अंक 0 तथा 1 प्रयोग किये जाते हैं।

Binary Variables:-

 दो मूल्यों में से किसी एक को अस्थिर मानना ( सत्य या गलत , 1 या 0 ) 

Binary Digit:-

 0 और 1 को Binary Digit कहते हैं । 

Binary - to - Decimal Conversion :-

वह प्रक्रिया जिसमें बाइनरी नंबर को दशमलव में बदलते हैं । 

Binary Time :-

सूचनाओं को मशीनी भाषा में कम्पाइल द्वारा परिवर्तित करने में समय लगने वाला समय । 

Biochip :-

जीव विज्ञान के लिए कम्प्यूटर संस्थानों द्वारा निर्मित की जाने वाली एक चिप । 

Biological Neuron :-

Biological vascular fibers जिसकी लम्बाई 0.01 मिली मीटर होती है । 

Bipolar :-

एक सिलिकॉन इन्टीग्रेटिड सर्किट जो MOSFET तकनीक द्वारा बनाया गया है ।

Bytes Per Inch :-

एक इकाई जो चुम्बकीय टेप के एक इंच के क्षेत्र में जमा होने वाली बाइट्स के लिए प्रयुक्त होती है । 

Bypass:-

 एक सहायक सर्किट जो किसी अन्य सर्किट पर डेटा के लोड को कम करने के लिए तैयार की गई है । 

Bypass Capacitor :-

विद्युत शोर को कम करने के लिए पॉवर सप्लाई में लगाने वाला एक यंत्र 

Byte :-

8 बिटों के समूह या एक अक्षर जैसे - AI 

Byte :-

ऐसी श्रेणी जिसमें बहुत - सी बिट होती हैं , एक यूनिट समझा जाता है । ये एक कैरेक्टर को दर्शाती हैं । 

Byte Machine:-

 एक ऐसा कम्प्यूटर जो विभिन्न बिट / बाइट की दूरी पर प्रत्यक्ष रूप से सूचनाओं को व्यवस्थित कर सकता है एवं उन तक ( सूचनाओं तक पहुंच सकता है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag