सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

microsoft windows kya hai : माइक्रोसॉफ्ट विंडोज क्या है

 आज हम computer in hindi मे माइक्रोसॉफ्ट विंडोज क्या है के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

microsoft Windows kya hai (माइक्रोसॉफ्ट विंडोज क्या है):-

MS Windows एक ऑपरेटिंग सिस्टम है । यह ऑपरेटिंग सिस्टम , अमेरिका की Microsoft नामक प्रसिद्ध Software निर्माता कम्पनी का excellent product है । 
Microsoft कम्पनी ने Windows के कई संस्करण समय - समय पर जारी किये हैं । सर्वप्रथम Windows 1.0 , इसके बाद क्रमश : Windows 2.0 . Windows 3.0 और इसके बाद Windows 3.1 संस्करण बाजार में जारी किये । ये सभी 16 Bit Operating System थे । इसके बाद जारी अन्य संस्करण इन्हीं के नये गुणों से परिपूर्ण एवं सुधरे हुए हैं । इसके बाद सन् 1995 में इसका सुधरा हुआ रूप अस्तित्व में आया , जिसे Windows 95 नाम से पेश किया गया तथा 1998 में पेश किये गये संस्करण को Windows 98 Operating System के नाम से जाना गया । इसके बाद Windows - NT , Windows 2000 , Windows Me आदि संस्करण शामिल हुए और इनके बाद Windows XP नवीनतम व काफी लोकप्रिय संस्करण है । अब तक Windows XP संस्करण का प्रयोग खूब किया जाता रहा है , परन्तु अब इसका एक और आधुनिक संस्करण सन् 2008 के जारी हुआ है जो Windows - 2008 के नाम से जाना गया है । 
  • Windows 1.0 
  • Windows 2.0 
  • Windows 3 0 
  • Windows 3.1 
  • Windows 2000 
  • Windows Vista 
  • Windows 95 
  • Windows 93 
  • Windows Me 
  • Windows XP 
  • Windows 2008
आज विश्व भर के Computers पर Microsoft कम्पनी के उपरोक्त Operating System Windows के विभिन्न संस्करण बहुतायत में काम में लिये जा रहे हैं । अनुमानित रूप से 90 % लोग Windows Operating System का ही प्रयोग कर रहे हैं । 
Windows Operating System में GUI अर्थात् Graphical User Interface को एक महत्त्वपूर्ण गुण विद्यमान है । अत : इसे सीखना अत्यन्त आसान है । इसे operate करने के लिए Mouse का प्रयोग किया जाता है । यह प्रयोक्ता को अनेक सुविधाएँ प्रदान करता है । Windows के अनेक संस्करणों में कई सारी सुविधाएँ हैं ।

characteristics of microsoft windows in hindi:-

( 1 ) ग्राफिकल यूजर इन्टरफेस ( Graphical User Interface ):-

Windows में सबसे महत्त्वपूर्ण बात यह है कि यह पूर्णतया Graphics के आधार पर बना हुआ है । इसमें हर बात को चित्रों व Windows के माध्यम से बताया गया है । हमें Windows Operating System  में कोई भी कमाण्ड लिखकर नहीं देनी होता है इसमें उस कार्य से सम्बन्धित चित्र ही हमें दिखाई देता है जिस पर Mouse की सहायता से click करके हम अपना कार्य आसान से पूरा कर सकते हैं । Graphical Diagrams & User दोनों का ही इसमें गहरा नाता होता है इसलिए इसे Graphical User Interface तकनीक पर आधारित माना जाता है।

( 2 ) ऑपरेटिंग सिस्टम ( Operating System ):-

 Microsoft Windows चूंकि Application के साथ - साथ Operating System के रूप में भी प्रस्तुत किया गया है अत : यह Disk Operating System ( DOS ) का स्थान लेकर उसके समस्त कार्यों तथा प्रक्रियाओं के बखूबी करता है । Computer को Windows से Boot करने पर DOS का prompt य command prompt प्रदर्शित होने के स्थान पर Windows Desk Top आता है । 

( 3 ) यूजर फ्रेन्डली ( User Friendly ):-

Windows GUI पद्धति पर आधारित एवं Operating System है । इसमें दिये जाने वाले सभी निर्देशों के लिए screen पर Graphica object बने होते हैं । इन Graphical objects को Icons कहा जाता है । यहाँ DOS Operating System की तरह command को keyboard से type करने की बजाय mouse की सहायता से select करके कम्प्यूटर को दिया जाता है ।

( 4 ) लम्बा फाइल नाम देने की सुविधा ( Long File Name Facility ):-

जहाँ DOS ( Disk Operating System ) में हम फाइल का नाम केवल 8 अक्षरों में ही दे सकते थे वह Windows Operating System में हम अधिकतम 255 characters में file name दे सकर हैं । इस नाम में space देने की भी छूट है । 

( 5 ) मल्टी टास्किग ( Multi - Tasking ):-

Windows एक ऐसा Operating वातावरण प्रदान करता है जहाँ हम एक ही समय में दो या दो से अधिक Application programs चालू कर उनमें एक साथ कार्य कर सकते हैं । खोले गये सभी प्रोग्रामों को एक अलर आयताकार क्षेत्र ( जिसे Windows कहा जाता है )में प्रदर्शित किया जाता है । हम अपनी आवश्यकतानुसार किसी भी Windows पर जाकर उस program में कार्य कर सकते हैं जे कि वहाँ पर execute है । इस प्रकार की सुविधा Windows की Desk Top के निचली ओ एक plaque पर दिखाई देती रहती है । इस plaque को Task Bar कहा जाता है । 

( 6 ) सूचना साझेदारी ( Information Sharing ):-

Windows में हम न केवल एक साथ एक ही समय में दो या दो से अधिक एप्लीकेशन पर कार्य कर सकते हैं वरन् उन एप्लीकेशन के मध्य सूचनाओं व डाटाओं का आदान - प्रदान भी कर सकते हैं । यहाँ open किये गये सभी programs एक अलग आयताकार क्षेत्र में प्रदर्शित किये जाते हैं ।

( 7 ) DOs के अनुकूल ( Based on DOS ):-

Microsoft Windows के लगभग सभी संस्करण DOS के भी Compatible हैं अर्थात् Windows Operating System एक ऐसी सुविधा भी प्रदान करता है जिसकी सहायता से किसी भी computer में Windows 98,2000 या Windows XP के होते हुए भी हम MSDOS ( Microsoft Disk Operating System ) में कार्य कर सकते हैं । 

( 8 ) मल्टीमीडिया व गेम की सुविधाएँ ( Multimedia & Games Facilities):-

 Windows Operating System के जरिये हम Multimedia के द्वारा मनोरंजन भी कर सकते हैं , जैसे कोई गाना सुनना , फिल्म देखना या कोई गेम खेलना आदि । इन्हीं के साथ Networking व Fax आदि कार्य भी सम्पन्न कर सकते हैं।

 ( 9 ) शॉर्ट कट ( Short Cut ) :-

Windows में हम किसी भी कमाण्ड , Icon या program और software का short cut भी बनाकर उपयोग में ले सकते हैं । उस शॉर्ट कट को Desk Top पर से ही Mouse से Double Click कर चला सकते हैं । इससे कार्य करने में न केवल सरलता होती है बल्कि समय की भी बचत होती है ।

( 10 ) स्टार्ट बटन व टास्क बार ( Start Button & Task Bar ):-

Windows में Start Button व Task Bar दिये रहते हैं । इसके अन्तर्गत programs को खोलने , सामग्री को खोजने तथा उपकरणों के प्रयोग हेतु प्रयोक्ता को Start Button पर Mouse से click करना होता है और स्क्रीन पर तेजी से टीवी की तरह प्रोग्राम बदलने के लिए Task Bar का प्रयोग किया जाता है । इस प्रकार Windows एक Operating System है जो Graphical User Interface पर आधारित है । इस पर user जो भी कार्य करता है वह commands के माध्यम से नहीं Graphical objects के माध्यम से करता है । इसमें keyboard की बजाय mouse से कार्य करना होता है । इस प्रकार यह नये प्रयोक्ता को भी कम्प्यूटर पर कार्य करना आसान बनाता है क्योंकि इसमें command याद रखने की आवश्यकता नहीं होती है ।

features of Windows:-

( i ) यह सीखना व उपयोग में लेना आसान है । 
( ii ) इसमें निर्देशों को चित्रों द्वारा प्रदर्शित किया जाता है जिन्हें याद रखने में सुविधा होती है । 
( iii ) Windows में विभिन्न applications के बीच datas को वितरित करने की क्षमता व सुविधा विद्यमान है । 
( iv ) Windows में प्रयोगकर्ता को अनेक applications पर एकसाथ कार्य करने की सुविधा मिलती है , जैसे प्रिंटर द्वारा प्रिंटिंग करते समय टाइपिंग व गाने सुनने का भी कार्य किया जा सकता है । 
( v ) Windows प्रयोक्ता के लिए मित्र व्यवहार रखता है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना