सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

boolean algebra in hindi

Process model in hindi

 आज हम computers in hindi मे process model in hindi - e commerce in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

process model in hindi:-

Process model एक प्रकार का मॉडल होता है जिसे किसी विशेष प्रकार के कार्य के लिए बनाया जाता है । किसी कार्य को step by step करने के लिए उसे एक process form में ढाला जाता है । व्यापार में कई निश्चित कार्यों को पूर्ण करने के लिए उनके मॉडल बनाने के आवश्यकता होती है , इन कार्यों को करने के लिए उसके process model का उपयोग किया जाता है , जिसके द्वारा किसी कार्य को step by step से किया जाता है । 

Mercantile Process Model (वाणिज्यिक प्रक्रिया मॉडल ):- 

Mercantile Process से मतलब consumer and commerce में परस्पर ऑन लाइन कामर्स संबंधी आदान - प्रदान से है । वस्तुओं के क्रय विक्रय के लिये Mercantile Process Model मॉडल की आवश्यकता होती है । यह consumer की सुविधा के लिए है क्योंकि एक साधारण consumer नयी business process को आसानी से समझ नहीं सकता है । 

Types of Mercantile Process Model in hindi:-

1. उपभोक्ता की दृष्टि से वाणिज्यिक प्रक्रिया मॉडल 
2. व्यवसायी की दृष्टि से वाणिज्यिक प्रक्रिया मॉडल

1. उपभोक्ता की दृष्टि से वाणिज्यिक प्रक्रिया मॉडल ( Mercantile Process Models for Consumers Perspective ):-

ऑनलाईन खरीदारी करने वाले उपभोक्ता की यह अपेक्षा रहती है कि उसे वस्तु उच्च किस्म की , बाज़ार से कम मूल्य पर तथा आसानी से व कम से कम समय में प्राप्त हो सके । इन अपेक्षाओं की पूर्ति के लिये commercial process model को आवश्यकता होती है । 

Types of Mercantile Process Models for Consumers Perspective:-

• purchase से पहले की स्थिति 
• purchase उपभोग की स्थिति 
• purchase के बाद की स्थिति 

• purchase से पहले की स्थिति :-

ई - कॉमर्स के द्वारा customer कोई भी वस्तु किसी भी कंपनी से कहीं से भी purchase कर सकता है तथा customer द्वारा purchase की जाने वाली वस्तु / सेवा के संबंध में अधिक से अधिक जानकारी जुटाता है , इसके लिए वह अपनी इच्छानुसार सेवाएँ भी ले सकता है , जो इसे purchase से पूर्व आवश्यक जानकारियाँ उपलब्ध करा सकते हैं ।

• purchase उपभोग की स्थिति :-

purchase की जाने वाली वस्तु के चयन के पश्चात् वस्तु का सौदा करने के लिये buyer एवं seller विचार करते हैं । जैसे - वस्तु का मूल्य , उपलब्धता , सुपुर्दगी की शर्ते , भुगतान का तरीका आदि ।

• purchase के पश्चात् की स्थिति:-

 वस्तु की customer को देने के पश्चात् समय - समय पर customer की वस्तु संबंधी शिकायतों को सुनना , वस्तु खराब होने पर उसे ठीक करना अथवा लौटाना ( जो भी purchase की शर्तों में प्रावधान है ) कई कंपनियाँ यह भी घोषणा करती है ।

2. वाणिज्यिक मॉडल व्यापारी की दृष्टि से ( Mercantile Models for Merchant's Perspective ):-

customer को सेवा प्रदान करने के लिए व्यापारी के द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं का एक सेट तैयार किया जाता है और उसी आधार पर न्यूनतम लागत पर customer को सभी सेवाएँ सुविधाएँ दी जाती हैं । 
Types of Mercantile Models for Merchant's Perspective :-
• sales से पहले की स्थिति 
• sales के समय की स्थिति 
• sales के बाद की स्थिति 

• sales से पहले की स्थिति :-

इसमें sales से पूर्व की सभी गतिविधियाँ सम्मिलित होती हैं । sales के लिए order प्राप्त होने से पूर्व sales की योजना बनाई जाती है , विभिन्न माध्यमों से विज्ञापन किया जाता है तथा customer को वस्तु की जानकारी विभिन्न माध्यमों से उपलब्ध करायी जाती है । उसके बाद वस्तु के मूल्य का निर्धारण किया जाता है ।

• sales के समय की स्थिति :-

सर्वप्रथम customer से sales command प्राप्त किया जाता है तथा उसकी Entry की जाती है । प्राप्त commands का क्रम निर्धारित किया जाता है । पहले delivery किसे भेजनी है और बाद में delivery किसे देनी है , यह निश्चित किया जाता है । स्वीकृत commands की पूर्ति के लिये delivery भिजवायी जाती है । बिल बनाने और भुगतान प्राप्ति का कार्य सबसे अंत में किया जाता है।

• sales के बाद की स्थिति :-

sales के बाद सेवाओं से ग्राहक को संतुष्टि मिलती है तथा दीर्घकाल तक भविष्य में लाभदायकता पर इसका प्रभाव पड़ता है । इसमें ग्राहकों को दी जाने वाली सेवाओं एवं सुविधाओं को सम्मिलित किया जाता है जैसे कि आवश्यकतानुसार उत्पाद को स्थापित करना , उसके परिचालन का प्रदर्शन करना , आवश्यकता होने पर मरम्मत ‘ एवं रख - रखाव करना आदि ।




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ

foxpro data type in hindi । फॉक्सप्रो

 आज हम computers in hindi मे फॉक्सप्रो क्या है?  Foxpro data type in hindi  कार्य के बारे मे जानेगे? How many data types are available in foxpro?    में  तो चलिए शुरु करते हैं-    How many data types are available in foxpro? ( फॉक्सप्रो में कितने डेटा प्रकार उपलब्ध हैं?):- FoxPro में बनाई गई डेटाबेस फाईल का एक्सटेन्शन नाम .dbf होता है । foxpro data type in hindi (फॉक्सप्रो डेटा प्रकार) :- Character data type Numeric data type Float data type Date data type Logical data type Memo data type General data type 1. Character data type :- Character data type  की फील्ड में अधिकतम 254 Character store किये जा सकते हैं । इस टाईप की फील्ड में अक्षर जैसे ( A , B , C , .......Z ) ( a , b , c , ...........z ) तथा इसके साथ ही न्यूमेरिक अंक ( 0-9 ) व Special Character ( + , - , / . x , ? , = ; etc ) आदि भी Store करवाए जा सकते हैं । इस प्रकार की फील्ड का प्रयोग नाम , पता , फोन नम्बर , शहर का नाम , पिता का नाम , माता का नाम आदि संग्रहित करने के लिए किया जाता है । 2. Numeric data type :- Numeric da

कंप्यूटर की पीढियां । generation of computer in hindi language

generation of computer in hindi  :- generation of computer in hindi language ( कम्प्युटर की पीढियाँ):- कम्प्यूटर तकनीकी विकास के द्वारा जो कम्प्यूटर के कार्यशैली तथा क्षमताओं में विकास हुआ इसके फलस्वरूप कम्प्यूटर विभिन्न पीढीयों तथा विभिन्न प्रकार की कम्प्यूटर की क्षमताओं के निर्माण का आविष्कार हुआ । कार्य क्षमता के इस विकास को सन् 1964 में कम्प्यूटर जनरेशन (computer generation) कहा जाने लगा । इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटर के विकास को सन् 1946 से अब तक पाँच पीढ़ियों में वर्गीकृत किया जा सकता है । प्रत्येक नई पीढ़ी की शुरुआत कम्प्यूटर में प्रयुक्त नये प्रोसेसर , परिपथ और अन्य पुर्षों के आधार पर निर्धारित की जा सकती है । ● First Generation of computer in hindi  (कम्प्युटर की प्रथम पीढ़ी) : Vacuum Tubes ( वैक्यूम ट्यूब्स) ( 1946 - 1958 ):- प्रथम इलेक्ट्रॉनिक ' कम्प्यूटर 1946 में अस्तित्व में आया था तथा उसका नाम इलैक्ट्रॉनिक न्यूमेरिकल इन्टीग्रेटर एन्ड कैलकुलेटर ( ENIAC ) था । इसका आविष्कार जे . पी . ईकर्ट ( J . P . Eckert ) तथा जे . डब्ल्यू . मोश्ले ( J . W .