सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कम्प्यूटर का विकास । EVOLUTION OF COMPUTER

कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER ) :-

वर्तमान समय में प्रयुक्त Computer  प्रणालियाँ इलेक्ट्रोनिक तकनीक पर आधारित मशीनों से मिलकर बनी होती हैं । सबसे पहली इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर प्रणाली सन् 1946 में विकसित की गई थी । लेकिन कम्प्यूटर का इतिहास इससे कहीं अधिक प्राचीन है । मानव सभ्यता के आरम्भ से ही मनुष्य ने गणना के लिए विभिन्न विधियों और यंत्रों को विकसित किया है । हजारों वर्ष पूर्व सबसे पहला गणनायंत्र तैयार किया गया था , जिसे अबेकस ( Abacus ) के नाम से जाना जाता है । अबेकस का प्रयोग आज भी विद्यालयों में गणना करने के लिए होता है ।  
सन् 1642 में सबसे पहला यांत्रिक गणनायंत्र तैयार किया गया था । पास्कलाइन ( Pascaline ) नामक इस गणना यंत्र को ब्लेज पास्कल ने तैयार किया था । इसके बाद सन् 1673 में जर्मन गणितज्ञ व दर्शनिक गॉटफ्रेड वॉन लेबनीज ( Gotfried Von Leibnitz ) ने पास्कलाइन का नाम रूप तैयार किया , जिसे रेकनिंग मशीन ( Reckoning Machine ) कहते हैं । पास्कलाइन गणनायंत्र केवल जोड़ने व घटाने की क्रिया करने में सक्षम था , जबकि रेकनिंग मशीन जोड़ व बाकी के अलावा गुणा व भाग की क्रिया भी कर सकती थी ।
 सन् 1801 में फ्रांसीसी बुनकर जोसेफ जेकॉर्ड ( Joseph Jacquard ) ने कपड़े बुनने के ऐसे लूम ( Loom ) का आविष्कार किया जो , कपड़ों में डिजाइन व पैटर्न स्वचालित रूप से नियंत्रित करता था । जैकार्ड के इस लूम की विचारधारा से पंचकार्ड का सिद्धांत प्रतिपादित किया गया , जिसे बाद यांत्रिक कम्प्यूटर्स में एक सूचना संग्रहण माध्यम के रूप में प्रयुक्त किया जाने लगा । 
सन् 1822 में चार्ल्स बैवेज ने डिफरेन्स इंजिन ( Difference Engine ) नामक एक गणनायंत्र का आविष्कार किया । चाल्स बैबेज ने अपने डिफरेंस इंजिन को विकसित करके सन् 1833 में एक नवीन संस्करण विकसित किया , जिसका नाम एनालिटिकल इंजिन ( Analytical Engine ) था । एनालिटिकल इंजिन में निर्देशों ( Instructions ) को संग्रहित ( Store ) किया जा सकता था । 
चार्ल्स बैबेज के इस एनालिटिकल इंजिन ने कम्प्यूटर विज्ञान के मूल सिद्धान्त को प्रतिपादित किया था , इसीलिए चार्ल्स बैबेज को ' फादर ऑफ कम्प्यूटर साइंस ' ' कहा जाता है । ।
 इसके बाद सन् 1896 में हर्मन होलेरिथ ने पंचकार्ड यंत्र बनाने की एक मशीन का उत्पादन आरम्भ किया । उसने अपनी कम्पनी का नाम ' टेबुलेटिंग मशीन कम्पनी ' ( Tabulating Machine Company ) रखा था । इस कम्पनी का नाम सन् 1911 में ' कम्प्यूटर टेबुलेटिंग रिकॉर्डिंग कम्पनी ' हो गया । इसी प्रकार आगे चलकर सन् 1924 में यह कम्पनी इन्टरनेशनल बिजनेस मशीन ( International Business Machine - IBM ) के नाम से प्रकाश में आयी । 
सन् 1945 में एटानासोफ ( Atanasoff ) ने एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन को विकसित किया , जिसका नाम ABC ( Atanasoff Berry Computer ) था । इसके बाद इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर्स का निर्माण आरम्भ हो गया था । इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर के विकास को विभिन्न पीढ़ियों के रूप में वर्गीकृत किया गया है ।

Abacus:-

Abacus

हजारों वर्ष पूर्व सबसे पहला गणनायंत्र तैयार किया गया था , जिसे अबेकस ( Abacus ) के नाम से जाना जाता है । अबेकस का प्रयोग आज भी विद्यालयों में गणना करने के लिए होता है ।
Abacus तारों के प्रकार का होता है । Abacus का उपयोग जोड़ने, घटाने, गुणा करने तथा भाग देने के काम आती हैं|

Blade Pascal:-

Blade Pascal अंकों की गणनाएं करने के लिए बनाई  गई थी । 
सन् 1642 में सबसे पहला यांत्रिक गणनायंत्र तैयार किया गया था । पास्कलाइन ( Pascaline ) नामक इस गणना यंत्र को ब्लेज पास्कल ने तैयार किया था । इसके बाद सन् 1673 में जर्मन गणितज्ञ व दर्शनिक गॉटफ्रेड वॉन लेबनीज ( Gotfried Von Leibnitz ) ने पास्कलाइन का नाम रूप तैयार किया , जिसे रेकनिंग मशीन ( Reckoning Machine ) कहते हैं । पास्कलाइन गणनायंत्र केवल जोड़ने व घटाने की क्रिया करने में सक्षम था , जबकि रेकनिंग मशीन जोड़ व बाकी के अलावा गुणा व भाग की क्रिया भी कर सकती थी । । इसको एंडिंग मशीन (Adding Machine) भी कहते थे, क्योकि यह केवल जोड़ या बाकी ही कर सकती थी । यह मशीन घड़ी के सिद्धान्तों पर कार्य करती थी ।


कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER )


What is रेकनिंग मशीन ( Reckoning Machine ):-

1673 में जर्मन गणितज्ञ व दर्शनिक गॉटफ्रेड वॉन लेबनीज ( Gotfried Von Leibnitz ) ने पास्कलाइन का नाम रूप तैयार किया , जिसे रेकनिंग मशीन ( Reckoning Machine ) कहते हैं । पास्कलाइन गणनायंत्र केवल जोड़ने व घटाने की क्रिया करने में सक्षम था , जबकि रेकनिंग मशीन जोड़ व बाकी के अलावा गुणा व भाग की क्रिया भी कर सकती थी

 Jacquard’s Loom:-

कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER )

सन् 1801 में फ्रांसीसी बुनकर जोसेफ जेकॉर्ड ( Joseph Jacquard ) ने कपड़े बुनने के ऐसे लूम ( Loom ) का आविष्कार किया जो , कपड़ों में डिजाइन व पैटर्न स्वचालित रूप से नियंत्रित करता था । जैकार्ड के इस लूम की विचारधारा से पंचकार्ड का सिद्धांत प्रतिपादित किया गया , जिसे बाद यांत्रिक कम्प्यूटर्स में एक सूचना संग्रहण माध्यम के रूप में प्रयुक्त किया जाने लगा ।

Charles Babbage:-
कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER )

सन् 1822 में चार्ल्स बैवेज ने डिफरेन्स इंजिन ( Difference Engine ) नामक एक गणनायंत्र का आविष्कार किया । चाल्स बैबेज ने अपने डिफरेंस इंजिन को विकसित करके सन् 1833 में एक नवीन संस्करण विकसित किया , जिसका नाम एनालिटिकल इंजिन ( Analytical Engine ) था । एनालिटिकल इंजिन में निर्देशों ( Instructions ) को संग्रहित ( Store ) किया जा सकता था ।

Charles Babbage
चार्ल्स बैबेज के इस एनालिटिकल इंजिन ने कम्प्यूटर विज्ञान के मूल सिद्धान्त को प्रतिपादित किया था , इसीलिए चार्ल्स बैबेज को ' फादर ऑफ कम्प्यूटर साइंस  ' कहा जाता है ।

Dr. Howard Aiken’s Mark-I:-

कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER )

इसके बाद सन् 1896 में हर्मन होलेरिथ ने पंचकार्ड यंत्र बनाने की एक मशीन का उत्पादन आरम्भ किया । उसने अपनी कम्पनी का नाम ' टेबुलेटिंग मशीन कम्पनी ' ( Tabulating Machine Company ) रखा था । इस कम्पनी का नाम सन् 1911 में ' कम्प्यूटर टेबुलेटिंग रिकॉर्डिंग कम्पनी ' हो गया । इसी प्रकार आगे चलकर सन् 1924 में यह कम्पनी इन्टरनेशनल बिजनेस मशीन ( International Business Machine - IBM ) के नाम से प्रकाश में आयी ।

A.B.C. (Atanasoff – Berry Computer):-

कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER )
सन् 1945 में एटानासोफ ( Atanasoff ) ने एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन को विकसित किया , जिसका नाम ABC ( Atanasoff Berry Computer ) था । इसके बाद इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर्स का निर्माण आरम्भ हो गया था । इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर के विकास को विभिन्न पीढ़ियों के रूप में वर्गीकृत किया गया है ।

1. Basic Computer Knowledge:-


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना