सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

javascript in hindi - जावास्क्रिप्ट क्या है

आज हम javascript full course in hindi मे हम javascript in hindi - जावास्क्रिप्ट क्या है के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- 

javascript in hindi - जावास्क्रिप्ट क्या है:-

Introduction to javascript in hindi:-

जावास्क्रिप्ट एक स्क्रिप्टिंग भाषा है । वेब पेज की quality में वृद्धि करने के कार्य में स्क्रिप्टिंग लॅग्वेज , Nonprogrammers को सरलता प्रदान करती है।
जावास्क्रिप्ट को ' netscape navigator ' ब्राउज़र में use करने के लिए ' Netscape Corporation ' ने विकसित किया था । क्लाइंट और सर्वर इंटरनेट एप्लीकेशन्स developed करने के लिए जावास्क्रिप्ट एक कॉम्पेक्ट , object-based scripting language है । एचटीएमएल पेज में Javascript statements को embedded किया जा सकता है । ये Javascript statements माउस क्लिक , फॉर्म इनपुट और पेज नेवीगेशन जैसी user events को recognize और respond कर सकते हैं । 
जावास्क्रिप्ट एक प्रोग्रामेबल API है जो events, objects और actions की cross platform scripting करने की सुविधा प्रदान करती है । यह डिजाइनर को start up , exit और user माउस क्लिक जैसे events को axis करने की सुविधा प्रदान करती है । जावा स्क्रिप्ट की सहायता से कोई भी व्यक्ति वेब पेज डिजाइनिंग का कार्य सरलता से कर सकता है , इसके लिए उसे प्रोग्रामिंग में expert होने की आवश्यता नहीं है । एक सामान्य कम्प्यूटर ऑपरेटर भी जावास्क्रिप्ट की सहायता से वेब पेज compose कर सकता है । जावास्क्रिप्ट की सहायता से refined किया गया traditional वेब पेज एक तेज चलने वाले 3 - डी कम्प्यूटर गेम के समान दिखाई देने लगता है । हमारे वेब पेज के शब्दों को ऐसे अनेक object से connect किया जा सकता है जो एचटीएमएल डॉक्यूमेंट्स द्वारा पॉपुलेट होते हैं जैसे window, frame, form, button, image, listbox, embedded plug-ins, applet इत्यादि । हम पेज पर ऑब्जेक्ट्स से सीधे interact करते हैं इसलिए इन ऑब्जेक्ट्स पर हमारा control उस प्रोग्रामर की अपेक्षा अधिक रहता है जो जावा एपलेट लिखता है । जावास्क्रिप्ट प्रोग्राम केवल इसके स्वयं के द्वारा निर्धारित स्पेस में ही ऑपरेट होता है । वेब पेज में जावास्क्रिप्ट की सहायता से अच्छे एनीमेशन प्रभाव दिये जा सकते हैं ।

Characteristics of JavaScript in hindi:-

( a ) जावास्क्रिप्ट भाषा इंटरप्रेट होती है यह कम्पाइल नहीं होती है , इसकी स्क्रिप्ट को एचटीएमएल पेज के समान परिवर्तित किया जा सकता है ।
( b ) जावास्क्रिप्ट में उपलब्ध ऑब्जेक्ट्स को सीधे use किया जाता है , इसमें ऑब्जेक्ट्स और क्लासेज को तैयार करने की आवश्यकता नहीं होती है । 
( c ) इसमें वेरियेबल loosely typed होते हैं । वेरियेबल्स को उपयोग करने से pre-announced करने की आवश्यकता नहीं होती है और इसमें अधिकतर conversion verbs स्वतः हो जाते हैं ।
( b ) एचटीएमएल डॉक्यूमेन्ट की ओर से जब कभी भी कोई क्रिया सम्पन्न होती है तो ईवेन्ट हैंडलर जावास्क्रिप्ट फंक्शन को execute कर देता है । 

Rules of javascript in hindi:-

1. जावास्क्रिप्ट कोड < SCRIPT LANGUAGE = " JavaScript " > और < / SCRIPT > के मध्य लिखा जाता है । 
2. जावास्क्रिप्ट केस सेन्सेटिव होती है इसलिए इसके स्टेटमेन्ट , lower case अथवा सिन्टेक्स के लिए आवश्यक केस के अनुसार टाइप किये जाते हैं । 
Required Software Tools :-
जावास्क्रिप्ट में कार्य करने के लिए अपेक्षाकृत कम सॉफ्टवेयर टूल्स की आवश्यकता होती है । 
● एक टैक्स्ट एडीटर जैसे- नोटपैड अथवा वर्डपैड ।
● एक वेब ब्राउज़र जैसे नेटस्केप नेवीगेटर अथवा microsoft internet explorer । 

स्क्रिप्टिंग ( Scripting in hindi ) :-

1 . सर्वप्रथम एक टैक्स्ट एडीटर ( नोटपैड या वर्डपैड )  आरम्भ करके उसमें स्क्रिप्टिंग Component Type करते हैं ।
2. अब इस टैक्स्ट फाइल को उपयुक्त फोल्डर में HTM या HTML एक्सटेंशन के साथ सेव करते हैं । 
3. अब नेटस्केप नेवीगेटर अथवा microsoft internet explorer को आरम्भ करते हैं ।
4. इसमें File - Open ... मेन्यू कमाण्ड पर क्लिक करते हैं।
5. इससे प्रदर्शित डायलॉग बॉक्स में Browse बटन पर करते हैं और जिस फोल्डर में HELLO.HTM फाइल सेव की गई थी , उसमें जाकर HELLO.HTM फाइल पर डबल क्लिक करते हैं । 
6. OK बटन पर क्लिक करते हैं । इससे ब्राउज़र में आगे दिये अनुसार आउटपुट प्रदर्शित होता है । 

Snippets :-

कोड के छोटे segment को स्निपेट कहते हैं । ये snippets interactive verbs कर हैं और plug - ins तथा applets को कंट्रोल करते हैं । एचटीएमएल डॉक्यूमेन्ट्स में को सम्मिलित किया जा सकता है । इंटरनेट पर विभिन्न प्रकार के snippets उपलब्ध रहते हैं जिन्हें हम डाउनलोड करके अपने जावास्क्रिप्ट कोड में use कर सकते हैं । जावाक्रिप्ट लेखक snippets की सहायता से स्क्रिप्टिंग का अभ्यास कर सकता है , ये सिगमेन्ट नमूने के रूप में काम आते हैं ।

difference from java in hindi:-

1. जावास्क्रिप्ट का इंटरप्रेटर नेटस्केप नेवीगेटर नामक वेब ब्राउज़र में निर्मित होता है । 
2. जावा की अपेक्षा जावास्क्रिप्ट को अधिक प्लेटफॉर्म पर सपोर्ट करते हैं । 
3. जावास्क्रिप्ट , एचटीएमएल भाषा के साथ कम्बाइन की जा सकती है ।
4. जावाक्रिप्ट भाषा का स्ट्रक्चर जावा की अपेक्षा सरल होता है । 
5. जावा में जावास्क्रिप्ट की अपेक्षा अधिक स्ट्रिक्ट डाटा टाइप्स का प्रयोग किया जाता है , जावा में तैयार किये गये वेरियेबल में एक निश्चित डाटा टाइप की वेल्यू संगृहीत की जा सकती है । 
6. जावास्क्रिप्ट की एक अधिक विकसित तकनीक से वेरियेबल में संगृहीत वेल्यू का type conversion स्वतः ही हो जाता है । 
7. जावा का सोर्स कोड पहले कम्पाइल होता है और इसके बाद यह कोड क्लाइंट द्वारा इंटरप्रेट होता है , जबकि जावास्क्रिप्ट कोड कम्पाइल नहीं होता है यह केवल इंटरप्रेट होता है । 
8. जावा प्रोग्रामिंग आर्कीटेक्चर पूर्ण रूप से ऑब्जेक्ट ओरियेन्टेड नियमों का पालन करती है । 
9. जावा भाषा के आर्कीटेक्चर और डिज़ाइन के कारण इसमें विशिष्ट अनुप्रयोगों को विकसित किया जाता है , जैसे कम्प्यूटर एप्लाइंसेज़ में बुद्धिमत्ता को जोड़ना और सॉफ्टवेयर कम्पनियों को इंटरनेट पर प्लेटफॉर्म इन्डपेन्डेन्ट उत्पाद उपलब्ध करवाना । जबकि जावास्क्रिप्ट में इस विशेषता का अभाव होता है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल