सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

Kernel Approach

unix commands in hindi

आज हम unix operating system in hindi मे हम unix commands in hindi के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

unix commands in hindi:-

UNIX के commands को prompt पर टाइप कर ENTER ' की ' को दबाकर execute किया जाता है । इससे पहले कि आप UNIX के कमाण्डों को execute कर , UNIX में कार्य करना start करें ,कुछ बातों का ध्यान रखें:-
1 . UNIX के सभी कमाण्डों को lower case में टाइप करें और प्रत्येक कमाण्ड को टाइप करने के पश्चात् ENTER ' की दबाएँ । 
2. कमाण्ड और उसके option के बीच एक space या एक TAB अवश्य दें । 
3 . कमाण्ड के option को subtraction के चिन्ह ( - ) से जरूर  prefix करें । 
4. कमाण्ड के दो या दो से अधिक options को एक साथ subtraction के चिन्ह ( - ) से भी prifix किया जा सकता है ।  
5. यदि किसी कमाण्ड के execution के कारण सिस्टम एक indefinite period के लिए loop में फंस जाए तो आप Del ' key ' को दबाएँ । यदि इस पर भी prompt नहीं show हो तो आप CTRL + D ' key ' को दबाएँ । CTRL + D key को एक साथ दबाने पर login का prompt show होगा।

unix commands in hindi:-

1. who command :-

who कमाण्ड सिस्टम के present situation की जानकारी देता है । who कमाण्ड का प्रयोग जयादातर बिना किसी  option के या इसके am i नामक option के साथ किया जाता है । who कमाण्ड am i option के साथ , user का login name , उसके terminal का नम्बर , login date तथा login time display करता है ।

2. date command:-

 UNIX में date कमाण्ड के दो format हैं 
I date [ option ] [ + format ] 
II date [ options ] [ string ] 
date कमाण्ड के पहले format का प्रयोग वर्तमान डेट और टाइम देखने के लिए किया जाता है तथा [ + fomrat ] optional होता है जिसका प्रयोग डेट और टाइम को desired format में display करने के लिए किया जाता है ।

3. cal command:-

 cal कमाण्ड का प्रयोग वर्तमान महीने का केलेन्डर या किसी साल के 12 महीनों के केलेन्डर को देखने के लिए किया जाता है ।

4. banner command:-

 banner कमाण्ड का प्रयोग Specified किए गए characters को poster की तरह स्टैण्डर्ड आउटपुट UNIX पर प्रिंट करने के लिए किया जाता है । 

5. expr command:-

 expr कमाण्ड दिए गए arguments को expressions की तरह evaluate करता है तथा इसके बाद results को display करता है ।

6. passwd command:-

 passwd कमाण्ड का प्रयोग किसी user name से सम्बन्धित पासवर्ड को create करने या बदलने के लिए किया जाता है ।

7. pwd command :-

pwd ( present working directory ) कमाण्ड करेंट डाइरेक्ट्री का नाम पूरे path के साथ display करता है ।

8. Is command:-

 Is कमाण्ड का प्रयोग डाइरेक्ट्री के contents को list करने के लिए किया जाता है।

9. फाइल create करना तथा cat command:- 

किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम में text file create करने के लिए उस के ऑपरेटिंग सिस्टम editor का प्रयोग किया जाता है । UNIX में vi , ed , ex जैसे कई एडीटर हैं । परन्तु फाइल create करने के लिए सबसे आसान तरीका cat कमाण्ड का प्रयोग करना है । 

10. डाइरेक्ट्री create करना : mkdir command:-

 mkdir command का प्रयोग एक बार में एक या उससे अधिक create directory करने के लिए किया जाता है । किसी भी डाइरेक्ट्री में एक या एक से अधिक create directory करने के लिए आपको उस directory अर्थात् parent directory में write permission करना चाहिए ।

11. Directory बदलना : cd command:- 

cd कमाण्ड का प्रयोग present working directory ( pwd ) से किसी अन्य directory में जाने करने के लिए किया जाता है ।

12. directory को डिलीट करना : rmdir command:-

 directory को डिलीट करने के लिए rmdir कमाण्ड का प्रयोग किया जाता है । rmdir कमाण्ड के बदले rm कमाण्ड का भी प्रयोग किया जा सकता है ।

13. फाइल कॉपी करना : cp command:-

 cp कमाण्ड का uses एक या एक से अधिक फाइलों को एक directory से दूसरी directory से copy करने के लिए किया जाता है । cp कमाण्ड का प्रयोग किसी फाइल को दूसरे नाम से भी कॉपी copy करने के लिए किया जाता है । copy कमाण्ड के साथ cp option का uses कर किसी भी directory के सभी sub - directory और फाइलों को किसी अन्य directory में copy किया जा सकता है । 

14. फाइल को रिनेम करना : mv command:-

 mv कमाण्ड का use फाइल और डाइरेक्ट्री को rename  करने के लिए किया जाता है । mv कमाण्ड का प्रयोग किसी डाइरेक्ट्री को UNIX फाइल सिस्टम में एक जगह से दूसरी जगह move करने के लिए भी किया जाता है ।

15. फाइल को link करना : In command:-

 In कमाण्ड का use किसी फाइल का एक या एक से अधिक link create करने के लिए किया जाता है । यहाँ link create करने का मतलब एक ही फाइल को विभिन्न नामों से access करने से है ।

 16. wc command:-

wc कमाण्ड का प्रयोग किसी text file में character ,  word और line की संख्या को count के लिए किया जाता है ।

17. sort command:-

 sort command का प्रयोग किसी फाइल के Contents को alphabetical order में sort करने के लिए किया जाता है । sort command का use एक से अधिक sorted file को merge करके किसी output file में रखने के लिए भी किया जाता है । sort command किसी फाइल के प्रत्येक लाइन के पहले केरक्टर किए गए कॉलम की संख्या से releted प्रत्येक लाइन के केरक्टर को अगले लाइन के केरक्टर से compare कर sorting करता है।

18. cut command:-

 जैसा कि कमाण्ड के नाम से ही पता चलता है यह किसी फाइल से characters को cut करता है ।

19. paste command :-

 paste command का प्रयोग एक या एक से अधिक फाइलों के lines को vertical columns में merge करने के लिए किया जाता है । प्रत्येक column , Tab से अलग होता है ।

20. cmp command:-

 cmp कमाण्ड का प्रयोग दो फाइलों की comparison करने के लिए किया जाता है ।

21. command command:-

 command कमाण्ड का use दो फाइलों को compare कर उनके common लाइनों को देखने के लिए किया जाता है । command , कमाण्ड का प्रयोग दोनों फाइलों के unique लाइनों को भी देखने के लिए किया जाता है । command का आउटपुट तीन कॉलम में divided होता है।

22. tr command:-

 tr कमाण्ड का use किसी टेक्स्ट फाइल के characters को छोटे अक्षरों ( a - z ) में बड़े अक्षरों ( A - Z ) में बदलने करने के लिए किया जाता है । tr कमाण्ड का प्रयोग किसी टेक्स्ट फाइल से blank lines को delete करने के लिए भी किया जाता है । tr कमाण्ड का प्रयोग किसी टेक्स्ट फाइल से text pattern को डिलीट करने के लिए भी किया जाता है ।

23. head command:-

 head कमाण्ड का use किसी टेक्स्ट फाइल मे specified किए गए लाइनों को फाइल के प्रारम्भ से देखने के लिए किया जाता है ।

24. tail command:-

 tail कमाण्ड का use किसी टेक्स्ट फाइल के specified किए गए लाइनों को फाइल के अंत तक देखने के लिए किया जाता है । tail कमाण्ड by default केवल 10 लाइनों को display करता है ।

25. Pg command:-

 pg कमाण्ड का use किसी टेक्स्ट फाइल के contents को एक एक पेज करके देखाने के लिए किया जाता है । pg कमाण्ड फाइल के प्रत्येक पेज के प्रदर्शित करने के बाद अगले पेज को देखने के लिए आपसे Enter key दबाने के लिए कहता है । pg कमाण्ड से बाहर निकलने के लिए q दबाना पड़ता है ।





टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ