सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

SMTP Kya hai? - what is SMTP in hindi

आज हम  computers in hindi  मे SMTP Kya hai? ( what is SMTP in hindi) smtp ka full form kya hai - internet tools in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- SMTP Kya hai? (what is SMTP in hindi):- यह प्रोटोकॉल ई - मेल मैसेज को सीधे सर्वर पर अपलोड कर देता है । स्टैटिक IP एड्रेस वाले सर्वर इस प्रोटोकॉल के माध्यम से मैसेज भी प्राप्त कर सकते हैं । smtp ka full form kya hai:- simple mail transfer protocol  simple mail transfer protocol in hindi:- इंटरनेट प्रोटोकॉल नेटवर्क पर ई - मेल ट्रांसफर के लिए यह प्रोटोकॉल प्रयोग में लिया जाता है । ई - मेल क्लाइंट सॉफ्टवेयर ई - मेल मैसेज भेजने के लिए SMTP का प्रयोग करते हैं तथा मैसेज प्राप्त करने के लिए पोस्ट ऑफिस प्रोटोकॉल ( POP ) या इंटरनेट मैसेज एक्सेस प्रोटोकॉल ( IMAP ) का प्रयोग करते हैं । SMTP    सर्वर  इसके लिए पोर्ट नंबर 25 का प्रयोग करते हैं ।  simple mail transfer protocol   ई - मेल मैसेज को सीधे   सर्वर  पर अपलोड कर देता है । स्टैटिक IP एड्रेस वाले   सर्वर  इस प्रोटोकॉल के माध्यम से मैसेज भी प्राप् कर सकते हैं ।

डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम क्या है(what is Data Base Management System?DBMS)

डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम(Data Base Management System-DBMS):-
डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS) एक ऐसा सिस्टम होता है जोकि डेटाबेस को बनाने वह उसे मैनेज करने की सुविधा प्रदान करता है। वास्तव में यह एक सॉफ्टवेयर होता है जिसके अंतर्गत डेटाबेसडेटाबेस टेबल्स बनाने, टेबल्स में रिकॉर्ड डालने, रिकॉर्ड्स में परिवर्तन करने, रिकॉर्ड्स को डिलीट, करने समय समय पर बैकअप लेने आदि की सुविधा दी जाती है।
डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS)

Architecture of Data Base Management System-DBMS:-
DBMS(Data Base Management System) Architecture से अभिप्राय डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम(DBMS) के प्रारूप अथवा ढांचे से है।
डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम(DBMS) के आर्किटेक्चर तो दो प्रकार से परिभाषित किया जा सकता है  जो निम्नलिखित है-
1. Three Schema Architecture(TSA)
2. Client Server Architecture (CST)

1. Three Schema Architecture(TSA):- इसमें तीन प्रकार की layer पायी जाती है जो निम्नलिखित है-
A. External/User layer
B. Conceptual/ DBMS layer
C. Internal Physical  layer

A. External/User layer:-
यह वह लेयर है चाहा प्रयोगकर्ता(user) काम करता है इसलिए यह layer user layer कहलाती है। यूजर यहीं से Database को query देता है तथा यहीं पर उसे que ry का result (परिणाम) अर्थात आउटपुट प्राप्त होता है। यह लेयर उच्च लेवल पर abstraction प्रदान करता है इसमें यूजर द्वारा मांगे गए आउटपुट को ध्यान में रखा जाता है, यह नहीं देखा जाता कि  डाटा  किस प्रकार प्राप्त होगा। डाटा को प्राप्त करने के लिए  इस लैंग्वेज में query interface लिया जाता है  जहां पर User अपनी query type करता है तथा इसी layer पर उसे result प्राप्त होता है इस layer पर user query दे सकता है, query से प्राप्त परिणाम देखा जा सकता है, Data में बदलाव जैसे update delete कर सकता है, नया record भी insert कर सकता है। यह लेयर डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम(DBMS) के द्वारा यूजर  को  दी जाती है।
Data Base Management System-DBMS


B. Conceptual/ DBMS layer:- 
 यह लेयर external तथा physical layer दोनों के मध्य एक पुल का कार्य करती है। इसलिए इसे डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS) लेयर भी कहा जाता है। यूजर सीधे physical layer  से डाटा प्राप्त करने में असमर्थ होता है इसलिए वह डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम(DBMS)|Conceptual layer के द्वारा physical layer से डाटा प्राप्त करता है। इस layer के माध्यम से यूजर सीधे physical layer से जुड़ सकता है।
डेटाबेस object को मेमोरी में संग्रहित करने के लिए Memory components का use किया जाता है। मेमोरी में सभी प्रकार के object को store नहीं किया जा सकता। मेमोरी में केवल वहीं वे ही object store किए जा सकते हैं जिन्हें frequently access किया जाता है।
जैसे Data डिशनरी, tables, views आदि।
Data Base Management System-DBMS

C. Internal Physical  layer:-
यह डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम(DBMS) की सबसे निचली लेयर है। इसे प्राय DBA(Database Adminstrator) के द्वारा use किया जाता है। Database Designer भी इस लेयर पर कार्य करते हैं इसलिए इसे Internal layer या data layer भी कहा जाता है। Database की संपूर्ण  सूचना bits अथवा Bytes के रूप में संग्रहित रहती हैं। इसके अंतर्गत control फाइल होती है जिनका Extension. Ctl होता है। ये सभी Control files संपूर्ण Database को control करती हैं। इसके अंदर डेटाबेस का वास्तविक नाम, सभी Data files का address, Data files का physical व logical नाम, initialization parameters आदि critical information store होती है  इसमें control files के अलावा data files redo log files, index files,parameters files, archive file, data डिक्शनरी files आदि होते हैं।
डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS)


2. Client Server Architecture (CST):-
Client Server Architecture मुख्यतः निम्नलिखित तत्व पर निर्भर करता है
1. यूजर की आवश्यकता, यूजर की संख्या
2. कितना Performance जरूरी है।
3.Development समय को कम करना।
4.Component को Re-use करना, नियंत्रण व  रखरखाव आसान हो।
5. कितना आसान  नियंत्रण किया जा सकता है।
उपरोक्त बातों को  का ध्यान रखा जाए तो एक अच्छा Client/Server architecture बनाया जा सकता है।  सामान्यतः Client/  Server System में दो  प्रकार architecture किए जाते हैं जो कि  निम्नलिखित है-
A. Two Tier Architecture
B. Three Tier Architecture

A. Two Tier Architecture:- 
Two Tier Architecture में application के सभी भाग या तो client(tier 1) या Server (tier 2) पर होते हैं। अतः Two Tier Architecture ऐसा client server वातावरण है जो डेटाबेस को क्लाइंट/सर्वर को डाटा बाटता है। इस Interface को विभिन्न tools की सहायता से develop किया जाता है। Two Tier Architecture में डेटाबेस  के पास उपस्थित Rules  को क्लाइंट  पर रखा जाता है। तथा उसे सर्वर पर भी रखा जाता है।
Data Base Management System-DBMS

B. Three Tier Architecture:-
Three Tier client server Architecture मैं समस्त क्लाइंट्स मशीनें front end की भांति कार्य करती है। यह क्लाइंट मशीनें एप्लीकेशन के द्वारा नेटवर्क से जोड़ी जुड़ी होती है। यह किसी डेटाबेस का संग्रहण सीधे नहीं करती है। एप्लीकेशन सरवर डाटा को एक्सेस करने के लिए  डेटाबेस सिस्टम  को  संचार के माध्यम से  सूचित करता है। साथ के साथ  एप्लीकेशन सर्वर में  यह भी  संग्रहित होता है  कि क्या कार्य करना है,  कैसे करना है,  तथा इसकी कंडीशन क्या होगी।  यह सूचना  समस्त  क्लाइंट  मशीनों को  बांटने के बजाय  एप्लीकेशन सर्वर के साथ संग्रहित  होती है।  इस प्रकार की एप्लीकेशन का use वहां किया जाता है। जहां समस्त कंप्यूटर WAN के माध्यम से  आपस में  जुड़े हो।  यह एप्लीकेशन बहुत  ही बड़े स्तर की होती है  तथा इनका कार्य  भी बड़े स्तर का होता है, क्योंकि संभव है  इस प्रकार की एप्लीकेशन में पूरी  दुनिया के  कई व्यक्ति एक ही समय पर अपना अपना कार्य कर  सकते हैं।
डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS)

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कंप्यूटर की पीढियां । generation of computer in hindi language

generation of computer in hindi  :- generation of computer in hindi language ( कम्प्युटर की पीढियाँ):- कम्प्यूटर तकनीकी विकास के द्वारा जो कम्प्यूटर के कार्यशैली तथा क्षमताओं में विकास हुआ इसके फलस्वरूप कम्प्यूटर विभिन्न पीढीयों तथा विभिन्न प्रकार की कम्प्यूटर की क्षमताओं के निर्माण का आविष्कार हुआ । कार्य क्षमता के इस विकास को सन् 1964 में कम्प्यूटर जनरेशन (computer generation) कहा जाने लगा । इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर के विकास को सन् 1946 से अब तक पाँच पीढ़ियों में वर्गीकृत किया जा सकता है । प्रत्येक नई पीढ़ी की शुरुआत कम्प्यूटर में प्रयुक्त नये प्रोसेसर , परिपथ और अन्य पुर्षों के आधार पर निर्धारित की जा सकती है । ● First Generation of computer in hindi  (कम्प्युटर की प्रथम पीढ़ी) : Vacuum Tubes ( वैक्यूम ट्यूब्स) ( 1946 - 1958 ):- प्रथम इलेक्ट्रॉनिक ' कम्प्यूटर 1946 में अस्तित्व में आया था तथा उसका नाम इलैक्ट्रॉनिक न्यूमेरिकल इन्टीग्रेटर एन्ड कैलकुलेटर ( ENIAC ) था । इसका आविष्कार जे . पी . ईकर्ट ( J . P . Eckert ) तथा जे . डब्ल्यू . मोश्ले ( J . W .

पर्सनल कंप्यूटर | personal computer

पर्सनल कंप्यूटर क्या है? ( Personal Computer kya hai ?) :- personal computer definition :- ये Personal computer  क्या है शायद हम सभी लोगों यह  पता होगा क्यूंकि इसे हम अपने घरों में, offices में, दुकानों में देखते हैं  Personal computer (PC) किसी भी उपयोगकर्ता के उपयोग के लिए बनाये गए किसी भी छोटे और सस्ते कंप्यूटर का निर्माण किया गया । सभी कम्प्युटर Microprocessors के विकास पर आधारित हैं। Personal computer  का उदाहरण माइक्रो कंप्यूटर,  डेस्कटॉप कंप्यूटर, लैपटॉप कंप्यूटर, टैबलेट हैं। पर्सनल कंप्यूटर के प्रकार ( personal computer types ):- ● डेस्कटॉप कंप्यूटर (Desktop) ● नोटबुक (Notebook) ● टेबलेट (tablet) ● स्मार्टफोन (Smartphone) कम्प्युटर का इतिहास ( personal computer history) :- कम्प्यूटर के विकास   (personal computer evolution)  के आरम्भ में जो भी कम्प्यूटर विकसित किया जाता था , उसकी अपनी एक अलग ही संरचना होती थी । तथा अपना एक अलग ही नाम होता था । जैसे - UNIVAC , ENIAC , MARK - 1 आदि । सन् 1970 में जब INTEL CORP ने दुनिया का पहला माइक्रोप्रोसेसर (

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ