सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

what is abstraction in hindi

आज हम computer in hindi मे आज हम  abstraction in hindi- Software Engineering in hindi के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

what is the meaning of abstract in hindi:-अमूर्तन (abstraction) concepts की Process होती है। 

what is abstraction in hindi :-

abstraction एक intellectual tool है जो आवश्यक परिभाषा और डिजाइन के दौरान use आता है। abstraction एक System के conceptual aspects को (अभी तक Specified किया जाना) implementation details से अलग करने की permission देता है।  

उदाहरण: - हम stack या queue का उपयोग की जाने वाली representation योजना के लिए चिंता किए बिना एक queue की FIFO Property या एक stack की LIFO Property Specified कर सकते हैं।  इसी तरह, हम रूटीन की functional characteristics को Specified कर सकते हैं जो डेटा संरचनाओं (जैसे,NEW, PUSH, POP, TOP, EMPTE) में manipulation करते हैं, बिना रूटीन के algorithm description किए बिना।

सॉफ्टवेयर डिजाइन के समय, abstraction हमें structural considerations और detailed algorithmic ideas को postponed करके हमारी processes को organized करने की permission देता है जब तक कि functional characteristics, डेटा स्ट्रीम और डेटा स्टोर established नहीं हो जाते। algorithm description करने से पहले structural considerations को addressed किया जाता है। यह approach complexity की value को कम करता है जिसे डिजाइन प्रक्रिया में किसी विशेष point पर जाना चाहिए।  

architectural design specification सॉफ्टवेयर के मॉडल हैं जिसमें सिस्टम के functional और structural characteristics पर जोर दिया जाता है। डिजाइन के समय architectural structure को implementation details में refined किया जाता है। इस प्रकार डिजाइन abstraction से representation की ओर बढ़ने की एक प्रक्रिया है। यह विज्ञान और गणित में abstraction के उपयोग के विपरीत है, जहां fundamental principles  के संग्रह से निकाला जाता है। 

सॉफ्टवेयर डिजाइन में तीन रूप से उपयोग किए जाने वाले abstraction Mechanism होते हैं functional abstraction, data abstraction और control abstraction। 

functional abstraction में parameterized subprograms का उपयोग शामिल है। functional abstraction को sub-programs के store के लिए normalized किया जा सकता है, जिसे यहां "समूह" कहा जाता है (Packages in Ada, Clusters in CLU)। 

Data abstraction में object पर  Specified करके data type या data object specified करना शामिल है।  इस प्रकार, प्रकार "stack" को abbreviation में एक LIFO mechanism के रूप में Specified किया जा सकता है जिसमें  NEW, PUSH, POP, TOP, और EMPTY इंटरैक्ट करते हैं। CLU और Ada सहित modern programming languages ​​abstract data types प्रदान करती हैं।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag