सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Cathod Ray Tube

Cathod Ray Tube in hindi

CRT का पूरा नाम  Cathod Ray Tube  होता है , यह मॉनीटर का प्राथमिक अवयव है । इसमें कैथोड होता है , जिससे इलैक्टॉन्स उत्सर्जित होते हैं । heat को कैथोड के अन्दर भेजा जाता है , इसके लिए coil या तार का प्रयोग किया जाता है । जैसे ही हीट कैथोड के पास पहुंच जाती है , वह इलैक्ट्रॉन्स को उत्सर्जित करता है । इन इलैक्ट्रॉन्स को beam भी कहा जाता है । यह फास्फोरस coated स्क्रीन पर टकराती हैं , तथा स्क्रीन के नेगेटिव सिग्नल्स को पॉजिटिव अर्थात् धनात्मक कर देती है ।
Cathod Ray Tube (CRT)

 क्या आप जानते हो CRT क्या होता हैै? आज में आपको CRT के बारे में बाताओगा । कैथोड मे से इलेक्ट्रॉन्स उत्सर्जित होते हैं . इस कारण इसे इलैक्ट्रॉन गन भी कहते है । इलेक्ट्रॉन गन से निकलने के बाद ये deflection सिस्टम तथा focus सिस्टम से होकर गुजरते हैं , तथा ये सिस्टम इलैक्ट्रॉन beam को फास्फोरस coated स्क्रीन के निर्धारित बिन्द पर केन्द्रित करता हैं , तथा जहां - जहां इलेक्ट्रान beam टकराती है वहां - वहां सूक्ष्म बिन्दु के रूप में प्रकाश उत्पन्न होता है । यह प्रकाश बहुत अधिक तीव्रता से कम होता है , picture को लगातार प्रदर्शित करने के लिए फास्फोरस बिन्दुओं पर प्रकाश को निरन्तर बनाए रखने के लिए picture को बार - बार बनाया जाता है । इसलिए इस प्रकार के डिस्प्ले को refresh CRT भी कहा जाता है । 
CRT इलैक्ट्रॉन गन के मुख्य दो भाग कैथोड तथा कन्ट्रोल ग्रिड होते हैं । कैथोड का आकार खाली बेलन के समान होता है , इसके द्वारा कैथोड पर heat भी भेजी जाती है , जिससे कैथोड गर्म होकर इलैक्ट्रॉन उत्सर्जित करता है , जो कि स्क्रीन की तरफ गति करते हैं । इन इलैक्ट्रॉन्स की गति के लिए high positive voltage ( उच्च धनात्मक वॉल्टेज ) का उपयोग किया जाता है , इसे  फोटो की सहायता से समझा जा सकता है-
Cathod ray tube

beam की intensity (तीव्रता) को नियंत्रित करने के लिए कन्ट्रोल ग्रिड पर वॉल्टेज लेवल को सैट किया जाता है , यह कन्ट्रोल ग्रिड धातु का बना होता है , जिसका आकार बेलन नुमा होता है , जो कि कैथोड ट्यूब के ऊपर लगा होता है इसके द्वारा वॉल्टेज में परिवर्तन कर स्क्रीन पर प्रदर्शित होने वाली आकृति की चमक को नियंत्रित किया जाता है । इसका प्रयोग प्राय : टेलीविज़न तथा कम्प्यूटर ग्राफिक्स मॉनीटर में किया जाता है । इस विधि में electronic beam को धनात्मक आवेश वाले एक खोखले बेलन से गुजारा जाता है , यह एक लैंस की भांति कार्य करता है जो कि इलैक्ट्रॉन बीम को स्क्रीन के मध्य बिन्दु पर फोकस करता है । जब इलैक्ट्रॉन स्क्रीन से टकराते हैं तो स्क्रीन पर लगे फास्फोरस के द्वारा उनकी गतिज ऊर्जा को अवशोषित किया जाता है , तथा कुछ ऊर्जा को फास्फोरस परमाणु के इलैक्ट्रॉन ग्रहण करते हैं । जब इलैक्ट्रॉन सामान्य अवस्था से उत्तेजित अवस्था में आते हैं तो प्रकाश की तीव्रता बढ़ती है तथा इलैक्ट्रॉन के सामान्य अवस्था में आते ही प्रकाश की तीव्रता कम होती है ।
Cathod ray tube in hindi


CRT की गुणवत्ता उसके रिज़ोल्यूशन पर निर्भर होती है । रिज़ोल्यूशन को सामान्यतः DPI ( dots per inch ) में मापा जाता है । यह माप horizontal तथा vertical को मिलाकर की जाती है । उच्च गुणवत्ता वाला रिजोल्यूशन 1280 x 1024 होता है ।

Color CRT (Cathod Ray Tube) Monitor:-

 Color CRT monitor picture को display करने के लिये फास्फोरस का प्रयोग करता है जो कि विभिन्न रंगीन lights को उत्पन्न करता है । CRT में रंगों को जनरेट करने के लिये दो तकनीकों का प्रयोग किया जाता है।
Color CRT (Cathod Ray Tube) Monitor


( 1 ) Beam penetration Method 
( 2 ) Shadow Mask Method

( 1 ) Beam Penetration Method : -

इस तकनीक का प्रयोग random scan monitor में किया जाता है । इस तकनीक में CRT के आन्तरिक भाग में फास्फोरस की दो परतों को लगाया जाता है जो कि लाल व हरे रंग वाले फास्फोरस की होती हैं । इस तकनीक के द्वारा जनरेट किए गए रंग इस बात पर निर्भर करते हैं कि इलैक्ट्रॉन बीम ने फास्फोरस की परत को कितने अन्दर तक भेदा है । अधिक गति वाली बीम ऊपर परत जो लाल रंग की होती है , उसको भेदकर अन्दर लगी हरी परत को उत्तेजित करती है , जिससे हरा रंग उत्पन्न होता है ।
Cathod ray tube
धीमी इलैक्ट्रॉन बीम केवल ऊपर परत जो कि लाल होती है उसको उत्तेजित करती है , तथा उससे लाल रंग उत्पन्न होता है । मध्यम गति वाली इलैक्ट्रॉन बीम लाल व हरी दोनों रंगों की परतों को उत्तेजित करती है जिससे पीला व नारंगी रंगी उत्पन्न होते हैं । जरनेट किए गए रंग इलैक्टॉन बीम की गति पर निर्भर करते हैं तथा  इलक्ट्रॉन बीम की गति acceleration voltage पर निर्भर करती हैं ।

( 2 ) Shadow Mask Method :-

 raster scan system में इस विधि का प्रयोग किया जाता है । क्योंकि यह कई अत्यधिक range में color जरनेट करता है । इस तरह के CRT में तीन तरह के color फास्फोरस बिन्दु ( dots ) pixel पर लगे होते हैं।
 ( 1 ) Red color 
( 2 ) Green color 
( 3 ) Blue color 
इस तरह के Monitor में तीन electron guns होती हैं । पहली gun सभी color dots के लिये होती हैं । दूसरी gun phosphor के पीछे shadow mask आकृति बनाने के लिये होती है , जिसे हम डेल्टा shadow mask method कहते हैं तथा तीसरी gun shadow को ग्रुप करके एक image screen पर display करती है ।
Shadow Mask Method

इस विधि में shadow mask grid को स्क्रीन के पीछे रखा जाता है , जिसमें प्रत्येक पिक्सल के लिए एक छिद्र होता है । तीनों electroni beams को focus व deflect करके उसे गंतव्य पिक्सल के सामने वाले छिद्र पर डाला जाता है । तीनों beams इस छिद्र से गुजरने के बाद एक dot triangle को activate करती हैं जो कि स्क्रीन पर एक छोट से बिन्दु के रूप में प्रदर्शित होता है । इन बिन्दुओं को इस प्रकार व्यवस्थित किया जाता है कि प्रत्येक इलैक्ट्रॉन बीम केवल उसके similar रंग वाले बिन्दु को ही क्रियाशील करे । electron gun के वॉल्टेज को नियंत्रित करके विभिन्न रंग उत्पन्न किए जाते हैं । 
Color graphic System का मुख्यत : उपयोग कई तरह के display device के साथ किया जाता है । मुख्यत : इसका use computer system , video games , color t . v . तथा R . E . modulator में किया जाता है । 
Graphics system में color CRT को RGB मॉनीटर बनाया जाता है । ये मॉनीटर्स shadow mask method का प्रयोग करते हैं । ये प्रत्येक electron gun के लिए intensity level सीधे कम्प्यूटर सिस्टम से लेते हैं ।




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना