सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

buffering in os in hindi

 आज हम computer course in hindi मे हम buffering in os in hindi के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

Buffering in os in hindi:-

buffering एक मेमोरी एरिया होता है जो डाटा को तब स्टोर करता है जब वह दो डिवाइस या एक डिवाइस और एक एप्लीकेशन के बीच transferred होता है । buffering तीन कारणों की वजह से की जाती है । पहला कारण data stream में producer और consumer के बीच गति different होने का सामना करना है ।

 उदाहरण:- एक फाइल हार्डडिस्क में स्टोर होने के लिए मॉडल के द्वारा प्राप्त हो रही है । मॉडम हार्डडिस्क से हजार गुना slove होता है इसलिए एक बफर मुख्य मेमोरी में बनाया जाता है । यह buffer mouse के द्वारा प्राप्त की गई बाइट्स को collect करता है । जब डाटा पूरा buffer तक पहुँच जाता है तो buffer एक single operation में डिस्क में लिखा जा सकता है और अगर डिस्क तुरन्त डाटा नहीं लिख पाती और मॉडम को अब भी दूसरे incoming data को स्टोर करने के लिए स्थान की जरूरत होती है , तो फिर इसके लिए दो buffer का प्रयोग किया जाता है । पहले डिस्क लिखने की रिक्वेस्ट की जाती है और उसके बाद मॉडम buffer को भर देता है । फिर मॉडम दूसरे buffer को भरना शुरू कर देता है जबकि पहला buffer डिस्क पर लिखा जा रहा है । समय के साथ - साथ मॉडम दूसरे buffer को भर चुका होता है और उसके साथ पहला buffer जो डिस्क पर लिखा जा रहा था वह अब पूरा हो जाना चाहिए इसलिए अब मॉडम पहले buffer पर वापस आ सकता है और उसके साथ डिस्क दूसरे buffer को लिखती है । यह double buffering data के producer से users को Decouple कर देता है । इस प्रकार उन दोनों के बीच कुछ relaxing time की आवश्यकता होती है ।जो एक Ideal Computer Hardware के लिए डिवाइस की गति में एक बहुत बड़े अन्तर की लिस्ट बनाती है और buffering का दूसरा प्रयोग उन डिवाइस के बीच management करना है जिसका डाटा- transfered साइज अलग होता है । इस प्रकार की असमानताएँ computer networking in particular में सामान्य होती है जहाँ buffer detail रूप से Fragmentation और massage फिर से collect करने के लिए प्रयोग किया जाता है और भेजने के स्थान पर एक बड़े सन्देश को छोटे - छोटे नेटवर्क पैकेट में बाँट दिया जाता है । यह पैकेट नेटवर्क के द्वारा भेजे जाते हैं और प्राप्त होने के स्थान पर उन पैकेटों की Source डाटा इमेज को बनाने के लिए buffer में collect कर लेते हैं और इस प्रकार उन छोटे - छोटे नेटवर्क पैकेटों को दोबारा एक बड़े सन्देश के रूप में प्राप्त कर लिया जाता है ।

buffering का तीसरा प्रयोग एप्लीकेशन इनपुट / आउटपुट के लिए copy semantics को सम्भालना है । यहाँ एक उदाहरण copy semantics के अर्थ को स्पष्ट कर देगा । मान लेते हैं कि एक एप्लीकेशन डाटा एक buffer रखती है जिसके द्वारा हम डाटा को डिस्क पर राइट कर सकते हैं । यह राइट सिस्टम कॉल को बुलाता है जो buffer को एक पॉइन्टर प्रदान करता है और एक Integer प्रदान करता है जो लिखने के लिए बाइट्स का वर्णन करता है कि इसमें सिस्टम कॉल के वापस आने के बाद में क्या होता है । यदि एक एप्लीकेशन , buffer के contents को बदल देती है तो copy semantics के साथ , डिस्क पर लिखे हुए डाटा का translation नहीं बदलता यह ठीक वैसा ही रहता है जैसा कि एप्लीकेशन सिस्टम कॉल के समय पर था । वह एप्लीकेशन के buffer में कोई भी बदलाव करने के लिए Free होता है । एक साधारण रास्ता जो ऑपरेटिंग सिस्टम के द्वारा किया जा सका है । copy semantics application के Returning control से पहले राइट सिस्टम कॉल के एप्लीकेशन डाटा को kernel buffer में कॉपी करना होता है और disk write kernel buffer के द्वारा की जाती है इसलिए एप्लीकेशन बफर में हुए बाद के बदलाव का कोई प्रभाव नहीं पड़ता । kernel buffer और एप्लीकेशन डाटा स्पेस के बीच में डाटा को कॉपी करना ऑपरेटिंग सिस्टम में सामान्य होता है ।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

What is Message Authentication Codes in hindi (MAC)

What is  Message Authentication Codes in hindi (MAC) :- Message Authentication Codes (MAC) , cryptography के सबसे attractive और complex areas में से एक message authentication और digital signature का area है। सभी क्रिप्टोग्राफ़िक फ़ंक्शंस और प्रोटॉल्स को समाप्त करना असंभव होगा, जिन्हें message authentication और digital signature के लिए executed किया गया है।  यह message authentication और digital signature के लिए आवश्यकताओं और काउंटर किए जाने वाले attacks के प्रकारों के introduction के साथ होता है। message authentication के लिए fundamental approach से संबंधित है जिसे Message Authentication Code (MAC)  के रूप में जाना जाता है।  इसके दो categories में MACs की होती है: क्रिप्टोग्राफिक हैश फ़ंक्शन से बनाई और ऑपरेशन के ब्लॉक सिफर मोड का उपयोग करके बनाए गए। इसके बाद, हम एक relatively recent के approach को देखते हैं जिसे Authenticated encryption के रूप में जाना जाता है। हम क्रिप्टोग्राफ़िक हैश फ़ंक्शंस और pseudo random number generation के लिए MCA के उपयोग को देखते हैं। message authentication ए