सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

buffering in os in hindi

 आज हम computer course in hindi मे हम buffering in os in hindi के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

Buffering in os in hindi:-

buffering एक मेमोरी एरिया होता है जो डाटा को तब स्टोर करता है जब वह दो डिवाइस या एक डिवाइस और एक एप्लीकेशन के बीच transferred होता है । buffering तीन कारणों की वजह से की जाती है । पहला कारण data stream में producer और consumer के बीच गति different होने का सामना करना है ।

 उदाहरण:- एक फाइल हार्डडिस्क में स्टोर होने के लिए मॉडल के द्वारा प्राप्त हो रही है । मॉडम हार्डडिस्क से हजार गुना slove होता है इसलिए एक बफर मुख्य मेमोरी में बनाया जाता है । यह buffer mouse के द्वारा प्राप्त की गई बाइट्स को collect करता है । जब डाटा पूरा buffer तक पहुँच जाता है तो buffer एक single operation में डिस्क में लिखा जा सकता है और अगर डिस्क तुरन्त डाटा नहीं लिख पाती और मॉडम को अब भी दूसरे incoming data को स्टोर करने के लिए स्थान की जरूरत होती है , तो फिर इसके लिए दो buffer का प्रयोग किया जाता है । पहले डिस्क लिखने की रिक्वेस्ट की जाती है और उसके बाद मॉडम buffer को भर देता है । फिर मॉडम दूसरे buffer को भरना शुरू कर देता है जबकि पहला buffer डिस्क पर लिखा जा रहा है । समय के साथ - साथ मॉडम दूसरे buffer को भर चुका होता है और उसके साथ पहला buffer जो डिस्क पर लिखा जा रहा था वह अब पूरा हो जाना चाहिए इसलिए अब मॉडम पहले buffer पर वापस आ सकता है और उसके साथ डिस्क दूसरे buffer को लिखती है । यह double buffering data के producer से users को Decouple कर देता है । इस प्रकार उन दोनों के बीच कुछ relaxing time की आवश्यकता होती है ।जो एक Ideal Computer Hardware के लिए डिवाइस की गति में एक बहुत बड़े अन्तर की लिस्ट बनाती है और buffering का दूसरा प्रयोग उन डिवाइस के बीच management करना है जिसका डाटा- transfered साइज अलग होता है । इस प्रकार की असमानताएँ computer networking in particular में सामान्य होती है जहाँ buffer detail रूप से Fragmentation और massage फिर से collect करने के लिए प्रयोग किया जाता है और भेजने के स्थान पर एक बड़े सन्देश को छोटे - छोटे नेटवर्क पैकेट में बाँट दिया जाता है । यह पैकेट नेटवर्क के द्वारा भेजे जाते हैं और प्राप्त होने के स्थान पर उन पैकेटों की Source डाटा इमेज को बनाने के लिए buffer में collect कर लेते हैं और इस प्रकार उन छोटे - छोटे नेटवर्क पैकेटों को दोबारा एक बड़े सन्देश के रूप में प्राप्त कर लिया जाता है ।

buffering का तीसरा प्रयोग एप्लीकेशन इनपुट / आउटपुट के लिए copy semantics को सम्भालना है । यहाँ एक उदाहरण copy semantics के अर्थ को स्पष्ट कर देगा । मान लेते हैं कि एक एप्लीकेशन डाटा एक buffer रखती है जिसके द्वारा हम डाटा को डिस्क पर राइट कर सकते हैं । यह राइट सिस्टम कॉल को बुलाता है जो buffer को एक पॉइन्टर प्रदान करता है और एक Integer प्रदान करता है जो लिखने के लिए बाइट्स का वर्णन करता है कि इसमें सिस्टम कॉल के वापस आने के बाद में क्या होता है । यदि एक एप्लीकेशन , buffer के contents को बदल देती है तो copy semantics के साथ , डिस्क पर लिखे हुए डाटा का translation नहीं बदलता यह ठीक वैसा ही रहता है जैसा कि एप्लीकेशन सिस्टम कॉल के समय पर था । वह एप्लीकेशन के buffer में कोई भी बदलाव करने के लिए Free होता है । एक साधारण रास्ता जो ऑपरेटिंग सिस्टम के द्वारा किया जा सका है । copy semantics application के Returning control से पहले राइट सिस्टम कॉल के एप्लीकेशन डाटा को kernel buffer में कॉपी करना होता है और disk write kernel buffer के द्वारा की जाती है इसलिए एप्लीकेशन बफर में हुए बाद के बदलाव का कोई प्रभाव नहीं पड़ता । kernel buffer और एप्लीकेशन डाटा स्पेस के बीच में डाटा को कॉपी करना ऑपरेटिंग सिस्टम में सामान्य होता है ।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल