सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

MICROSOFT OUTLOOK: माइक्रोसॉफ्ट आउटलुक

आउटलुक

Microsoft Outlook (आउटलुक):- 

Outlook Ms Office का एक Application प्रोग्राम है इसे आप अपने Laptop, कंप्यूटर में भी Use कर सकते है यह माइक्रोसॉफ्ट Company द्वारा Develop किया गया एक Software प्रोग्राम है।

अगर आप Microsoft Software का Use कर रहे है तो आपको Microsoft Mail की भी जरूरत होगी अगर आपके पास माइक्रोसॉफ्ट का Outlook Account नही है तो आप इस पर कुछ ही समय में Account बना सकते है जिससे आप अपने इंटरनेट Connection की Help से अपने Email, Calander, Work Or Contact तक पहुँच सकते है|
यह Email Client Software होता है जो आपके कंप्यूटर में आपके Email Account के सभी Email भेजने और प्राप्त करने की सुविधा प्रदान करता है यह POP (पोस्ट ऑफ़िस प्रोटोकॉल) और Imap (इंटरनेट मैसेज एक्सेस प्रोटोकॉल) को Support करती है|
Office Outlook(आफिस आउटलुक)  का use कैसे करे:- ऑफिस आउटलुक सिलेक्ट करें। यदि आपने न्यूज रीडर सेट अप परिवर्तित नहीं किया है तो माइक्रोसॉफ्ट आउटलुक अपने आप ही विंडो मेल न्यूज रीडर पर सेट अप हो जाता है। यह न्यूज़ रीडर  नेटवर्क न्यूज़  ट्रांसपोर्ट प्रोटोकोल  न्यूज रीडर  होते हैं, जिनका उपयोग  करके  आप  न्यूज़ ग्रुप  की सामग्री को  डाउनलोड कर सकते हैं  और फिर  इंटरनेट से  कनेक्ट नहीं रहने पर  इस पर  काम कर सकते हैं। मेन्यु  से  गो-न्यूज़  सिलेक्ट करें।  यदि आपको  माइक्रोसॉफ्ट आउटलुक  के  गो मैन्यू में  न्यूज़ आइटम  नजर नहीं आता  तो निम्न कार्य करें। स्टैंडर्ड टूल बार पर टूल बार ऑप्शन एरो पर क्लिक करें। एंड या रिमूव बटन को प्वाइंट करें और फिर कस्टमाइज  पर क्लिक करें। कमांड टैब पर क्लिक करें। केटेगरी  लिस्ट में, गो  पर  क्लिक करें। कमांड लिस्ट में, न्यूज़ पर क्लिक करें और इसे ड्रैग करके को मैन्यू में रखें। इसके बाद आप कस्टमाइज विंडो को बंद कर सकते हैं।

इंस्टेंट मैजेसिग:- इंस्टेंट मैसेजिंग के जरिए आप किसी अन्य व्यक्ति से या संयुक्त रूप से अनेक लोगों के समुदाय  के साथ  वार्तालाप  कर सकते हैं  यह ईमेल के समान  हैं।  अंतर यह है कि  इसमें आप  संदेश को टाइप करते ही  भेजा और प्राप्त किया  जा सकता है।  यदि दोनों तरफ के लोग एक समय में  ऑनलाइन है,  तो इस पर  आप पूर्ण रूप से  वार्तालाप कर सकते हैं।  विभिन्न प्रकार के  इंस्टेंट  मैसेंजर  मौजूद है,  जैसे याहू  मैसेंजर,  विंडो लाइव मैसेंजर,  आइसीक्यू,  गूगल टॉक  आदि।
मैसेंजर:- मैसेंजर को उपयोग करने के लिए, सबसे पहले इंटरनेट से डाउनलोड करने और अपने कंप्यूटर पर  इंस्टॉल करने  की आवश्यकता  होती है। अब, विंडोज  लाइव  मैसेंजर को  डाउनलोड  करें  और इसे  इंस्टॉल करें।
 स्टार्ट:- ऑल प्रोग्राम को सिलेक्ट करें। विंडोज लाइव मैसेंजर को स्टार्ट करने के लिए, विंडोज लाइव फोल्डर में, विंडोज लाइव मैसेंजर को क्लिक करें। अपना ईमेल एड्रेस और पासवर्ड लिखें और फिर साइन इन पर क्लिक करें।
अपने कांटेक्ट के साथ चेटिंग:- अब आप चैट शुरू करने के लिए तैयार हैं। मुख्य मैसेंजर स्कीम में, ऑनलाइन कांटेक्ट के नाम पर डबल क्लिक करें  आने वाले वार्तालाप  विंडो के  बॉटम पर स्थित बॉक्स में, अपना संदेश  टाइप करें और  सेंड क्लिक करें  या बस एंटर प्रेस करें। यह संदेश आपके  कांटेक्ट के  स्क्रीन पर दिखाई पड़ता है।  इसी तरीके से,  आपके कांटेक्ट से आने वाला संदेश  आपके स्क्रीन पर  प्रदर्शित  होता है। कन्वर्सेशन  विंडो के ऊपरी भाग में  पूर्ण कन्वर्सेशन को आप देख सकते हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना