सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

How to start PowerPoint : PowerPoint कैसे Open करे

 आज हम computers in hindi मे How to start PowerPoint - powerpoint tutorial in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

How to start PowerPoint (PowerPoint कैसे start करे):-

 PowerPoint को start करने के लिए सबसे पहले अपने computer को on कीजिए उसके बाद Start → | Program → MS Power Point option को select करके क्लिक कीजिए । Power Point चालू होता है Power Point की विण्डो Monitor की स्क्रीन पर आ जायेगी । यही Power Point का खुलना कहलाता है । Power Point की विण्डो में  option मौजूद होते हैं :-

1. Title Bar:-

विण्डो के सबसे ऊपर वाले हिस्से में एक पट्टी होती है जिसमें Power Point का नाम तथा दूसरे किनारे पर विण्डो के आकार को छोटा , बड़ा और बन्द करने के लिए क्रमशः Minimize , Maximize और Close Button होते हैं ।

2. Menu Bar:-

Title Bar के ठीक नीचे वाली पट्टी को मीनू बार कहते हैं । इस बार में File , Edit , View , Insert , Format , Tools , Slide Show , Window तथा Help आदि बटन होते हैं । 

3. Standard Tool Bar:-

Menu Bar के ठीक नीचे वाली पट्टी जिसमें छोटे - छोटे चित्रों के रूप में विभिन्न कमाण्ड तथा option दिए हुए रहते हैं , को Standard Tool Bar कहा जाता है । 

4. Format Bar :-

Power Point की विण्डो में एक फॉर्मेट बार भी होती है । इसकी सहायता से user को फॉन्ट का टाइप , प्रकार व साइज , रंग , रेखांकन आदि की व्यवस्था प्रदान की जाती है ।

5. Status Bar:-

इसकी सहायता से user अपने प्रस्तुतीकरण के सम्बन्ध में उचित जानकारी प्राप्त कर सकता है । इसमें विभिन्न प्रकार के View बटन बने हुए होते हैं । इनकी सहायता से प्रयोक्ता अपनी स्लाइड को अलग - अलग तरीके से देख सकता है । 

6. Drawing Tool Bar :-

मुख्य स्क्रीन के नीचे दायीं ओर ड्राइंग टूल बार होती है । इसकी सहायता से अपने प्रस्तुतीकरण में हम वृत्त , आयत , रेखांकन आदि का कार्य कर सकते हैं । 

7. Insert:-

इस कमाण्ड के द्वारा हम अपने प्रस्तुतीकरण में नया object जोड़ सकते हैं । इसके द्वारा New Slide , Duplicate slids , Slide Number , Date & Time , Symbol Charts , Table आदि objects को जोड़ा जा सकता है । 

8.Spelling:-

इस कमाण्ड के द्वारा हम अपने Text की भाषा की spelling की जाँच व उनका शुद्धीकरण कर सकते हैं । इसके द्वारा जो Dialog Box प्रकट होता है उसे change कमाण्ड द्वारा सही किया जा सकता है । इसके द्वारा हम व्याकरण सम्बन्धी गलती को भी ठीक कर सकते हैं ।

9. Macro:-

यदि user किसी कार्य को बार - बार करना चाहता है तो उस कार्य के लिए उसे बार - बार कमाण्ड देने पड़ते हैं । Macro की सहायता से हम उस कार्य को बार - बार कर सकते हैं जिसके लिए बार - बार कमाण्ड देने की आवश्यकता नहीं होती है । 

10. Preset Animation:-

 इस कमाण्ड का उपयोग Text तथा Objects को एनीमेशन प्रभाव देने के लिए किया जाता है । यदि हम Chart , Clip Art , Object तथा Text को अलग- अलग Animation प्रभाव देना चाहते हैं तो इस कार्य के लिए Custom Animation Command को काम में लेना होगा । 

11. Hide Slide ( हाइड स्लाइड ):-

 यदि user अपने साथियों को अपनी slide नहीं दिखाना चाहता है तो वह Hide Slide कमाण्ड की सहायता से किसी भी slide को छिपा सकता है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना