सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

IEEE 802.11

IEEE 802.11 क्या होता है?( हिंदी में)

IEEE 802.11 वायरलेस लेन को implement करने के लिए एक स्टैंडर्ड स्टैंडर्ड्स का समूह है। सबसे पहले बनाया गया स्टैंडर्ड समूह 802.11 था जिसे सन 1997 में बनाया गया था। यह वायरलेस लेन की आवश्यकताओं, भौतिक स्ट्रक्चर  व सेवाओं आदि की व्याख्या करता है।  इसका मुख्य लक्ष्य  साधारण वायरलेस लैन बनाना होता है, जो कि समय bounded व asynchronous सेवाएं प्रदान करें।

डिसटीब्युटेड सिस्टम में कई सारे BSS (basic service set) जुड़े होते हैं जो मिलकर एक बड़े नेटवर्क का निर्माण करते हैं जिसे ESS (extended service set) कहा जाता है। इसमें डिस्ट्रीब्यूटेड सिस्टम को पोर्टल के माध्यम से दूसरे लेन से जोड़ा जा सकता है। IEEE 802.11 में BSS एक  दूसरे पर निर्भर नहीं करते हैं, इसीलिए इन्हें IBSS (independent basic service set) कहा जाता है।IBSS कई सारे स्टेशनों  के बने होते हैं, तथा ये स्टेशन आपस में सीधे जुड़े होते हैं  इसमें  एक्सेस प्वाइंट की आवश्यकता  नहीं होती है तथा डाटा एक स्टेशन से दूसरे स्टेशन पर स्थानांतरित होता है।

Standards of IEEE 802.11 family
IEEE का प्रारंभिक वर्जन IEEE 802.11 था, उसके पश्चात जैसे-जैसे नवीन तकनीको का विकास होता गया वैसे वैसे इनके भी नए वर्जन अर्थात में संकरण विकसित होते गए।  इसके कुछ संकरण  की  संक्षिप्त व्याख्या  इस प्रकार हैं-
1. IEEE 802.11
2. IEEE 802.11 a
3. IEEE 802.11 b
4. IEEE 802.11 g

1. IEEE 802.11:-
IEEE का प्रारंभिक वर्जन IEEE 802.11 था। इसके समूह में हाल्फ डुप्लेक्स ओवर द ईयर की पूरी सीरीज है। इसका मुख्य उद्देश्य विश्व स्तरीय  कम्युनिकेशन  को प्रदान करना है  इसीलिए  यह 2.4 Giz ISM बैंड रखता है  जो कि लगभग  प्रत्येक देश में  उपलब्ध होती है। इसकी डाटा रेट 1 Mbit प्रति सेकंड से 2Mbit प्रति सेकंड तक की होती है।

2. IEEE 802.11 a :-
जिस प्रकार वास्तविक स्टैंडर्ड 802.11 डाटा लिंक प्रोटोकोल तथा फेम फॉरमैट स्टैंडर्ड का उपयोग में लेता है उसी प्रकार  यह भी उपयोग करता है। इस स्टैंडर्ड को सन 1990 में मंजूदी दी गई थी। इसकी अधिकतम डाटा रेट 54mbps की होती है  तथा यह त्रुटि होने पर  त्रुटि कोड भी  बताता है।

3. IEEE 802.11 b :-
यहां स्टैंडर्ड भी माध्यम  उपयोग की  विधि का प्रयोग करता है  जो वास्तविक  स्टैंडर्ड  में प्रयोग की जाती  थी।  इसे स्टैंडर्ड की अधिकतम  डाटा रेट 11mbps की होती है। इस संकरण को सन  1999 में लागू किया गया था।

4. IEEE 802.11 g :-
यह भी 2.4 GHz बैंड में कार्य करता है  तथा यह  इसके वास्तविक स्टैंडर्ड  प्रथम संस्करण की भांति की ट्रांसमिशन विधि का प्रयोग करता है। यह फिजिकल लेयर पर 54mbps की गति से कार्य करता है। यह संकरण पूर्ण रूप से सन 2003 में लागू किया गया था।
 इसके अतिरिक्त इसके अन्य संकरण IEEE 802.11-2007, 802.11n, 802.11-2012, 802.11ac, 802.11ad आदि है।

Services of IEEE 802.11 family( इसकी सर्विसेज निम्नलिखित है):-
1. संदेश का वितरण:-
यह एक प्राथमिक सर्विसेज  है।  इसके द्वारा संदेश के फ्रेम्स को एक स्टेशन से दूर से स्टेशन पर भेजा जा सकता है। जब किसी फ्रेम को एक BSS से दूसरे BSS पर भेजा जाता है तो उस समय डिस्ट्रीब्यूटेेड सिस्टम का प्रयोग किया जाता है।

2. इंटीग्रेशन :- 
 इंटीग्रेशन सेवा के द्वारा IEEE पर डाटा को विभिन्न स्टेशनों के बीच में इंटीग्रेटेड रूप में ट्रांसफर किया जाता है। इस प्रक्रिया में वायर्ड लैैन को डिसटीब्युटेड सिस्टम से जोडा जाता है।

3. एसोसिएशन :-
किसी भी स्टेशन को वायरलेस लेन पर डाटा को ट्रांसमीट तथा रिसीव करने के लिए किसी विशेष BSS के एक्सेस प्वाइंट के साथ कनेक्शन बनाना होता है।

4.  पुनः एसोसिएशन:-
इसके द्वारा स्थापित एसोसिएशन को एक एक्सेस प्वाइंट से दूसरे एक्सेस प्वाइंट पर ट्रांसमिट किया जाता  है।

5.  ऑथेंटिकेशन:-
यह सर्विस स्टेशन को पहचानने के लिए प्रयोग में की जाती है।  इसके लिए यह  कहीं  फंक्शन लिटी  प्रदान करती है।  इसके लिए यह पब्लिक की  एंक्रिप्शन  स्कीम का प्रयोग करती है।  इसके अंतर्गत दोनों स्टेशनों  के ऑथेंटिकेशन को जाचा  जाता है तथा  सही  पाए जाने पर  ही उन दोनों के मध्य  कम्युनिकेशन प्रदान किया जाता है।

6. डी ऑथेंटिकेशन:-
जब दो स्टेशनों के मध्य ऑथेंटिकेशन की जांच की जा रही होती है, गलत ऑथेंटिकेशन पाए जाने पर यह सर्विस उसे डी ऑथेंटिकेट कर देती है फल स्वरूप कम्युनिकेशन नहीं होने दिया जाता है।

7. गोपनीयता:-
गोपनीयता के लिए भी यह एक अच्छी सुविधा प्रदान करती है। इसके लिए यह ऑथेंटिकेशन व डि ऑथेंटिकेशन  का प्रयोग किया जाता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल