सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

planning a software project in hindi

cellular telephony in data communication

 आज हम computers in cellular telephony in data communication - computer network in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

cellular telephony in data communication:-

सैल्यूलर सिस्टम वायरलैस कम्यूनिकेशन अर्थात् मोबाईल कम्यूनिकेशन में प्रयोग किया जाता है । Cellular system के द्वारा सीमित frequency spectrum में अधिक संख्या में users , arge geographical area में आपस में communication कर सकते हैं । Celleular system , land line system से high quality की सेवा प्रदान करता है ।
इसमें एक छोटे भौतिक क्षेत्र को सेल ( Cell ) कहते हैं । प्रत्येक सैल में एक base station होता है । जब कोई प्रयोगकर्ता एक सैल से दूसरे सैल में जाता है तो उस पर दूसरे सेल का base station control करता है । सभी सैल के base station को Mobile switching center ( MSC ) द्वारा नियंत्रित किया जाता है । जब Cell में प्रयोगकर्ता की संख्या बढ़ती है तो Cell को दिए गए चैनलों की संख्या इन प्रयोगकर्ता के लिए पर्याप्त नहीं होती हैं इस कारण cell की क्षमता ( capacity ) को बढ़ाने के लिए Cell Splitting Technique , Cell Sectoring Technique , Microcel's Zone Technique , Repeater for Range Expansion तकनीकों का प्रयोग किया जाता है । 
सैल्यूलर सिस्टम का प्रयोग अधिक संख्या में users को नेटवर्क प्रदान करने के लिए किया जाता है ।

Capacity Improvement Techniques in Cellular System:-

 1. सैल विभाजन ( cell splitting ) :-

इस तकनीक के अन्तर्गत बढ़े अथवा congested सैल को उसी के बेस स्टेशन के साथ छोटे - छोटे सैल्स में विभाजित किया जाता है । सैल छोटे होने के कारण चैनल्स का बार - बार प्रयोग होता है तथा सैल्यूलर सिस्टम की क्षमता में वृद्धि होती है ।

2. सैल सैक्टरिंग ( cell sectoring ):-

 सैल सैक्टरिंग तकनीक के अन्तर्गत बेस स्टेशन में स्थित single omni directional एनटिना के स्थान पर several directional एनटिना को स्थापित किया जाता है , जो कि अपने सैक्टर के साथ radiate करती है । डायरेक्शनल एनटिना के प्रयोग से सैल को तीन अथवा छ : सैक्टर्स में विभाजित किया जाता है । 

3. माइक्रासैल जोन ( microcell zone ):-

सैलफोन के एक स्टेशन से दूसरे स्टेशन में स्थानान्तरण को हैण्डऑफ कहते हैं । अधिक हैण्ड ऑफ होने के कारण स्विचिंग तथा कंट्रोल लिंक पर लोड बढ़ जाता है । इस लोड को कम करने के लिए माइक्रोसैल जोन विधि का प्रयोग किया जाता है । इस विधि में बड़े कंट्रोल बेस स्टेशन के स्थान पर कई छोटे - छोटे कम पावर वाले ट्रांस्मिटर्स का प्रयोग किया जाता है , इससे सिस्टम क्षमता में वृद्धि होती है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ

foxpro data type in hindi । फॉक्सप्रो

 आज हम computers in hindi मे फॉक्सप्रो क्या है?  Foxpro data type in hindi  कार्य के बारे मे जानेगे? How many data types are available in foxpro?    में  तो चलिए शुरु करते हैं-    How many data types are available in foxpro? ( फॉक्सप्रो में कितने डेटा प्रकार उपलब्ध हैं?):- FoxPro में बनाई गई डेटाबेस फाईल का एक्सटेन्शन नाम .dbf होता है । foxpro data type in hindi (फॉक्सप्रो डेटा प्रकार) :- Character data type Numeric data type Float data type Date data type Logical data type Memo data type General data type 1. Character data type :- Character data type  की फील्ड में अधिकतम 254 Character store किये जा सकते हैं । इस टाईप की फील्ड में अक्षर जैसे ( A , B , C , .......Z ) ( a , b , c , ...........z ) तथा इसके साथ ही न्यूमेरिक अंक ( 0-9 ) व Special Character ( + , - , / . x , ? , = ; etc ) आदि भी Store करवाए जा सकते हैं । इस प्रकार की फील्ड का प्रयोग नाम , पता , फोन नम्बर , शहर का नाम , पिता का नाम , माता का नाम आदि संग्रहित करने के लिए किया जाता है । 2. Numeric data type :- Numeric da

Management information system (MIS in hindi)

What is Management Information Systems (MIS) in hindi ? Introduction to management information system (MIS in hindi):-  बिजनेस प्रॉब्लम का समाधान प्राप्त करने के लिए युजर, तकनीक और प्रॉसीजर (procedure) एक साथ मिलकर  कार्य करते हैं। यूूूूजर तकनीक और प्रॉसीजर के सकलन को Information system  कहते हैं।   management information system definition :- जब इनफॉर्मेशन सिस्टम में निहित सभी भाग एक अनुशासन (Discipline) विधि से किसी बिजनेस प्रॉब्लम को हल करते हैं तो इस प्रक्रिया को Management information system ( MIS in hindi ) कहते हैं।   MIS कोई नवीन व्यवस्था नहीं है, कंप्यूटर के आगमन से पूर्व व्यवसाय की गतिविधियों का योजना निर्धारण और नियन्त्रण करने का कार्य इसी प्रकार की MIS विधि से ही सम्पन्न किया जाता था।  कंप्यूटर ने इस MIS व्यवस्था में नवीन आयामों  जैसे, गति (speed), शुद्धता (accuracy) और वृहद मात्रा में डेटा समापन को भी सम्मिलित कर दिया गया है। management, Information और system    को कंप्यूटर की सहायता से मिश्रित व्यावसायिक गतिविधियों को सम्पन्न किया जाता है।  किसी ऑर्गेनाइजेशन की ऑ