सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

microsoft word spelling and grammar check

 आज हम computer in hindi मे microsoft word spelling and grammar check - Ms word tutorial in hindi के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

microsoft word spelling and grammar check:-

MS Word में स्पैलिंग व ग्रामर को टूल्स मेन्यू के स्पैलिंग व ग्रामर कमाण्ड की सहायता से टीक किया जा सकता है । इस कमाण्ड का उपयोग डॉक्यूमेन्ट में लिखे गए शब्दों की वर्तनी , व्याकरण आदि को जाँचने के लिए किया जाता है । जब किसी डॉक्यूमेन्ट में Text को हम टाईप करते हैं तब यदि उस Text में कोई स्पैलिंग गलत है तो उसके नीचे ' लाल रंग ' की लाइन दिखाई देती है । 
किसी भी स्पेलिंग को चैक करने के लिए उसको पहले Select करते हैं या फिर माउस की सहायता से कर्सर वहाँ पर ले जाते हैं और इस प्रक्रिया के बाद स्पैलिंग और ग्रामर कमाण्ड पर क्लिक करते हैं । ऐसा करने पर एक डायलॉग बॉक्स स्क्रीन पर आयेगा जिसमें उस गलत शब्द को सही करने से सम्बन्धित सुझाव मौजूद होते हैं । उन सुझावों में से जो सुझाव या स्पैलिंग सही हो उसे select करके change button पर click करते हैं तो हमारी स्पैलिंग सही हो जाती है ।

spelling and grammar tool in ms word:-

1.ऑटो करेक्ट ( Auto Correct ) - 

इस कमाण्ड की सहायता से स्पैलिंग अपने आप ही सही हो जाती है । यह Change Button का ही दूसरा रूप है । डाक्यूमेन्ट के पूरे Text को एक साथ select करके ब्लॉक बनाने के लिए Select All को काम में लेते हैं । इसके पहले Edit Menu → Select AlICommand का चुनाव करते हैं जिससे पूरा Text Select हो जाता है । 

2. इग्नोर ( Ignore ) -

 यदि हम किसी वाक्य या शब्द को जैसा टाइप किया हुआ है वैसा ही छोड़ना चाहते हैं तो इसके लिए Ignore button को दबाना पड़ता है । इसके अलावा यदि स्पैलिंग सही हो पर वर्ड की डायरेक्ट्री में शब्द नहीं होने के कारण गलत दिखा रहा है तो इस कार्य के लिए भी Ignore Button का ही प्रयोग करना होता है ।

3. ऑप्शन्स ( Options ) - 

इसके ऊपर click करते ही एक dialog box open होता है जिसमें स्पैलिंग तथा ग्रामर से सम्बन्धित कुछ options दिये होते हैं । हर option के पहले एक check box होता है । जिस option को हम click करना चाहते हैं , उस पर click कर सकते हैं । 

4. ऐड ( Add ) - 

यदि शब्द सही है और computer की डायरेक्ट्री में वह शब्द नहीं है तो उस शब्द को इस बटन की सहायता से डायरेक्ट्री में जोड़ा जा सकता है । 

5. चेंज ( Change ) - 

यदि हम किसी गलत स्पैलिंग वाले शब्द को सही स्पैलिंग वाले शब्द से बदलना चाहते हैं तो उस शब्द को हम Change Button की सहायता से बदल सकते हैं ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

What is Message Authentication Codes in hindi (MAC)

What is  Message Authentication Codes in hindi (MAC) :- Message Authentication Codes (MAC) , cryptography के सबसे attractive और complex areas में से एक message authentication और digital signature का area है। सभी क्रिप्टोग्राफ़िक फ़ंक्शंस और प्रोटॉल्स को समाप्त करना असंभव होगा, जिन्हें message authentication और digital signature के लिए executed किया गया है।  यह message authentication और digital signature के लिए आवश्यकताओं और काउंटर किए जाने वाले attacks के प्रकारों के introduction के साथ होता है। message authentication के लिए fundamental approach से संबंधित है जिसे Message Authentication Code (MAC)  के रूप में जाना जाता है।  इसके दो categories में MACs की होती है: क्रिप्टोग्राफिक हैश फ़ंक्शन से बनाई और ऑपरेशन के ब्लॉक सिफर मोड का उपयोग करके बनाए गए। इसके बाद, हम एक relatively recent के approach को देखते हैं जिसे Authenticated encryption के रूप में जाना जाता है। हम क्रिप्टोग्राफ़िक हैश फ़ंक्शंस और pseudo random number generation के लिए MCA के उपयोग को देखते हैं। message authentication ए