सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

Kernel Approach

relational data structure in dbms - dbms in hindi

 Relational data structure in dbms in hindi:-

इसमे एक Relational, डेटा को Two dimensional table के नाम से जाना जाता है प्रत्येक रिलेशन या डेटा Named Columns का group और बहुत सी Unnamed rows को रखता है और एक Attribute या quality एक relation के column का नाम है । इसमे प्रत्येक row एक रिकॉर्ड के Identical होती है , जो Single entity के लिए Data value या Attribute रखती है और टेबल में ' STUDENT रिलेशन का एक example Indicates है। 
यह रिलेशन students को define करने के लिए निम्न Attribute , Stud - Id , Name , Sub Name और Class को Include करता है और table की तीन row , तीन student के Identical हैं । यह आवश्यक है कि टेबल में show किया गया डेटा , सेम्पल डेटा है जिसका objective STUDENT रिलेशन की structure को show करना है यदि हम table के डेटा की row में एक अन्य line से जोड़ते हैं , तो भी रिलेशन STUDENT वैसा ही रहेगा तथा यदि रिलेशन STUDENT से कोई line मिटाई जाती है और तब भी वह वैसा ही रहेगा।
यदि हम टेबल में show की गई सभी lines मिटा दें तो भी रिलेशन STUDENT वैसा ही बना रहेगा । इसमे विभिन्न प्रकार से Specified , टेबल और रिलेशन STUDENT का एक Instance या structure है ।
Relational data structure in dbms
इसमे हम किसी रिलेशन की Structure को Shorthand notation द्वारा defile कर सकते हैं , इस Shorthand notation में व रिलेशन का नाम और रिलेशन में Present Attributes के नीचे Parentheses में आता है : 
STUDENT ( Stud - Id , Name , Sub - Name , Class)

1.रिलेशन कीज :- 

इसमे हम किसी रिलेशन में डेटा की line को store करके व किसी line की रिलेशन से Received करने में Capable होते हैं और किसी रिलेशन में lines को store करना या Received करना उस line में store डेटा वेल्यूज पर based होता है ।

2. प्रायमरी'की ' :- 

इसमे इस objective को Received करने के लिए हर रिलेशन प्रायमरी ' की ' की arrangement रखता है और एक प्रायमरी ' की ' एक ऐसा Attribute या Attributes का coincidence है और जो रिलेशन में उपस्थित प्रत्येक पंक्ति की अलग पहचान करता है । हम Attribute नाम को define करके प्रायमरी ' की ' बना सकते हैं
 उदाहरण:-  STUDENT रिलेशन के लिए प्रायमरी ' की ' Stud - Id है । टेबल में यह Attribute अन्डरलाईन करके अलग से Indicated गया है । 
 STUDENT ( Stud - Id , Name , Sub - Name , Class )

3. कम्पोजिट ' की ' :- 

इसमे एक कम्पोजिट ' की ' एक प्रकार से प्रायमरी ' की ' ही है जो एक से अधिक Attributes को शामिल करती है । 
उदाहरण : रिलेशन LIBRARY के लिए प्रायमरी ' की ' , Stud - Id और Sub - Name दो Attributes का coincidence है।
इसमे यहाँ Sub - Name Attribute , STUDNET में फॉरेन ' की ' है और यह user को किसी भी स्टूडेंट को Provide किए गए क्लास के नाम के द्वारा उस स्टूडेंट से जुड़ने की Permission Provide करती है । 
जैसे : STUDENT ( Stud - Id , Name , Sub - Name , Class )








टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ