सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

private network in hindi

आज हम computers in hindi मे private network in hindi - computer network in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

private network in hindi:-

इन्टरनेट एड्रेसिंग आर्किटेक्चर ( Internet addressing archictecture ) में , एक प्राइवेट नेटवर्क ( Private network ) जो कि प्राइवेट IP एड्रेस स्पेस ( Address space ) का प्रयोग करता है , वो RFC 1918 और RPC 4913 द्वारा सेट ( Set ) स्टैण्डर्डस ( Standards ) का अनुसरण ( Follow ) करते हैं । इन एड्रेसज ( Addresses ) का मुख्यतः घरों ( Home ) , व्यवसाय ( Business or offices ) और लोकल एरिया नेटवर्कस् ( Local area networks ) द्वारा प्रयोग होता है । इन एड्रेसज ( addresses ) को प्राइवेट ( Private ) कहा जाता है क्योंकि इन्हें ग्लोब्ली ( Globally ) प्रयोग में नहीं लिया जाता और कोई भी इन एड्रेसज् ( Addresses ) को , रीजनल इन्टरनेट रजिस्ट्री ( Regional internet registry ( RIR ) ) के बिना अप्रूवल ( Approval ) के प्रयोग में ले सकता है । और जो पैकेट्स ( Packet ) इन ए सज ( Addresses ) के द्वारा एड्रैस्ड ( Addressed ) होते हैं उन्हें पब्लिक इन्टरनेट ( Public internet ) पर ट्रांस्मिट ( Transmit ) नहीं किया जा सकता है । यदि इन प्राइवेट नेटवर्क ( Private network ) को इन्टरनेट से जुड़ने ( Connect ) की जरूरत होती है तो , इन्हें नेटवर्क एड्रेस ट्रांसलेटर ( Network address translater ( NAT ) ) गेटवे ( Gateway ) या प्रॉक्सी सर्वर ( Proxy server ) का प्रयोग करना पड़ता है । 

Uses of private network in hindi:-

सबसे ज्यादा इसका प्रयोग रेसीडेन्शल नेटवर्कस् ( Residential networks ) में होता है , चूंकि इन्टरनेट सर्विस प्रोवाइडर ( Intemet service provider ( ISPs ) ) केवल एक ही पब्लिक राउटेबल IP एड्रेस ( Public routable IP address ) हर रेसीडेन्शल कस्टमर ( Residential custorner ) को प्रोवाइड ( Provide ) कराते हैं लेकिन ज्यादातर घरों में एक से ज्यादा कम्प्यूटर या अन्य इन्टरनेट कनेक्टेड डिवाइस ( Internt connected device ) होते हैं , इसलिए मल्टीपल हॉस्टस् ( Multiple hosts ) को इन्टरनेट कनेक्टिविटी ( Internet Connectivity ) देने के लिए नेटवर्क एड्रेस ट्रान्सलेटर ( Network address tranclator ( NAT ) ) गेटवे ( Gateway ) का प्रयोग किया जाता है ।
प्राइवेट एडैमज ( Private Address ) का कॉरपोरेट नेटवर्कम ( Corporate networks ) में भी प्रयोग किया जाता है । साक्यारिटी रीजन्स ( Security reasons ) के लिए इनका प्रयोरा किया जाता है । 

पब्लिक नेटवर्क ( Public Network in hindi ):-

कम्प्यूटर्स जो एक दूसरे से कनेक्ट ( Connect ) होते हैं , वो नेटवर्क क्रिएट ( Create ) करते हैं ये नेटवर्कस प्रायः पब्लिक इन्टरनेट प्रोटोकॉल एड्रेसेस ( Public internet protocol addresses ) के साथ कनफिगर ( Configure ) होते हैं जो नेटवर्क पर डिवाइस ( Device ) उन डिवाइसस ( Devices ) को विजीबल ( Visible ) होते हैं जो नेटवर्क के बाहर होते हैं अर्थात् नेटवर्क के बाहर के डिवाइस्स ( Devices ) को देखा जा सकता है ।
पब्लिक नेटवर्कस ( Public networks ) पर कम्प्यूटर्स को यह लाभ होता है कि वे इन्टरनेट पर पूरी तरह से विज़ीबल ( Visible ) होते हैं और उन पर कोई बाउन्ड्रीस ( boundries ) नहीं होती हैं , कभी - कभी यह लाभ नुकसानदायक भी बन जाता है क्योंकि कम्प्यूटर पूरी तरह से विजीबल ( Visible ) होने के कारण एक्सप्लोइट ( Exploit ) होने के अवसर ( Chances ) रहते हैं , जैसे कि कभी भी कम्प्यूर्टस को हैक ( Hack ) किया जा सकता है आदि । इस तरह से पब्लिक नेटवर्क ( Public network ) पर जो डिवाइसस ( Devices ) होते हैं वे सुरक्षित ( Secure ) नहीं होते हैं ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना