सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Semaphore in hindi - सेमाफोर क्या है

आज हम computer course in hindi मे हम Semaphore in hindi (सेमाफोर क्या है) के बारे में बताएगें तो चलिए शुरु करते हैं- 

Semaphore in hindi (सेमाफोर क्या है):-

Semaphore 1965 में , Dijksta से concurrent processes को मैनेज करने के लिये एक बहुत ही नयी तकनीक का use किया जाता है । इसमें interacting process की गति को synchronized करने के लिए एक Simple variable की value का use किया गया है और semaphore एक साधारण Integer variable है , जो नॉननिगेटिव वेल्यू को लेता है और जिस पर wait और Signal दो ऑपरेशन किये जाते हैं । active process के critical region की entry का control wait operation द्वारा किया जाता है और critical region से बाहर निकलने का सिंग्नल एवं सिंग्नल ऑपरेशन द्वारा दिया जाता है । इस semaphore का use कर इन ऑपरेशन्स की definition होती है ।
wait ( s ) : 
                  if s > 0 then 
                  set s to s - 1 
                 else
                 block the calling process ( ie . wait on s ) 
                endif 
signal ( s ): if any processes are waiting on s
                    start one fo ehese processes 
                    else 
                    sets tos +1 
                   endif
एक semaphore जैसे s , कुछ resources की availability है और जब इसकी वेल्यू नॉन - जिरो पॉजिटीव होती है , तब यह available रहता है और यदि जीरो है तो यह unavailable रहता है इसमें दूसरी प्रोसेस द्वारा access किया जाता है । सिंग्नल ऑपरेशन इस facts को Obvious करते हैं कि किसी प्रोसेस द्वारा एक resources किया गया है । और जिसे उस प्रोसेस द्वारा use में लाया जा सकता है , जो उसके लिये इंतजार कर रही है । वेट ऑपरेशन के प्रयोग से प्रोसेस रिसोर्स कोaccess कर सकती है । इसमें ( s > O ) अथवा प्रोसेस को ब्लॉक भी कर सकता है । 
wait ( s )
< critical region >
signal ( s )

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है