सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

वेब का परिचय

वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web):-

करीब 50 वर्षों से लोग एक ऐसे डाटाबेस का सपना देख रहे थे जोकि वैश्विक(universal knowledge) एवं सूचनाओं को रखता हो तथा जिसके माध्यम से विश्व के लोगों को आपस में जोड़ा जा सके। अब यह सपना पूरा हो चुका है, इस तकनीक की खोज की जा चुकी है। तकनीक का नाम है वर्ड वाइड वेब वर्ल्ड वाइड वेब(WWW)।वर्ल्ड वाइड वेब  एक प्रकार का डेटाबेस है जो पूरे विश्व में फैला हुआ है।
World wide web

वर्ल्ड वाइड वेब का विचार स्विजरलैंड में 1989 में CERN (अनुसंधान का यूरोपीय केंद्र) द्वारा प्रदान किया गया CERN अणु भौतिक विषय पर अनुसंधान करती थी। वेब का उद्भव इस आवश्यकता को ध्यान में रखकर किया गया था की विभिन्न देशों के फैले हुए वेज्ञानिक परस्पर निरन्तर बदलते रहने वाले डॉक्युमेंट, रिपोर्ट, ड्राइंग तथा फोटोज आदी के साथ समन्वय स्थापित कर सके। सर्वप्रथम जुड़े हुए डॉक्यूमेंट वाले वेब का प्रस्ताव मार्च 1989 में CERN एक भौतिक वैज्ञानिक टीम बर्नरली द्वारा आया। 1994 में CERN तथा MIT ने WWW Consortium का सेटअप करने के लिए एक एग्रीमेंट साइन किया। इस संस्था का गठन वेब का आगे विस्तार करने के लिए, प्रोटोकॉल मानक बनाने के लिए तथा विभिन्न साइट्स के बीच आपसी सामंजस्य बढ़ाने के लिए किया हैं। इसकी वेबसाइट http://www.we.org है। उसके बाद से हजारों कंपनी एवं यूनिवर्सिटी ने इस कंसोर्टियम से संबंध स्थापित किया।

WWW (World wide Web) प्रोटोकॉल के साधारण समूह पर आधारित एक ऐसी इंटरनेट सेवा है, जो किसी विशेष रुप से कॉनफिगरड़ सर्वर कंप्यूटर को इंटरनेट के द्वारा डॉक्यूमेंट एक मानक तरीके से भेजता है। वेब के मानक वविभिन्न कंप्यूटर प्लेटफार्म (जैसे UNIX, Windows 98, Windows 2000, Windows XP) पर प्रोग्राम को ऐसी सुविधा प्रदान करता है कि वह कंप्यूटर सर्वर से आने वाले सूचना को अच्छे फॉर्मेट में दिखा सके। इस प्रकार के प्रोग्राम को वेब browser कहते हैं। web browser को काम में लेकर WWW ने किसी भी वेबसाइड के लिए यह संभव कर दिया कि वह अपने पास कई सारे पेज में सूचना रख सकें, जिसमें टैक्स, साउंड,पिक्चर औऱ यहां तक कि वीडियो के साथ में दूसरे पेज को जोड़ने वाले लिंक भी हो। किसी भी लिंक पर क्लिक करने पर यूजर के सामने उस लिंक से जुड़ा हुआ पेज तुरंत ही आ जाता है। वर्ल्ड वाइड वेब और इंटरनेट, दोनों एक समान नहीं हैं, परंतु वे एक दूसरे से संबंधित तथा एक दूसरे पर आश्रित हैं। वास्तव में वर्ल्ड वाइड वेब internet का सबसेट है, जिसको हम internet का ग्राफिकल-इंटरफ़ेस कह सकते हैं। यह हमको सूचनाओ को एक्सेस करने के नए-नए तरीकों के बारे में जानकारी प्रदान करता है जिसके द्वारा लोग आपस में एक दूसरे जुड़ सकते हैं। वर्ल्ड वाइड वेब के मुख्य गुणधर्म निम्नलिखित हैं-

1. हाइपर टैक्स इंफॉर्मेशन सिस्टम(Hyper text information system) 
2.ग्राफिकल तथा आसान(Graphic and easy)
3. वेब लिंक्स (Web links)
अधिक जानकारी के लिये नीचे दीये गये लींक पर क्लिक करे👇👇👇
http://computerteachself.blogspot.com/2019/01/world-wide-web-main-property.html?m=0

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना