सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

External sorting algorithm | External sorting in hindi

 आज हम Relational database management system (RDBMS)  में external sorting algorithm और external sorting example के बारे मे जानेगे क्या होता है तो चलिए शुरु करते हैं:-

External sorting algorithm:-

Sorting से तात्पर्य किसी निश्चित फील्ड की वैल्यू के अनुसार डेटाबेस फाईल के सारे रिकॉर्ड्स को एक निश्चित क्रम में जमाना है। यह क्रम आरोही (ascending) या अवरोही (descending) हो सकता है । सॉर्टिंग दो प्रकार की होती है , प्रथम आन्तरिक सॉर्टिंग तथा द्वितीय बाह्य सॉर्टिंग । जो डेटाबेस फाईलें मुख्य मैमोरी अर्थात् आन्तरिक मैमोरी में जाती हैं अर्थात् छोटी होती हैं , ऐसी फाईलों आन्तरिक मैमोरी में ही सॉर्ट किया जाता है इस प्रकार की सॉर्टिंग को आन्तरिक सॉर्टिंग कहा जाता है । ऐसी डेटाबेस फाईलें जो आन्तरिक मैमोरी में समा नहीं सकती हैं उन्हें बाह्य मैमोरी की सहायता से सॉर्ट किया जाता है , इस प्रकार की सॉर्टिंग को बाह्य सॉर्टिंग (external sorting) कहा जाता है ।
क्वैरी प्रोसेसिंग अर्थात् क्वैरी की प्रक्रिया के अन्दर सॉर्टिंग की एल्गोरिथ्य एक प्रमुख भूमिका निभाती है । क्वैरी प्रोसेसिंग के अन्तर्गत प्रयोग की जाने वाली एल्गोरिथ्म में यह एक प्राथमिक एल्गोरिथ्य है । क्वैरी के अन्तर्गत यदि user द्वारा रिकॉर्ड्स के सॉर्टिग की मांग की जाती है तो एस.क्यू एल . के द्वारा रिकॉर्ड्स को सॉर्ट किया जाता है । डेटाबेस की बड़ी फाइलें जो कि डिस्क पर संचित ( stored ) हैं तथा वे मुख्य मैमोरी में पूरी तरह से समा नहीं सकती ऐसी डेटाबेस फाईलों को बाह्य सॉर्टिंग का प्रयोग करके सॉर्ट किया जाता है ।
इस प्रकार की सॉर्टिंग के अन्तर्गत सॉर्ट - मर्ज पद्धति अपनाई जाती है । इसके अन्तर्गत मैमोरी में बफर स्पेस अर्थात् खाली जगह रोक ली जाती है तथा बड़ी डेटाबेस फाईल को छोटी - छोटी उप फाईलों ( sub files ) में विभाजित किया जाता है तथा उन्हें इस बफर स्पेस में लोड किया जाता है । इन उप - फाईलों को एक - एक करके सॉर्ट कर उन्हें आपस में मर्ज कर दिया जाता है । इस पद्धति की एल्गोरिथ्म में दो स्थितियां होती हैं , प्रथम स्थिति उप - फाईलों को सॉर्ट करना तथा द्वितीय स्थिति सॉर्ट की हुई उप - फाईलों को आपस में मर्ज करके एक सॉर्टेड फाईल का निर्माण करना है । 

Types of external sorting: -

1. प्रथम स्थिति : उप - फाईलों को सॉर्ट करना 
2. द्वितीय स्थिति : उप - फाईलों को आपस में मर्ज करना

1. प्रथम स्थिति : उप - फाईलों को सॉर्ट करना (1. First Position: Sorting Subfiles):-

बाह्य सॉर्टिंग की इस स्थिति में वे उप - फाईलें जो आन्तरिक मैमोरी अर्थात् मुख्य मैमोरी के बफर स्पेस में आ सकती हैं को बफर स्पेस में लोड किया जाता है । इन उप - फाईलों को आन्तरिक सॉर्ट एल्गोरिथ्म का प्रयोग करके सॉर्ट किया जाता है । बाद में इन सॉर्ट की हुई उप - फाईलों को पुनः डिस्क पर अर्थात् बाह्य मैमोरी में अस्थाई रूप से संचित किया जाता है । 

2. द्वितीय स्थिति : उप - फाईलों को आपस में मर्ज करना (Second Status: Merging Sub-Files):-

बाह्य सॉर्टिंग की इस स्थिति में बाह्य मैमोरी में अस्थाई रूप से संचित उप फाईलों को एक या अधिक हस्तान्तरण में मर्ज किया जाता है । प्रत्येक हस्तान्तरण में एक साथ मर्ज की जाने वाली उप - फाईलों की संख्या को degree of merging ( dm ) कहा जाता है । 

external sorting Algorithm : -

Step 1 - Read data from database 
Step 2- Create buffer space in memory Step 
3 - Divide database in sub - files according to the buffer space 
Step 4- Sort sub - files using internal sorting algorithm 
Step 5- Merge the sorted sub - files using merging algorithm 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल