सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

codd's rule in rdbms in hindi - रिलेशनल डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम

 आज हम रिलेशनल डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (rdbms in hindi)  के अन्दर codd's rule in rdbms in hindi के ef codd 12 rules के बारे मे जानेगे क्या होता है तो चलिए शुरु करते हैंं:-

codd's rule in rdbms in hindi:-

0. Relational Capability :-

इस नियम के अनुसार डेटाबेस में इतनी क्षमता होनी चाहिए कि वह अपने आप को manage कर सके अर्थात् वह स्वयं की देखरेख कर सके । एक रिलेशनल डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (rdbms in hindi)  में अपने डेटाबेस में संग्रहित डेटा / सूचना की देखरेख व उन्हें नियंत्रित करने के लिए अपनी रिलेश्नल क्षमताओं का उपयोग करने की क्षमता होनी चाहिए । डेटाबेस में यह सुविधा होनी चाहिए कि हम उससे क्वैरी कर सकें । 
यदि कोई डेटाबेस इस नियम को पास कर लेता है तभी उसे आगे के 12 नियमों के लिए जांचने योग्य समझा जाता है ।

1. Information Rule :-

इस नियम के according एक रिलेशनल डेटाबेस में सूचना (information ) हमेशा एक ही format में की जानी चाहिए और वह format  table format है । अर्थात् सूचना या डेटा का प्रवेश ( insertion ) भी  table format में होना चाहिए तथा  retrieve भी इसी format में होनी चाहिए ।

2. Guaranteed Access Rule :-

इस नियम के अनुसार रिलेशनल डेटाबेस में सारे डेटा इस प्रकार संग्रहित किया जाए कि आवश्यकता पड़ने पर सम्पूर्ण डेटा को पुनः प्राप्त किया जा सके । यदि user प्राइमेरी क़ी के साथ किसी भी column की मांग करता है तो उसे ज़रूर कुछ न कुछ आउटपुट अवश्य ही मिलना चाहिए , क्योंकि प्राइमेरी - की वाले कॉलम में null नहीं हो सकते इसलिए कुछ न कुछ आउटपुट तो प्राप्त होगा ही । 

3. Systematic Treatment of Nulls :-

इस नियम के अनुसार प्रत्येक रिलेशनल डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (rdbms in hindi)  में NULLs तो allowed होते हैं परन्तु डेटा । पुनः प्राप्ति ( retrieve ) के समय या तो अस्थायी रूप से उन्हें वहां से हटा देना चाहिए या फिर उनकी जगह कुछ ऐसी वैल्यू डाल देनी चाहिए जिससे आउटपुट पर कोई विपरीत प्रभाव ना पड़े । रिलेशनल डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (rdbms in hindi) में null वैल्यू को प्रदर्शित करने के लिए स्थायी विधि होती है । null को यदि गणित्तिय एक्सप्रेशन में प्रयोग किया जाता है तो उसका परिणाम भी null ही होता है ।

4.Data Catalog Rule:-

 रिलेशनल डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (rdbms in hindi)  का विवरण भी सामान्य डेटा की भांति ही प्रदर्शित किया जाता है । अत : रिलेशनल डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (rdbms in hindi)  की सभी सुविधाओं का उपयोग डेटा व डेटा के विवरण दोनों के लिए किया जाता है । इस नियम के according कोई ऐसा तरीका होना चाहिए जिससे डेटाबेस के डेन को describe किया जा सके । और वह डेटा सभी user के लिए उपलब्ध भी हो । user क्वैरी के माध्यम से ही डेटा या उसके स्ट्रक्चर को देख सकें ऐसी सुविधा भी होनी चाहिए।

5. Comprehensive Data Sublanguage Rule:-

रिलेशनल डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (rdbms in hindi)  के द्वारा डेटाबेस को परिभाषित करने व उसे पुनः प्राप्त ( retrieve ) करने के लिए अनेक language का प्रयोग किया जाता है । इस नियम के अनुसार रिलेशनल डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम  के द्वारा कम से कम एक रिलेशनल लैंग्वेज को support किया जाना चाहिए । RDBMS in hindi की यह language user के समझ में आने वाली भाषा में ही होनी चाहिए ताकि user आसानी से डेटाबेस को define कर सके , आवश्यकता पड़ने पर डेटा को प्राप्त कर सके तथा डेटा में कुछ आवश्यक परिवर्तन भी कर सके । 

6. View Updation Rule :-

कोई भी view जिसे theoretically रूप से update किया जा सकता है वह सिस्टम के द्वारा भी updatable होना चाहिए।

7. High - Level DML Language:-

 इस नियम के अनुसार DML स्टेटमेन्ट इतना शक्तिशाली होना चाहिए कि वह एक ही स्टेटमेन्ट के द्वारा एक से अधिक रिकॉर्ड्स पर कार्य कर सके । एक रिलेश्नल डेटाबेस मैनेजमेन्ट सिस्टम में DML language के अन्तर्गत insert . update व delete को support किया जाना चाहिए । 

8. Physical Data Independence :-

डेटाबेस के अन्तर्गत डेटा physical level पर संग्रहित ( store ) होता है । इस लेवल पर संग्रहित डेटा पूर्ण रूप से स्वतंत्र होना चाहिए , अर्थात् यदि डेटा के संग्रहण विधि ( storage method ) में यदि कोई बदलाव किया जा रहा है तो उसके लिए application level पर स्ट्रक्चर भी कोई बदलाव किया जाए यह आवश्यक न हो , जिससे user को कोई परेशानी का सामना ना करना पड़े ।

9. Logical Data Independence:-

रिलेशनल डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (rdbms in hindi)  में इस नियम के अनुसार यदि किसी टेबल या व्यू में कोई भी logral परिवर्तन करना हो तो इसके लिए प्रोग्राम्स में परिवर्तन करने की आवश्यकता नहीं होनी चाहिए । टेबल में किसी फील्ड को हटाना , किसी नए फील्ड को जोड़ना या किसी फील्ड का size घटाया या बढ़ाना आदि परिवर्तनों को लॉजिकल परिवर्तन कहा जाता है । ऐसे परिवर्तन करने पर उस टेबल से सम्बन्धित बने हुए प्रोग्राम्स में परिवर्तन करने की आवश्यकता नहीं होनी चाहिए ।

10. Integrity Rule :-

इस नियम के अनुसार प्रत्येक रिलेशनल डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (rdbms in hindi) में integrity को जांचने की योग्यता होनी ही चाहिए । टेबल या व्यू की definition की तरह ही integrity constraints भी catalog में ही संग्रहित होने चाहिए । यदि किसी integrity में परिवर्तन करना हो तो बिना एप्लीकेशन प्रोग्राम में परिवर्तन के इनमें परिवर्तन करना सम्भव होना चाहिए । 

11. Distribution Independence :-

जब डेटा नेटवर्क पर होता है तो उस डेटाबेस में विभिन्न प्रयोगकर्ता कार्य करते हैं । समस्त प्रयोगकर्ताओं को पूर्ण डेटाबेस ना देकर उन्हें उनके कार्य के अनुसार डेटाबेस का उतना दिया जाता है । डेटाबेस का यह distribution पूर्ण रूप से स्वतंत्र तथा डेटाबेस के प्रयोगकर्ताओं से छिपा होना चाहिए ।

12. Nonsubversion Rule :-

यदि डेटाबेस से रिकॉर्ड प्राप्त ( access ) करने के लिए कोई इन्टरफेस या क्वैरी लैंग्वेज प्रदान की जा रही है तो वह डेटाबेस में लगी हुई इन्टीग्रिटी व सुरक्षा के अनुरूप ही कार्य करनी चाहिए , अर्थात् उसके द्वारा इन्टीग्रिटी के अनुरूप ही रिकॉर्ड्स उपलब्ध कराने चाहिए ।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag