सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

bridges in hindi - ब्रिज क्या है

 आज हम computers in hindi मे bridges in hindi - ब्रिज क्या है -computer networks in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- 

what is bridges in hindi ( ब्रिज क्या है) :-

ब्रिज ( Bridge ) एक Networking device  है जिसका प्रयोग दो  LANS को Connect करने के लिए किया जा सकता है , जो एक समान प्रोटोकॉल का प्रयोग करते हैं जैसे Ethernet या टोकन रिंग ( Token ring )  ब्रिज ( Bridge ) का प्रयोग एक नेटवर्क को Isolate करने के लिए भी किया जा सकता है । हमारे द्वारा भेजे जाने वाले हर  Message को LAN पर , ब्रिज ( Bridge ) द्वारा Check किया जाता है कि Message को उसी LAN मे पास करना है या दूसरी कनेक्टेड लैन ( Other interconnected LAN ) में भेजना है ।
ब्रिजेस ( Bridges ) का प्रयोग ,  LAN की लम्बाई  को बढ़ाने के लिए , अधिक संख्या में नेटवर्क से जुड़े कम्प्यूटरों के कारण उत्पन्न होने वाले ट्रैफिक की समस्याओं को दूर करने के लिए , किसी  नेटवर्क में कम्प्यूटरों की संख्या बढ़ाने के लिए , ओवरलोडेड  नेटवर्क को दो अलग - अलग नेटवर्क में  Divide करने के लिए , किया जाता है ।  

ब्रिजेस कैसे कार्य करते हैं ( How Bridges Work):-

Bridging network में , कम्प्यूटर या Node address  का Location से कोई रिलेशनशिप नहीं होता है । इस कारण , Messages को  नेटवर्क के हर Address पर भेजा जाता है और जो Destination node होता है , उसके द्वारा Message को Accept कर लिया जाता है । ब्रिजेस ( Bridges ) देखते हैं कि कौनसा Address किस  नेटवर्क का है और फिर वे एक Learning table विकसित करते हैं ताकि Message को सही  नेटवर्क पर भेजा जा सके ।
ब्रिज ( Bridge )  नेटवर्क के Data - link level फीजीकल नेटवर्क पर Work करते हैं । ये एक डेटा - फ्रेम ( Data frame ) को एक  नेटवर्क से दूसरे  नेटवर्क पर Copy कर देते हैं ।
 एक ब्रिज ( Bridge ) कभी - कभी राउटर ( Router ) के साथ Combined होता है तो इस Product को ब्राउटर ( Brouter ) कहा जाता है । 
ब्रिज ( Bridge ) Routing table or learning table को अपने RAM में Store करके रखते हैं , प्रारम्भ में यह टेबल खाली होती है , पर जैसे - जैसे Nodes पैकेट्स को Transmit करते हैं उनके Source address टेबल में Copy हो जाते हैं।
जब ब्रिज ( Bridge ) किसी पैकेट को Receive करता है , और यदि किसी पैकेट का Destination address ब्रिज ( Bridge ) की टेबल में होता है तो ब्रिज ( Bridge ) उस पैकेट को Destination node को Forward कर देता है ओर यदि Address नहीं होता है तो ब्रिज ( Bridge ) उसे  नेटवर्क के सभी Nodes को Forward कर देता है । Simple bridges सस्ते होते हैं और ब्रिजेस ( Bridges ) में Access control और Network management capabilities होती है । 

Rounting with Bridges:-

 एक ब्रिज ( Bridge ) कभी - कभी राउटर ( Router ) के साथ कम्बाइन होता है तो इस Product को ब्राउटर ( Brouter ) कहा जाता है । ब्रिज ( Bridge ) Routing table or learning table को अपने रैम ( RAM ) में Store करके खते हैं , प्रारम्भ में यह टेबल खाली होती है , पर जैसे - जैसे नोड्स  पैकेट्स को Transmit करते हैं उनके Source address टेबल में Copy हो जाते हैं ।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल