सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

boolean algebra in hindi

javascript get type of object

 आज हम computers in hindi मे javascript get type of object -  java in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- 

javascript get type of object:-

Java में कई बिल्ट - इन ऑब्जेक्ट होते हैं । मुख्य रुप से काम आने वा बिल्ट - इन ऑब्जेक्ट्स ( DOM ) को दो categories मे divided किया है:-

1. Language objects:-

javascript get type of object

object to array java:-

Array कुछ वैल्यूज का समूह होता है जिन्हें काम में लेने के लिए Array के नाम तथा इंडेक्स का प्रयोग किया जाता है।

Javascript Array and Object Methods:-

concat arrays typescript ( ... ) :-

इस मैथड का प्रयोग दो एरे को जोड़कर एक नया एरे बनाने के लिए किया जाता है ।

join ( separator ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग किसी Array के सभी एलीमेंट्स को एक स्ट्रिंग में जोड़ने के लिए किया जाता है । 

popo typescript object:-

यह मैथड Array के अंतिम एलीमेंट को रिटर्न करता है तथा उसे Array में से डिलीट भी कर देता है । 

push ( item1 , item2 , ... ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग Array के अंत में एक या अधिक एलीमेंट्स को जोड़ने तथा अंतिम एलीमेंट को रिटर्न कराने के लिए किया जाता है । 

reverse ( ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग Array के एलीमेंट्स को विपरीत क्रम में व्यवस्थित करने के लिए किया जाता है ।

shift ( ) typescript object:-

यह मैथड Array के पहले एलीमेंट को रिटर्न करता है तथा उसे Array में से डिलीट कर देता है । 

slice ( start , end ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग Array के किसी भाग का एक नया Array बनाने के लिए किया जाता है ।

splice ( index , howmany , item1 ...... )typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग Array के एलीमेंट्स को डिलीट करने , या किसी एलीमेंट के स्थान पर दूसरे एलीमेंट्स को स्टोर कराने या इंसर्ट कराने के लिए किया जाता है । 

sort ( ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग Array के एलीमेंट्स को आरोही ( ascending ) क्रम में व्यवस्थित करने के लिए किया जाता है । 

unshift ( item1 , item2 , ... ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग एक या अधिक एलीमेंट्स को Array के प्रारम्भ में जोड़ने के लिए किया जाता है । 

length प्रॉपर्टी :-

इस प्रॉपर्टी का प्रयोग Array में मौजूद एलीमेंट्स की संख्या ज्ञात करने के लिए किया जाता है ।

object to date in java:-

जावा स्क्रिप्ट में Date ऑब्जेक्ट का प्रयोग date तथा time से releted कार्यों को करने के लिए किया जाता है । 

Method of Date object:-

getDay () typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग date ऑब्जेक्ट में से सप्ताह का दिन रिटर्न कराने के लिए किया जाता है । 

egetMonth ( ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग date ऑब्जेक्ट में से month रिटर्न कराने के लिए किया जाता है । 

getYear ( ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग date ऑब्जेक्ट में से year रिटर्न कराने के लिए किया जाता है । 

getHours ( ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग date ऑब्जेक्ट में से hours रिटर्न कराने के लिए किया जाता है ।

getMinutes ( ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग date ऑब्जेक्ट में से minute रिटर्न कराने के लिए किया जाता है । 

getSeconds () typescript object:-

 इस मैथड का प्रयोग date ऑब्जेक्ट में से second रिटर्न कराने के लिए किया जाता है। 

getMilliseconds ( ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग date ऑब्जेक्ट में से millisecond रिटर्न कराने के लिए किया जाता है।

Java math object:-

Math ऑब्जेक्ट का प्रयोग जावा स्क्रिप्ट में विभिन्न प्रकार के गणितीय कार्यों को करने के लिए किया जाता है । इस ऑब्जेक्ट के कई मैथड होते हैं :-

abs ( n ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग ऋणात्मक ( negative ) संख्या को धनात्मक ( positive ) संख्या में परिवर्तित करने के लिए किया जाता है । 

ceil ( n ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग किसी दशमलव वाली संख्या को अगली इंटीजर संख्या में परिवर्तित करने के लिए किया जाता है । 

floor ( n ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग किसी दशमलव वाली संख्या को पिछली इंटीजर संख्या में परिवर्तित करने के लिए किया जाता है । 

max ( n1.n2 , n3 .... ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग दी गई संख्याओं में से सबसे बड़ी संख्या को प्रिंट कराने के लिए किया जाता है ।

min ( n1 , n2 , n3 .... ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग दी गई संख्याओं में से सबसे छोटी संख्या को प्रिंट कराने के लिए किया जाता है । 

pow ( n ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग दी गई संख्या की घात ( power ) ज्ञात करने के लिए किया जाता है । 

random ( ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग से 1 के बीच , रेंडम नम्बर जनरेट करने के लिए किया जाता है । 

round ( n )typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग दी गई संख्या को पूर्णांक संख्या ( whole number ) में परिवर्तित करने के लिए किया जाता है । 

sqrt ( n ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग दी गई संख्या का वर्गमूल ( square root ) ज्ञात करने के लिए किया जाता है ।

Java string object:-

इस ऑब्जेक्ट का प्रयोग जावा स्क्रिप्ट में टैक्स्ट से releted  विभिन्न कार्यों को करने के लिए किया जाता है ।  

charAt ( index ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग स्ट्रिग में से दी गई इंडेक्स पोजीशन वाले कैरेक्टर को रिटर्न कराने के लिए किया जाता है ।  

concat ( string1 , string2 , ... ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग एक से अधिक स्ट्रिंग को आपस में जोड़ने के लिए किया जाता है । 

indexOf ( search Value , start ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग स्ट्रिंग में किसी कैरेक्टर की इंडेक्स पोजीशन ज्ञात करने के लिए किया जाता है । यदि दिया गया कैरेक्टर स्ट्रिंग में एक से अधिक बार है तो यह मैथड केवल पहले वाले कैरेक्टर का इंडेक्स रिटर्न करता है । 

lastindexof ( searchvalue , start ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग स्ट्रिंग में किसी कैरेक्टर की अंतिम इंडेक्स पोजीशन ज्ञात करने के लिए किया जाता है । 

match ( string ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग स्ट्रिंग में अन्य स्ट्रिंग को सर्च करने के लिए किया जाता है । यदि सर्च किया जाने वाला स्ट्रिंग मिल जाता है तो यह मैथड उस स्ट्रिग को रिटर्न करता है । और यदि सर्च किया जाने वाला स्ट्रिंग नहीं मिलता है तो यह मैथड null रिटर्न करता है । 

search ( search Value ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग एक रिट्रंग में अन्य स्ट्रिग को सर्च करने के लिए किया जाता है । यदि सर्च किया जाने वाला स्ट्रिंग मिल जाता है तो यह मैथड इंडेक्स पोजीशन रिटर्न करता है । और यदि सर्च किया जाने वाला स्ट्रिंग नहीं मिलता है तो यह मैथड -1 रिटर्न करता है । 

replace ( searchvalue.newvalue ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग स्ट्रिंग के किसी भाग को अन्य स्ट्रिंग से परिवर्तित करने के लिए किया जाता है । 

toUpperCase ( ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग स्ट्रिंग के छोटे अक्षरों को बड़े अक्षरों में परिवर्तित करने के लिए किया जाता है।

toLowerCase ( ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग स्ट्रिंग के बड़े अक्षरों को छोटे अक्षरों में परिवर्तित करने के लिए किया जाता है । 

split ( separator , lirnit ) typescript object:-

यह मैथड स्ट्रिंग को टुकड़ो में विभाजित कर इनका एक एरे रिटर्न करता है । इस मैथड में हम वह कैरेक्टर पास करा सकते हैं जिसके आधार पर स्ट्रिंग को विभाजित करना है । यदि इस मैथड में कोई आरम्यूमेंट पास नहीं कराया जाता है तो स्ट्रिंग स्पेस ( space ) के आधार पर विभाजित हो जाता है । 

slice ( start , end ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग स्ट्रिंग में से एक इंडेक्स पोजीशन से लेकर दूसरी इंडेक्स पोजीशन से पहले तक के कैरेक्टर्स को रिटर्न कराने के लिए किया जाता है । 

substr ( start , length )typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग स्ट्रिंग में से एक इंडेक्स पोजीशन से लेकर निश्चित संख्या के कैरेक्टर्स को रिटर्न कराने के लिए किया जाता है। 

substring ( from , to ) typescript object:-

इस मैथड का प्रयोग स्ट्रिंग में से एक इंडेक्स पोजीशन से लेकर दूसरी इंडेक्स पोजीशन तक के कैरेक्टर्स को रिटर्न कराने के लिए किया जाता है । 

link ( url ) typescript object:-

 इस मैथड का प्रयोग स्ट्रिंग पर हायपरलिंक सेट करने के लिए किया जाता है।

length प्रॉपर्टी :-

इस प्रॉपर्टी का प्रयोग स्ट्रिंग में उपस्थित कैरेक्टर्स की संख्या ज्ञात करने के लिए किया जाता है । 

2. Window object:-

ये ऑब्जेक्ट क्लाइंट ब्राउजर द्वारा उपलब्ध करवाए जाते हैं । इस ऑब्जेक्ट में कई अन्य ऑब्जेक्ट जैसे document , History आदि होते हैं ।
  • closed 
  • defaultStatus
  • frames 
  • status 
  • length 
  • opener 

document objects:-

document ऑब्जेक्ट की सहायता से हम HTML पेज के एलीमेंट्स को एक्सेस कर सकते हैं ।  
प्रॉपर्टीज : 
  • linkColor 
  • alinkColor 
  • vlinkColor 
  • bgColor 
  • fgColor
  • title 
  • URL

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ

foxpro data type in hindi । फॉक्सप्रो

 आज हम computers in hindi मे फॉक्सप्रो क्या है?  Foxpro data type in hindi  कार्य के बारे मे जानेगे? How many data types are available in foxpro?    में  तो चलिए शुरु करते हैं-    How many data types are available in foxpro? ( फॉक्सप्रो में कितने डेटा प्रकार उपलब्ध हैं?):- FoxPro में बनाई गई डेटाबेस फाईल का एक्सटेन्शन नाम .dbf होता है । foxpro data type in hindi (फॉक्सप्रो डेटा प्रकार) :- Character data type Numeric data type Float data type Date data type Logical data type Memo data type General data type 1. Character data type :- Character data type  की फील्ड में अधिकतम 254 Character store किये जा सकते हैं । इस टाईप की फील्ड में अक्षर जैसे ( A , B , C , .......Z ) ( a , b , c , ...........z ) तथा इसके साथ ही न्यूमेरिक अंक ( 0-9 ) व Special Character ( + , - , / . x , ? , = ; etc ) आदि भी Store करवाए जा सकते हैं । इस प्रकार की फील्ड का प्रयोग नाम , पता , फोन नम्बर , शहर का नाम , पिता का नाम , माता का नाम आदि संग्रहित करने के लिए किया जाता है । 2. Numeric data type :- Numeric da

कंप्यूटर की पीढियां । generation of computer in hindi language

generation of computer in hindi  :- generation of computer in hindi language ( कम्प्युटर की पीढियाँ):- कम्प्यूटर तकनीकी विकास के द्वारा जो कम्प्यूटर के कार्यशैली तथा क्षमताओं में विकास हुआ इसके फलस्वरूप कम्प्यूटर विभिन्न पीढीयों तथा विभिन्न प्रकार की कम्प्यूटर की क्षमताओं के निर्माण का आविष्कार हुआ । कार्य क्षमता के इस विकास को सन् 1964 में कम्प्यूटर जनरेशन (computer generation) कहा जाने लगा । इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर के विकास को सन् 1946 से अब तक पाँच पीढ़ियों में वर्गीकृत किया जा सकता है । प्रत्येक नई पीढ़ी की शुरुआत कम्प्यूटर में प्रयुक्त नये प्रोसेसर , परिपथ और अन्य पुर्षों के आधार पर निर्धारित की जा सकती है । ● First Generation of computer in hindi  (कम्प्युटर की प्रथम पीढ़ी) : Vacuum Tubes ( वैक्यूम ट्यूब्स) ( 1946 - 1958 ):- प्रथम इलेक्ट्रॉनिक ' कम्प्यूटर 1946 में अस्तित्व में आया था तथा उसका नाम इलैक्ट्रॉनिक न्यूमेरिकल इन्टीग्रेटर एन्ड कैलकुलेटर ( ENIAC ) था । इसका आविष्कार जे . पी . ईकर्ट ( J . P . Eckert ) तथा जे . डब्ल्यू . मोश्ले ( J . W .