सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

Electronic payment system in hindi

 आज हम computers in hindi मे electronic payment system in hindi (ई - पेमेन्ट सिस्टम)- e commerce in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

Electronic payment system in hindi:-

 electronic payment system, ई - पेमेन्ट अर्थात् ई - भुगतान सिस्टम को ऑनलाईन मनी ट्रांस्फर सिस्टम भी कहा जाता है । यह एक ऐसा भुगतान सिस्टम है , जिसे इन्टरनेट के माध्यम से किया जाता है । इसका प्रयोग वस्तु और सेवाओं के लिये ऑन लाईन पेमेन्ट करने के लिए किया जाता है । यदि कोई consumer किसी वस्तु को ऑनलाईन खरीद करता है तो वह उसके लिए भुगतान electronic payment system के माध्यम से करता है । आजकल व्यक्ति समय बचाने के लिए विभिन्न बिलों का भुगतान भी ई - पेमेन्ट सिस्टम के माध्यम से ही करता है । ई - पेमेन्ट अथवा ई - भुगतान सिस्टम वास्तव में एक प्रकार का वित्तिय विनिमय है जो कि आम तौर पर क्रेता व विक्रेता के मध्य किया जाता है । ई - पेमेन्ट सिस्टम को ऑनलाईन शॉपिंग , ई - बिज़नेस , ई - बैंकिंग आदि सेवाओं का  प्रयोग करते समय किया जा सकता है । इसका प्रमुख objective consumer के समय को बचाना होता है । इसके लिए ग्राहक को बड़े भुगतान करने के लिए बैंक जाकर पैसे लाने की आवश्यकता नहीं होती वह क्रेडिक कार्ड के माध्यम से वस्तु के मूल्य का भुगतान कर सकता है ।

types of electronic payment system in hindi:-

आजकल ई - पेमेन्ट सिस्टम का प्रयोग सर्वाधिक प्रचलित है । इस प्रकार के सिस्टम में समय की बचत होती हैं , क्योंकि उपभोक्ता को भुगतान करने के लिए बैंक या ए.टी.एम. केन्द्र आदि पर जाने की आवश्यकता नहीं होती है और ना ही विक्रेता के पास भुगतान करने के लिए जाना होता है । आज के समय में ई - पेमेन्ट कई प्रकार से किया जा सकता है।

1. credit card based electronic payment system in hindi:-

आज के समय में ई - पेमेन्ट का प्रचलित प्रकार पेमेन्ट कार्ड है । पेमेन्ट कार्ड में डेबिट कार्ड , क्रेडिट कार्ड आदि अधिक प्रचलित हैं । सामान्यतः ये कार्ड प्लास्टिक के होते हैं तथा इन पर मैग्नेटिक स्ट्रिप लगी होती है , जिसमें इनफॉर्मेशन स्टोर होती है । कार्ड को टर्मिनल पर swipe किया जाता है तो मैग्नेटिक स्ट्रिप पर संग्रहित इनफॉर्मेशन को टर्मिनल पढ़ लेता है तथा सूचना व दिए गए भुगतान मूल्य के अनुसार ट्रांजेक्शन करता है , इस प्रकार कार्ड के द्वारा ई - पेमेन्ट किया जा सकता है ।

2. इन्टरनेट भुगतान ( Internet payment in hindi):-

इस प्रकार का भुगतान ऑनलाईन अर्थात् इन्टरनेट के माध्यम से किया जाता है । इस प्रकार के ई - पेमेन्ट का प्रयोग अधिकतर ऑनलाईन शॉपिंग में किया जाता है । ऑनलाईन शॉपिंग के समय ऑनलाईन भुगतान क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड या स्वयं के बैंक अकाउंट के द्वारा किया जाता है , परन्तु इसमें मशीन पर कार्ड को swipe करने के बजाय वेबसाईट पर क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड का नम्बर , कार्ड पर अंकित नाम , गोपनीय पासवर्ड तथा भुगतान का मूल्य आदि इनपुट कर भुगतान किया जाता है । यह भुगतान उपभोक्ता के द्वारा विक्रेता को तृतीय पक्ष के माध्यम से किया जाता है । इसमें उपभोक्ता के ट्रांजेक्शन को सॉफ्टवेयर के द्वारा सुरक्षा भी प्रदान की जाती है ।

3. मोबाईल भुगतान ( Mobile payment ) :-

आज मोबाईल फोन का प्रयोग बहुत अधिक प्रचलित है । कई कम्पनियां मोबाईल के द्वारा रीचार्ज या अन्य प्रकार के भुगतान की सेवाएं भी प्रदान करती हैं । इसके लिए विशेष प्रकार के सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया जाता है , ये सेवाएं मल्टीमीडिया फोन , स्मार्ट फोन आदि में उपलब्ध होती हैं । इनमें WAP का प्रयोग किया जाता है । 

4.वित्तिय सेवा क्योस्क ( Financial service kiosk ):-

 वित्तिय ट्रांजेक्शन्स के लिए कई कम्पनियां क्योस्क की सुविधा प्रदान करती है । KIOSK एक कम्प्यूटर टर्मिनल होता है , इसमें विशेष प्रकार के सॉफ्टवेयर होते हैं । यह डेटा को स्वयं की मैमोरी में संग्रहित करता है तथा यह डेटा को कम्प्यूटर नेटवर्क से ले सकता है । विभिन्न प्रकार के बिलों का भुगतान , ऑनलाईन फॉर्म का भुगतान आदि क्योस्क के द्वारा किया जाता है । इन क्योस्क के द्वारा व्यक्ति किसी कम्पनी को ऑनलाईन भुगतान कर सकता है । उपभोक्ता क्योस्क धारक को ट्रांस्फर किए गए मूल्य का भुगतान व सेवा शुल्क अदा करता है ।

5. ई - कैश ( E - Cash ):-

यह एक प्रकार की वर्चुअल कैश होती है अर्थात् यह कैश इलैक्ट्रॉनिक रूप में होती है , जिसका प्रयोग ऑनलाईन शॉपिंग में किया जाता है । इस प्रकार के भुगतान के लिए हस्त रोकड़ , बैंक या तृतीय पक्ष आदि की आवश्यकता नहीं होती है । इसे प्रायः स्मार्ट कार्ड के माध्यम से प्रयोग किया जाता है , इस कार्ड पर एक माइक्रो प्रोसेसर चिप लगी होती है । सुरक्षित ट्रांजेक्शन के लिए माइक्रो प्रोसेसर चिप में कैश की वैल्यू व सिक्योरिटी फीचर्स संग्रहित होते हैं । ई - कैश consumer के स्थान से सीधे saller के पास ट्रांस्फर हो जाती है , इसके लिए , consumer के द्वारा विशिष्ट प्रकार के सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया जाता है ।

useful for E - payment in hindi:-

 एक enterprise के लिए ई - पेमेन्ट सिस्टम बहुत उपयोगी है । यदि एक enterprise जो बडे स्तर पर उत्पादन का उत्पाद का हस्तान्तरण करता है तो उसे वस्तु के बदले में उसका मूल्य ई - पेमेन्ट के माध्यम से तुरन्त उसके खाते में जमा हो जाता है । enterprise को बार - बार कैश को लेजाकर बैंक में जमा कराने की असुविधा से मुक्ति मिल जाती है । ई - पेमेन्ट के माध्यम से उसे भुगतान तुरन्त उसके खाते में प्राप्त हो जाता है , यदि उसे भी कोई भुगतान करना है तो वह अपने खाते में जमा राशि या बकाया राशि की जानकारी प्राप्त कर आवश्यक राशि का भुगतान भी कर सकता है । ई - पेमेन्ट सिस्टम के अन्तर्गत भुगतान प्राप्तकर्ता को भुगतान प्राप्त होने की पुष्टि करने के लिए बैंक जाकर जानकारी प्राप्त करने की आवश्यकता नहीं होती है वह ऑनलाईन बैंकिंग के माध्यम से यह जानकारी अपने स्थान पर बैठे ही प्राप्त कर सकता है।

ई - पेमेन्ट के अनुप्रयोग ( Applications of E - payment in hindi) :-

ई - पेमेन्ट हो ई - भुगतान के नाम से भी जाना जाता है । ई - कॉमर्स की एप्लीकेशन्स को प्रयोग ऑन - लाईन क्रय तथा विक्रय अर्थात् लेनेदेन के लिए किया जाता है । यदि किसी वस्तु का क्रय या विक्रय किया जाता है तो उसके बदले में निश्चित कीमत का भुगतान किया जाता है , इस भुगतान हेतु ई - पेमेन्ट का प्रयोग किया जाता है । 

• व्यवसाय के क्षेत्र में:-

 आज ई - पेमेन्ट का सर्वाधिक उपयोग व्यवसाय के क्षेत्र में हो रहा है । व्यवसाय में जहां एक ओर लेने - देन बढ़ती जा रही हैं वहीं आज worldwide business होने के बाद व्यवसायिकों को समय का अभाव रहता है , इसलिए वे ई - पेमेन्ट के द्वारा ही भुगतान करते हैं सामान्यत : बड़े स्तर पर व्यवसाय करने वाले व्यवसायिकों की लेन - देन का राशि अधिक होती है , जिसे एक स्थान से दूसरे स्थान पर नकद के रूप ले जाना कठिन होता है तथा इससे सममें समय भी व्यर्थ होता है , इसलिए अधिकांश business professional लेन - देन हेतु ई - पेमेन्ट सिस्टम का ही प्रयोग करते हैं ।

• शिक्षा के क्षेत्र में:-

 धीरे - धीरे आज शिक्षा भी worldwide होती जा रही है । आज हम ऑनलाईन शिक्षा या ई - ऐज्यूकेशन से अनभिज्ञ नहीं हैं । कुछ महाविद्यालय तथा कुछ विश्वविद्यालय भी उच्च स्तर की शिक्षा वर्चुअल शिक्षा तथा ऑनलाईन शिक्षा के माध्यम विद्यार्थियों को उपलब्ध करवाते हैं ताकि विद्यार्थी घर बैठे ऐसी शिक्षा का लाभ उठा सकें । यह सुविधा प्रायः उन विद्यार्थियों के लिए बनाई गई है जो कहीं नौकरी या व्यवसाय करते हों तथा वे विश्वविद्यालय में नियमित रूप से जाने में असमर्थ हों । ऐसी शिक्षा के लिए फीस का भुगतान ई - पेमेन्ट सिस्टम द्वारा करना ही सुलभ होता है , इसके अतिरिक्त कई प्रकार की किताबें डाउनलोड की जा सकती हैं या उन्हें खरीदने के लिए ऑर्डर बुक कराये जाते हैं ऐसे में भी भुगतान पेमेन्ट सिस्टम द्वारा ही किया जाता है ।

• बैंकिंग के क्षेत्र में:-

 ई - पेमेन्ट सिस्टम का उपयोग बैंकिंग के क्षेत्र में भी किया जाता है । मान लीलिए कि किसी एक व्यक्ति को किसी अन्य व्यक्ति को एक निश्चित राशि का भुगतान करना है , तो ऐसी स्थिति में वह व्यक्ति ऑनलाईन बैंकिंग के माध्यम से ई - पेमेन्ट सिस्टम का प्रयोग करके अपने एकाउंट से उस व्यक्ति के एकाउंट में राशि को ट्रांस्फर कर सकता है जिस व्यक्ति को उसे भुगतान करना है । 

• अन्य आम सेवाओं के क्षेत्र में :-

आज कई प्रकार की आम प्रचलित सेवाएं जिनका प्रयोग हम प्रायः करते ही रहते हैं , के अन्तर्गत भी ई - पेमेन्ट के द्वारा भुगतान किया जाता है । आम प्रचलित सेवाएं जैसे कि ऑनलाईन परीक्षाओं के लिए ऑनलाईन फीस जमा करवाना , ई - टिकट का भुगतान ऑनलाईन करना , मोबाईल के बिल इत्यादि का भुगतान ऑनलाईन करना आदि कुछ आम प्रचलित सेवाएं हैं जिनका प्रयोग हमारे द्वारा किया जाता है तथा इनके भुगतान के लिए हमारे द्वारा क्रेडिक कार्ड , डेबिड कार्ड , मास्टेरो कार्ड , ऑनलाईन बैंकिंग आदि का उपयोग किया जा सकता है , ये सभी ई - पेमेन्ट सिस्टम का ही एक भाग हैं ।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल