सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

OLTP & OLAP in hindi

 OLTP in hindi:-

एक डेटा वेयरहाउस OLTP डेटाबेस को डेटा जमा होने पर ऑफ़लोड करने के लिए एक स्थान प्रदान करके और OLTP डेटाबेस में execution होने पर OLTP Operation को complex और ख़राब करने वाली सेवाएँ प्रदान करके एक OLTP सिस्टम का समर्थन करता है।  historical information रखने के लिए डेटा वेयरहाउस के बिना, डेटा को स्थिर मीडिया जैसे चुंबकीय टेप में स्टोर किया जाता है, या OLTP डेटाबेस में जमा होने की अनुमति दी जाती है।
यदि डेटा केवल संरक्षण के लिए स्टोर किया जाता है, तो यह analysts और decision makers द्वारा उपयोग के लिए उपलब्ध या व्यवस्थित नहीं होता है।  यदि डेटा को OLTP में जमा होने दिया जाता है, तो इसका उपयोग analysts के लिए किया जा सकता है, OLTP डेटाबेस आकार में बढ़ता रहता है और analysts और रिपोर्ट की सेवा के लिए अधिक इंडेक्स की आवश्यकता होती है।  ये क्वेरीज़ लगातार बढ़ते हुए डेटा के बड़े हिस्से तक पहुँचती हैं और डेटाबेस में जोड़ती हैं।  इन प्रश्नों का समर्थन करने के लिए आवश्यक बड़ी इंडेक्स अतिरिक्त इंडेक्स रखरखाव के साथ OLTP लेनदेन पर भी कर लगाती हैं।  विशिष्ट रूप से जटिल OLTP डेटाबेस स्कीमा के कारण इन प्रश्नों को विकसित करना भी जटिल हो सकता है।

OLAP in hindi:-

Online Analytical Processing (OLAP) एक ऐसी तकनीक है जिसे ad hoc business intelligence queries के लिए बेहतर प्रदर्शन प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। OLAP को डेटा वेयरहाउस में उपयोग किए जाने वाले सामान्य आयामी मॉडल के अनुसार व्यवस्थित डेटा के साथ operate efficiently करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।
डेटा वेयरहाउस एक intuitive model में डेटा का एक multidimensional view प्रदान करता है जिसे analysts और decision makers द्वारा पूछे गए queries के प्रकारों से मेल खाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। OLAP इस dimensional model के आधार पर डेटा वेयरहाउस डेटा को multifunctional cubes में व्यवस्थित करता है, और फिर इन क्यूब्स को विभिन्न तरीकों से डेटा को summarized करने वाले queries के लिए अधिक प्रदान करने के लिए प्रीप्रोसेस करता है। 
OLAP को बड़ी मात्रा में टेक्स्ट या बाइनरी डेटा स्टोर करने के लिए डिज़ाइन नहीं किया गया है, न ही इसे उच्च वॉल्यूम अपडेट लेनदेन का समर्थन करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।  डेटा वेयरहाउस में डेटा की built-in stability और stability OLAP को analytical queries के लिए जानकारी को तेजी से करने में अपना remarkable performance प्रदान करने में सक्षम बनाती है।  
SQL सर्वर 2000 में, विश्लेषण सेवाएँ OLAP application को विकसित करने के लिए उपकरण और विशेष रूप से OLAP queries की सेवा के लिए डिज़ाइन किया गया सर्वर प्रदान करती हैं।  अन्य टोल इंफॉर्मेटिका, व्यावसायिक वस्तुएं और डेटा चरण हैं।

OLAP server:-

एक OLAP सर्वर एक उच्च क्षमता वाला, यूजर डेटा हेरफेर इंजन है जिसे विशेष रूप से multidimensional data structures का स्पोर्ट और ओपेरेशन करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। एक multi-dimensional structure की व्यवस्था की जाती है ताकि प्रत्येक डेटा आइटम उस आइटम को परिभाषित करने वाले मेम्बर के अधार पर एक्सेस किया जा सके। OLAP सर्वर अंतिम यूजर को लगातार और तेजी से फिडबैक समय देने के लिए Processed multidimensional information को physical form से कर सकता है, या यह रिलेशनल या अन्य डेटाबेस से रीयल-टाइम में अपने डेटा संरचनाओं को पॉप्युलेट कर सकता है, या दोनों का विकल्प प्रदान कर सकता है। 



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल