सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

कम्प्यूटर का विकास । EVOLUTION OF COMPUTER

कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER ) :-

वर्तमान समय में प्रयुक्त Computer  प्रणालियाँ इलेक्ट्रोनिक तकनीक पर आधारित मशीनों से मिलकर बनी होती हैं । सबसे पहली इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर प्रणाली सन् 1946 में विकसित की गई थी । लेकिन कम्प्यूटर का इतिहास इससे कहीं अधिक प्राचीन है । मानव सभ्यता के आरम्भ से ही मनुष्य ने गणना के लिए विभिन्न विधियों और यंत्रों को विकसित किया है । हजारों वर्ष पूर्व सबसे पहला गणनायंत्र तैयार किया गया था , जिसे अबेकस ( Abacus ) के नाम से जाना जाता है । अबेकस का प्रयोग आज भी विद्यालयों में गणना करने के लिए होता है ।  
सन् 1642 में सबसे पहला यांत्रिक गणनायंत्र तैयार किया गया था । पास्कलाइन ( Pascaline ) नामक इस गणना यंत्र को ब्लेज पास्कल ने तैयार किया था । इसके बाद सन् 1673 में जर्मन गणितज्ञ व दर्शनिक गॉटफ्रेड वॉन लेबनीज ( Gotfried Von Leibnitz ) ने पास्कलाइन का नाम रूप तैयार किया , जिसे रेकनिंग मशीन ( Reckoning Machine ) कहते हैं । पास्कलाइन गणनायंत्र केवल जोड़ने व घटाने की क्रिया करने में सक्षम था , जबकि रेकनिंग मशीन जोड़ व बाकी के अलावा गुणा व भाग की क्रिया भी कर सकती थी ।
 सन् 1801 में फ्रांसीसी बुनकर जोसेफ जेकॉर्ड ( Joseph Jacquard ) ने कपड़े बुनने के ऐसे लूम ( Loom ) का आविष्कार किया जो , कपड़ों में डिजाइन व पैटर्न स्वचालित रूप से नियंत्रित करता था । जैकार्ड के इस लूम की विचारधारा से पंचकार्ड का सिद्धांत प्रतिपादित किया गया , जिसे बाद यांत्रिक कम्प्यूटर्स में एक सूचना संग्रहण माध्यम के रूप में प्रयुक्त किया जाने लगा । 
सन् 1822 में चार्ल्स बैवेज ने डिफरेन्स इंजिन ( Difference Engine ) नामक एक गणनायंत्र का आविष्कार किया । चाल्स बैबेज ने अपने डिफरेंस इंजिन को विकसित करके सन् 1833 में एक नवीन संस्करण विकसित किया , जिसका नाम एनालिटिकल इंजिन ( Analytical Engine ) था । एनालिटिकल इंजिन में निर्देशों ( Instructions ) को संग्रहित ( Store ) किया जा सकता था । 
चार्ल्स बैबेज के इस एनालिटिकल इंजिन ने कम्प्यूटर विज्ञान के मूल सिद्धान्त को प्रतिपादित किया था , इसीलिए चार्ल्स बैबेज को ' फादर ऑफ कम्प्यूटर साइंस ' ' कहा जाता है । ।
 इसके बाद सन् 1896 में हर्मन होलेरिथ ने पंचकार्ड यंत्र बनाने की एक मशीन का उत्पादन आरम्भ किया । उसने अपनी कम्पनी का नाम ' टेबुलेटिंग मशीन कम्पनी ' ( Tabulating Machine Company ) रखा था । इस कम्पनी का नाम सन् 1911 में ' कम्प्यूटर टेबुलेटिंग रिकॉर्डिंग कम्पनी ' हो गया । इसी प्रकार आगे चलकर सन् 1924 में यह कम्पनी इन्टरनेशनल बिजनेस मशीन ( International Business Machine - IBM ) के नाम से प्रकाश में आयी । 
सन् 1945 में एटानासोफ ( Atanasoff ) ने एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन को विकसित किया , जिसका नाम ABC ( Atanasoff Berry Computer ) था । इसके बाद इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर्स का निर्माण आरम्भ हो गया था । इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर के विकास को विभिन्न पीढ़ियों के रूप में वर्गीकृत किया गया है ।

Abacus:-

Abacus

हजारों वर्ष पूर्व सबसे पहला गणनायंत्र तैयार किया गया था , जिसे अबेकस ( Abacus ) के नाम से जाना जाता है । अबेकस का प्रयोग आज भी विद्यालयों में गणना करने के लिए होता है ।
Abacus तारों के प्रकार का होता है । Abacus का उपयोग जोड़ने, घटाने, गुणा करने तथा भाग देने के काम आती हैं|

Blade Pascal:-

Blade Pascal अंकों की गणनाएं करने के लिए बनाई  गई थी । 
सन् 1642 में सबसे पहला यांत्रिक गणनायंत्र तैयार किया गया था । पास्कलाइन ( Pascaline ) नामक इस गणना यंत्र को ब्लेज पास्कल ने तैयार किया था । इसके बाद सन् 1673 में जर्मन गणितज्ञ व दर्शनिक गॉटफ्रेड वॉन लेबनीज ( Gotfried Von Leibnitz ) ने पास्कलाइन का नाम रूप तैयार किया , जिसे रेकनिंग मशीन ( Reckoning Machine ) कहते हैं । पास्कलाइन गणनायंत्र केवल जोड़ने व घटाने की क्रिया करने में सक्षम था , जबकि रेकनिंग मशीन जोड़ व बाकी के अलावा गुणा व भाग की क्रिया भी कर सकती थी । । इसको एंडिंग मशीन (Adding Machine) भी कहते थे, क्योकि यह केवल जोड़ या बाकी ही कर सकती थी । यह मशीन घड़ी के सिद्धान्तों पर कार्य करती थी ।


कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER )


What is रेकनिंग मशीन ( Reckoning Machine ):-

1673 में जर्मन गणितज्ञ व दर्शनिक गॉटफ्रेड वॉन लेबनीज ( Gotfried Von Leibnitz ) ने पास्कलाइन का नाम रूप तैयार किया , जिसे रेकनिंग मशीन ( Reckoning Machine ) कहते हैं । पास्कलाइन गणनायंत्र केवल जोड़ने व घटाने की क्रिया करने में सक्षम था , जबकि रेकनिंग मशीन जोड़ व बाकी के अलावा गुणा व भाग की क्रिया भी कर सकती थी

 Jacquard’s Loom:-

कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER )

सन् 1801 में फ्रांसीसी बुनकर जोसेफ जेकॉर्ड ( Joseph Jacquard ) ने कपड़े बुनने के ऐसे लूम ( Loom ) का आविष्कार किया जो , कपड़ों में डिजाइन व पैटर्न स्वचालित रूप से नियंत्रित करता था । जैकार्ड के इस लूम की विचारधारा से पंचकार्ड का सिद्धांत प्रतिपादित किया गया , जिसे बाद यांत्रिक कम्प्यूटर्स में एक सूचना संग्रहण माध्यम के रूप में प्रयुक्त किया जाने लगा ।

Charles Babbage:-
कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER )

सन् 1822 में चार्ल्स बैवेज ने डिफरेन्स इंजिन ( Difference Engine ) नामक एक गणनायंत्र का आविष्कार किया । चाल्स बैबेज ने अपने डिफरेंस इंजिन को विकसित करके सन् 1833 में एक नवीन संस्करण विकसित किया , जिसका नाम एनालिटिकल इंजिन ( Analytical Engine ) था । एनालिटिकल इंजिन में निर्देशों ( Instructions ) को संग्रहित ( Store ) किया जा सकता था ।

Charles Babbage
चार्ल्स बैबेज के इस एनालिटिकल इंजिन ने कम्प्यूटर विज्ञान के मूल सिद्धान्त को प्रतिपादित किया था , इसीलिए चार्ल्स बैबेज को ' फादर ऑफ कम्प्यूटर साइंस  ' कहा जाता है ।

Dr. Howard Aiken’s Mark-I:-

कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER )

इसके बाद सन् 1896 में हर्मन होलेरिथ ने पंचकार्ड यंत्र बनाने की एक मशीन का उत्पादन आरम्भ किया । उसने अपनी कम्पनी का नाम ' टेबुलेटिंग मशीन कम्पनी ' ( Tabulating Machine Company ) रखा था । इस कम्पनी का नाम सन् 1911 में ' कम्प्यूटर टेबुलेटिंग रिकॉर्डिंग कम्पनी ' हो गया । इसी प्रकार आगे चलकर सन् 1924 में यह कम्पनी इन्टरनेशनल बिजनेस मशीन ( International Business Machine - IBM ) के नाम से प्रकाश में आयी ।

A.B.C. (Atanasoff – Berry Computer):-

कम्प्यूटर का विकास ( EVOLUTION OF COMPUTER )
सन् 1945 में एटानासोफ ( Atanasoff ) ने एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन को विकसित किया , जिसका नाम ABC ( Atanasoff Berry Computer ) था । इसके बाद इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर्स का निर्माण आरम्भ हो गया था । इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर के विकास को विभिन्न पीढ़ियों के रूप में वर्गीकृत किया गया है ।

1. Basic Computer Knowledge:-


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल