सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

data warehousing and characteristics

 Data warehousing and characteristics:-

डेटा वेयरहाउसिंग decision support technologies का एक storage है, जिसका उद्देश्य knowledge worker (executive, manager, analyst) को बेहतर और fast decision लेने में capable बनाना है।  डेटा माइनिंग क्षमता को बढ़ाया जा सकता है यदि डेटा वेयरहाउस में उपयुक्त डेटा collect और store किया गया हो।  डेटा वेयरहाउस एक रिलेशनल डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (RDBMS) है जिसे विशेष रूप से ट्रांजेक्शन प्रोसेसिंग सिस्टम की जरूरतों को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।  इसे किसी भी centralized data repository के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जिसे business profit के लिए inquiry की जा सकती है लेकिन इसे बाद में और अधिक स्पष्ट रूप से define किया जाएगा।  

डेटा वेयरहाउसिंग एक नई शक्तिशाली तकनीक है जो stored operational data को निकालना और Various legacy data formats के बीच anomalies को दूर करना संभव बनाती है।  स्थान, formats या communication आवश्यकताओं की परवाह किए बिना पूरे enterprise में डेटा को Integrated करने के साथ-साथ additional or specialist जानकारी को शामिल करना संभव है।


एक रिलेशनल डेटाबेस के अलावा, एक डेटा वेयरहाउस वातावरण में एक extraction, transportation, transformation और loading (ETL) solution, एक Online analytical processing (OLAP) engine, client analysis tools और अन्य application शामिल हैं जो डेटा एकत्र करने की प्रोसेस का management करते हैं और  इसे business users तक पहुँचाना।

ETL टूल decision लेने के लिए डेटा को डेटा वेयरहाउस में निकालने, बदलने और लोड करने के लिए हैं। ETL टूल्स के विकास से पहले, उपर्युक्त ETL प्रोसेस प्रोग्रामर द्वारा बनाए गए एसक्यूएल कोड का उपयोग करके मैन्युअल रूप से की जाती थी। यह कार्य कई मामलों में exhausting था क्योंकि इसमें कई Resources, Complex Coding  और अधिक काम के घंटे शामिल थे। इसके , कोड को बनाए रखना प्रोग्रामर्स के बीच एक बड़ी चुनौती है।

ETL टूल्स द्वारा इन कठिनाइयों को समाप्त कर दिया गया है क्योंकि वे बहुत शक्तिशाली हैं और पुरानी मेथड की तुलना में वे निष्कर्षण, डेटा सफाई, डेटा प्रोफाइलिंग, परिवर्तन, डिबगिंग और डेटा वेयरहाउस में लोड होने से शुरू होने वाले ETL प्रोसेस के सभी चरणों में कई लाभ प्रदान करते हैं।

डेटा वेयरहाउसिंग शुरू करने का एक सामान्य तरीका डेटा वेयरहाउस की विशेषताओं को reference करना है, जैसा कि William Inmon, बिल्डिंग द डेटा वेयरहाउस के लेखक और गुरु, जिन्हें Comprehensive से डेटा वेयरहाउसिंग concept का originator माना जाता है, द्वारा निर्धारित किया गया है, निम्नानुसार है  : 

  • Subject Oriented 
  • Integrated 
  • Nonvolatile 
  • Time Variant
डेटा वेयरहाउस को डेटा का analysis करने में आपकी सहायता करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। 

 उदाहरण : अपनी कंपनी के बिक्री डेटा के बारे में अधिक जानने के लिए, आप एक वेयरहाउस बना सकते हैं जो बिक्री पर केंद्रित हो। इस वेयरहाउस का उपयोग करके, आप "पिछले साल इस आइटम के लिए हमारा सबसे अच्छा ग्राहक कौन था?" जैसे सवालों के जवाब दे सकते हैं।

डेटा वेयरहाउस को अलग-अलग स्रोतों से डेटा को एक consistent format में रखना चाहिए।  उन्हें माप की इकाइयों के बीच Oppose और anomalies के जैसी समस्याओं का solution करना चाहिए।  जब वे इसे हासिल कर लेते हैं, तो उन्हें एकीकृत कहा जाता है।

non-volatile का अर्थ है कि, एक बार गोदाम में प्रवेश करने के बाद, डेटा नहीं बदलना चाहिए। यह reasonable है क्योंकि गोदाम का उद्देश्य आपको analysis करने में सक्षम बनाना है कि क्या हुआ है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल