सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

what is switching methods in hindi

 आज हम computers in hindi मे what is switching methods in hindi - computer network in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

switching in hindi:-

स्विचिंग ( Switching ) एक मेथड ( Method ) है , जिसमें Communicate करने वाले Devices एक दूसरे से आसानी से जुड़े होते हैं और Switch एक हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर होता है , जो डिवाइसेस ( Devices ) को अस्थायी तौर पर लिंक ( Link ) करता है । 
अन्य शब्दों में यह कहा जा सकता है कि स्विचिंग एक क्रिया है जिसमें एक टेलीकम्यूनिकेटिंग डिवाइस जिसे स्विच कहा जाता है , के माध्यम से कम्यूनिकेशन किया जाता है । इस क्रिया में स्विच किसी एक डिवाइस से संदेश ग्रहण करता है तथा उस सन्देश को उसके गन्तव्य तक पहुंचा देते हैं । 

types of switching methods (techniques) in hindi:-

1. Packet Switching in hindi( पैकेट स्विचिंग)

2. Circuit Switching in hindi ( सर्किट स्विचिंग)

1. Packet Switching in hindi( पैकेट स्विचिंग):-

पैकेट स्विचिंग ( Packet switching ) , मैसेज स्विचिंग ( Message switching ) के समान होती है , जिसमें डेटा को ब्लॉक्स ( Blocks ) के रूप में Transmit किया जाता है । डेटा ब्लॉक ( Data block ) को नेटवर्क में पहले राउटर ( Router ) द्वारा बफर ( Buffer ) किया जाता है और जब तक डेटा अपने डेस्टिनेशन ( Destination ) तक नहीं पहुँच पाता , तब तक उन्हें अगले राउटर ( Router ) को फॉरवर्ड ( Forward ) कर दिया जाता है । पैकेट स्विचिंग में डेटा के ब्लॉक साइज ( Block size ) की अधिकतम सीमा सीमित ( Limit ) होती है । और यह संदेश को डिस्क ( Disk ) की बजाय मेन मैमोरी ( Main memory ) में अस्थायी तौर ( Temprory ) पर संग्रहित ( Store ) होने की अनुमति प्रदान करता है ।

2. Circuit Switching in hindi ( सर्किट स्विचिंग):-

सर्किट स्विचिंग ( Circuit switching ) एक कम्यूनिकेशन तकनीक ( Communication technique ) है । 
सर्किट स्विचिंग ( Circuit switching ) में दो कम्प्यूटर्स या टेलीफोन के बीच एक डेडीकेटड पाथ ( Dedicated path ) स्थापित ( Create ) होता है और तब तक रहता है जब तक कि किसी डिवाइस ( Device ) के द्वारा सेशन को ( Terminate ) नहीं किया जाता है । 
इसमें एक ही फिजीकल पाथ ( Physical path ) से होकर ट्रान्समिशन ( Transmission ) की प्रत्येक यूनिट ( Unit ) , जैसे - फ्रेम ( Frame ) ट्रांस्मिट ( Transmit ) होता है।
टेलीफोन सिस्टम , सर्किट स्विचिंग ( Circuit switching ) का प्रयोग करता है । टेलीफोन सिस्टम में एक डेडिकेटेड पाथ ( Dedicated path ) स्थापित ( Create ) होता है और तब तक रहता है जब तक टेलीफोन पर बात कर रहे दो व्यक्तियों में से कोई एक व्यक्ति सेशन को टर्मिनेट ( Terminate ) नहीं कर देता स्थापित कनेक्शन एक फिजीकल सर्किट ( Physical circuit ) होता है । जब टेलीफोनों के द्वारा सेशन ( Session ) को टर्मिनेट ( Terminate ) किया जाता है तो फिजीकल सर्किट ( Physical circuit ) और सम्बन्धित रिसैसेज ( Related resources ) को मुक्त ( Free ) कर दिया जाता है और वे अगले कॉल ( Call ) के लिए उपलब्ध करा दिये जाते हैं । ISDN और स्विचिड 56 ( Switched 56 ) , लीज्ड लाइन्स ( Leased lines ) , सर्किट स्विचिंग ट्रान्समिशन फैसिलिटी ( Circuit switching  transmission facility ) के उदाहरण हैं ।

comparison between packet switching and circuit switching:-

1. समर्पित लिंग :-

इसमें कोई समर्पित इसमें समर्पित लिंग होता है जबकि लिंक नहीं होता है । 

2. डेटा विभाजन:-

 इसके अन्तर्गत डेटा को यहां डेटा का विभाजन छोटे - छोटे भागों में किया जाता है , जिसे पैकेट कहा जाता है । जबकि यहा डेटा विभाजित किया जाता को लगातार क्रम में रखा जाता है।

3. लिंक शेयरिंग :-

एक से अधिक कम्यूनकेशन पर यात्रा करने वाले पैकेट नेटवर्क लिंक को को आपस में share करते हैं ।  जबकि इसके अन्तर्गत अलग अलग session के लिए अलग - अलग लिंक होते हैं , कोई sharing नहीं की जाती है ।

4. स्थानान्तरण समय:-

 अलग - अलग डेटा पैकेट length कारण पैकेट स्थानान्तरण में अलग- अलग समय लगता है । जबकि  इसके अन्तर्गत bit delay constant होता है अर्थात् पैकेट स्थानान्तरण में एक जैसे समय लगता है ।

5 . अतिरिक्त भार :-

इसके अन्तर्गत प्रत्येक ( overhead ) पैकेट के साथ अतिरिक्त भार ( overhead ) जुड़ा होता है । जबकि यहां कोई अतिरिक्त भार ( overhead ) नहीं जुड़ा होता है ।

6 .बैण्डविड्थ का प्रयोग:-

 इसके अन्तर्गत बैण्डविड्थ का अधिकतम इस्तेमाल होता है।
 जबकि इसके अन्तर्गत बैण्डविड्थ का exclusive प्रयोग होता है ।

7 . ट्रांस्मिशन कॉस्ट  ( कीमत ) :-

इसके अन्तर्गत डेटा को ट्रांस्मिट करने की कीमत कम होती है। जबकि इसके अन्तर्गत डेटा को ट्रांस्मिट करने की कीमत अधिक होती है ।

8 . सर्विस की गुणवत्ता:-

 इसके अन्तर्गत सर्विस की गुणवत्ता ( quality ) अधिक अच्छी नहीं होती है । इसमें सूचना के खराब होने का डर अधिक होता है ।जबकि इसके अन्तर्गत डेटा को ट्रांस्मिट करने की कीमत अधिक होती है ।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

What is Message Authentication Codes in hindi (MAC)

What is  Message Authentication Codes in hindi (MAC) :- Message Authentication Codes (MAC) , cryptography के सबसे attractive और complex areas में से एक message authentication और digital signature का area है। सभी क्रिप्टोग्राफ़िक फ़ंक्शंस और प्रोटॉल्स को समाप्त करना असंभव होगा, जिन्हें message authentication और digital signature के लिए executed किया गया है।  यह message authentication और digital signature के लिए आवश्यकताओं और काउंटर किए जाने वाले attacks के प्रकारों के introduction के साथ होता है। message authentication के लिए fundamental approach से संबंधित है जिसे Message Authentication Code (MAC)  के रूप में जाना जाता है।  इसके दो categories में MACs की होती है: क्रिप्टोग्राफिक हैश फ़ंक्शन से बनाई और ऑपरेशन के ब्लॉक सिफर मोड का उपयोग करके बनाए गए। इसके बाद, हम एक relatively recent के approach को देखते हैं जिसे Authenticated encryption के रूप में जाना जाता है। हम क्रिप्टोग्राफ़िक हैश फ़ंक्शंस और pseudo random number generation के लिए MCA के उपयोग को देखते हैं। message authentication ए