सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

software requirement in hindi

कम्प्यूटर का विकास । EVOLUTION OF COMPUTER

कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER ) :-

वर्तमान समय में प्रयुक्त Computer  प्रणालियाँ इलेक्ट्रोनिक तकनीक पर आधारित मशीनों से मिलकर बनी होती हैं । सबसे पहली इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर प्रणाली सन् 1946 में विकसित की गई थी । लेकिन कम्प्यूटर का इतिहास इससे कहीं अधिक प्राचीन है । मानव सभ्यता के आरम्भ से ही मनुष्य ने गणना के लिए विभिन्न विधियों और यंत्रों को विकसित किया है । हजारों वर्ष पूर्व सबसे पहला गणनायंत्र तैयार किया गया था , जिसे अबेकस ( Abacus ) के नाम से जाना जाता है । अबेकस का प्रयोग आज भी विद्यालयों में गणना करने के लिए होता है ।  
सन् 1642 में सबसे पहला यांत्रिक गणनायंत्र तैयार किया गया था । पास्कलाइन ( Pascaline ) नामक इस गणना यंत्र को ब्लेज पास्कल ने तैयार किया था । इसके बाद सन् 1673 में जर्मन गणितज्ञ व दर्शनिक गॉटफ्रेड वॉन लेबनीज ( Gotfried Von Leibnitz ) ने पास्कलाइन का नाम रूप तैयार किया , जिसे रेकनिंग मशीन ( Reckoning Machine ) कहते हैं । पास्कलाइन गणनायंत्र केवल जोड़ने व घटाने की क्रिया करने में सक्षम था , जबकि रेकनिंग मशीन जोड़ व बाकी के अलावा गुणा व भाग की क्रिया भी कर सकती थी ।
 सन् 1801 में फ्रांसीसी बुनकर जोसेफ जेकॉर्ड ( Joseph Jacquard ) ने कपड़े बुनने के ऐसे लूम ( Loom ) का आविष्कार किया जो , कपड़ों में डिजाइन व पैटर्न स्वचालित रूप से नियंत्रित करता था । जैकार्ड के इस लूम की विचारधारा से पंचकार्ड का सिद्धांत प्रतिपादित किया गया , जिसे बाद यांत्रिक कम्प्यूटर्स में एक सूचना संग्रहण माध्यम के रूप में प्रयुक्त किया जाने लगा । 
सन् 1822 में चार्ल्स बैवेज ने डिफरेन्स इंजिन ( Difference Engine ) नामक एक गणनायंत्र का आविष्कार किया । चाल्स बैबेज ने अपने डिफरेंस इंजिन को विकसित करके सन् 1833 में एक नवीन संस्करण विकसित किया , जिसका नाम एनालिटिकल इंजिन ( Analytical Engine ) था । एनालिटिकल इंजिन में निर्देशों ( Instructions ) को संग्रहित ( Store ) किया जा सकता था । 
चार्ल्स बैबेज के इस एनालिटिकल इंजिन ने कम्प्यूटर विज्ञान के मूल सिद्धान्त को प्रतिपादित किया था , इसीलिए चार्ल्स बैबेज को ' फादर ऑफ कम्प्यूटर साइंस ' ' कहा जाता है । ।
 इसके बाद सन् 1896 में हर्मन होलेरिथ ने पंचकार्ड यंत्र बनाने की एक मशीन का उत्पादन आरम्भ किया । उसने अपनी कम्पनी का नाम ' टेबुलेटिंग मशीन कम्पनी ' ( Tabulating Machine Company ) रखा था । इस कम्पनी का नाम सन् 1911 में ' कम्प्यूटर टेबुलेटिंग रिकॉर्डिंग कम्पनी ' हो गया । इसी प्रकार आगे चलकर सन् 1924 में यह कम्पनी इन्टरनेशनल बिजनेस मशीन ( International Business Machine - IBM ) के नाम से प्रकाश में आयी । 
सन् 1945 में एटानासोफ ( Atanasoff ) ने एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन को विकसित किया , जिसका नाम ABC ( Atanasoff Berry Computer ) था । इसके बाद इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर्स का निर्माण आरम्भ हो गया था । इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर के विकास को विभिन्न पीढ़ियों के रूप में वर्गीकृत किया गया है ।

Abacus:-

Abacus

हजारों वर्ष पूर्व सबसे पहला गणनायंत्र तैयार किया गया था , जिसे अबेकस ( Abacus ) के नाम से जाना जाता है । अबेकस का प्रयोग आज भी विद्यालयों में गणना करने के लिए होता है ।
Abacus तारों के प्रकार का होता है । Abacus का उपयोग जोड़ने, घटाने, गुणा करने तथा भाग देने के काम आती हैं|

Blade Pascal:-

Blade Pascal अंकों की गणनाएं करने के लिए बनाई  गई थी । 
सन् 1642 में सबसे पहला यांत्रिक गणनायंत्र तैयार किया गया था । पास्कलाइन ( Pascaline ) नामक इस गणना यंत्र को ब्लेज पास्कल ने तैयार किया था । इसके बाद सन् 1673 में जर्मन गणितज्ञ व दर्शनिक गॉटफ्रेड वॉन लेबनीज ( Gotfried Von Leibnitz ) ने पास्कलाइन का नाम रूप तैयार किया , जिसे रेकनिंग मशीन ( Reckoning Machine ) कहते हैं । पास्कलाइन गणनायंत्र केवल जोड़ने व घटाने की क्रिया करने में सक्षम था , जबकि रेकनिंग मशीन जोड़ व बाकी के अलावा गुणा व भाग की क्रिया भी कर सकती थी । । इसको एंडिंग मशीन (Adding Machine) भी कहते थे, क्योकि यह केवल जोड़ या बाकी ही कर सकती थी । यह मशीन घड़ी के सिद्धान्तों पर कार्य करती थी ।


कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER )


What is रेकनिंग मशीन ( Reckoning Machine ):-

1673 में जर्मन गणितज्ञ व दर्शनिक गॉटफ्रेड वॉन लेबनीज ( Gotfried Von Leibnitz ) ने पास्कलाइन का नाम रूप तैयार किया , जिसे रेकनिंग मशीन ( Reckoning Machine ) कहते हैं । पास्कलाइन गणनायंत्र केवल जोड़ने व घटाने की क्रिया करने में सक्षम था , जबकि रेकनिंग मशीन जोड़ व बाकी के अलावा गुणा व भाग की क्रिया भी कर सकती थी

 Jacquard’s Loom:-

कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER )

सन् 1801 में फ्रांसीसी बुनकर जोसेफ जेकॉर्ड ( Joseph Jacquard ) ने कपड़े बुनने के ऐसे लूम ( Loom ) का आविष्कार किया जो , कपड़ों में डिजाइन व पैटर्न स्वचालित रूप से नियंत्रित करता था । जैकार्ड के इस लूम की विचारधारा से पंचकार्ड का सिद्धांत प्रतिपादित किया गया , जिसे बाद यांत्रिक कम्प्यूटर्स में एक सूचना संग्रहण माध्यम के रूप में प्रयुक्त किया जाने लगा ।

Charles Babbage:-
कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER )

सन् 1822 में चार्ल्स बैवेज ने डिफरेन्स इंजिन ( Difference Engine ) नामक एक गणनायंत्र का आविष्कार किया । चाल्स बैबेज ने अपने डिफरेंस इंजिन को विकसित करके सन् 1833 में एक नवीन संस्करण विकसित किया , जिसका नाम एनालिटिकल इंजिन ( Analytical Engine ) था । एनालिटिकल इंजिन में निर्देशों ( Instructions ) को संग्रहित ( Store ) किया जा सकता था ।

Charles Babbage
चार्ल्स बैबेज के इस एनालिटिकल इंजिन ने कम्प्यूटर विज्ञान के मूल सिद्धान्त को प्रतिपादित किया था , इसीलिए चार्ल्स बैबेज को ' फादर ऑफ कम्प्यूटर साइंस  ' कहा जाता है ।

Dr. Howard Aiken’s Mark-I:-

कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER )

इसके बाद सन् 1896 में हर्मन होलेरिथ ने पंचकार्ड यंत्र बनाने की एक मशीन का उत्पादन आरम्भ किया । उसने अपनी कम्पनी का नाम ' टेबुलेटिंग मशीन कम्पनी ' ( Tabulating Machine Company ) रखा था । इस कम्पनी का नाम सन् 1911 में ' कम्प्यूटर टेबुलेटिंग रिकॉर्डिंग कम्पनी ' हो गया । इसी प्रकार आगे चलकर सन् 1924 में यह कम्पनी इन्टरनेशनल बिजनेस मशीन ( International Business Machine - IBM ) के नाम से प्रकाश में आयी ।

A.B.C. (Atanasoff – Berry Computer):-

कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER )
सन् 1945 में एटानासोफ ( Atanasoff ) ने एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन को विकसित किया , जिसका नाम ABC ( Atanasoff Berry Computer ) था । इसके बाद इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर्स का निर्माण आरम्भ हो गया था । इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर के विकास को विभिन्न पीढ़ियों के रूप में वर्गीकृत किया गया है ।

1. Basic Computer Knowledge:-


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ

foxpro data type in hindi । फॉक्सप्रो

 आज हम computers in hindi मे फॉक्सप्रो क्या है?  Foxpro data type in hindi  कार्य के बारे मे जानेगे? How many data types are available in foxpro?    में  तो चलिए शुरु करते हैं-    How many data types are available in foxpro? ( फॉक्सप्रो में कितने डेटा प्रकार उपलब्ध हैं?):- FoxPro में बनाई गई डेटाबेस फाईल का एक्सटेन्शन नाम .dbf होता है । foxpro data type in hindi (फॉक्सप्रो डेटा प्रकार) :- Character data type Numeric data type Float data type Date data type Logical data type Memo data type General data type 1. Character data type :- Character data type  की फील्ड में अधिकतम 254 Character store किये जा सकते हैं । इस टाईप की फील्ड में अक्षर जैसे ( A , B , C , .......Z ) ( a , b , c , ...........z ) तथा इसके साथ ही न्यूमेरिक अंक ( 0-9 ) व Special Character ( + , - , / . x , ? , = ; etc ) आदि भी Store करवाए जा सकते हैं । इस प्रकार की फील्ड का प्रयोग नाम , पता , फोन नम्बर , शहर का नाम , पिता का नाम , माता का नाम आदि संग्रहित करने के लिए किया जाता है । 2. Numeric data type :- Numeric da

Management information system (MIS in hindi)

What is Management Information Systems (MIS) in hindi ? Introduction to management information system (MIS in hindi):-  बिजनेस प्रॉब्लम का समाधान प्राप्त करने के लिए युजर, तकनीक और प्रॉसीजर (procedure) एक साथ मिलकर  कार्य करते हैं। यूूूूजर तकनीक और प्रॉसीजर के सकलन को Information system  कहते हैं।   management information system definition :- जब इनफॉर्मेशन सिस्टम में निहित सभी भाग एक अनुशासन (Discipline) विधि से किसी बिजनेस प्रॉब्लम को हल करते हैं तो इस प्रक्रिया को Management information system ( MIS in hindi ) कहते हैं।   MIS कोई नवीन व्यवस्था नहीं है, कंप्यूटर के आगमन से पूर्व व्यवसाय की गतिविधियों का योजना निर्धारण और नियन्त्रण करने का कार्य इसी प्रकार की MIS विधि से ही सम्पन्न किया जाता था।  कंप्यूटर ने इस MIS व्यवस्था में नवीन आयामों  जैसे, गति (speed), शुद्धता (accuracy) और वृहद मात्रा में डेटा समापन को भी सम्मिलित कर दिया गया है। management, Information और system    को कंप्यूटर की सहायता से मिश्रित व्यावसायिक गतिविधियों को सम्पन्न किया जाता है।  किसी ऑर्गेनाइजेशन की ऑ