सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

caching in os in hindi

 आज हम computer course in hindi मे हम  caching in os in hindi के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

caching in os in hindi:-

इसमें एक cash तीव्र मेमोरी का भाग है जो डाटा की कॉपी रखता है । एक ओरिजनल कॉपी को access करने से appropriate cached copy को access करना है । वर्तमान में चल ही प्रक्रियाओं के instruction disc पर स्टोर होते हैं और physical memory में cached होते हैं और सी.पी.यू. की secondary और primary caches में दोबारा कॉपी हो जाते हैं । 
एक buffer और cash में अन्तर यह कि बफर केवल डाटा आइटम की वर्तमान कॉपी को रख सकता है जबकि एक cash को define किया गया है कि एक आइटम जो कहीं और रहता है उसके फास्टर स्टोरेज पर एक कॉपी को रखना होता है । caching और buffering दो भिन्न - भिन्न function है लेकिन कभी - कभी मैमोरी का एक भाग दोनों objectives के लिए प्रयोग किया जा सकता है । 
copy semantics रखने के लिए और डिस्क इनपुट / आउटपुट के लिए suitable scheduling को able बनाने के लिए और ऑपरेटिंग सिस्टम buffer को मुख्य मेमोरी में डिस्क डाटा को रखने के लिए प्रयोग करते हैं । ये buffer एक cash के रूप में भी प्रयोग किये जाते हैं । यह फाइल के लिए इनपुट / आउटपुट क्षमता को बढ़ाने में प्रयोग की जाती है और जो फाइल एप्लीकेशन द्वारा शेयर की जाती है या लिखी और साथ - साथ बार - बार पढ़ी जा रही है । जब colonel एक फाइल इनपुट / आउटपुट request को प्राप्त करता है तो colonel सबसे पहले buffer cash को यह देखने के लिए access करता है कि फाइल का वह भाग पहले से मुख्य मेमोरी में उपलब्ध है या नहीं । और यदि ऐसा है तो एक physical disk input/output कुछ देर के लिए रोका जा सकता है । डिस्क राइट कुछ सेकेण्ड के लिए बफर कैश में भी collect किया जाता है इसलिए बड़े Proper transfer schedule को permission देने के लिए collect हो जाते हैं ।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

What is Message Authentication Codes in hindi (MAC)

What is  Message Authentication Codes in hindi (MAC) :- Message Authentication Codes (MAC) , cryptography के सबसे attractive और complex areas में से एक message authentication और digital signature का area है। सभी क्रिप्टोग्राफ़िक फ़ंक्शंस और प्रोटॉल्स को समाप्त करना असंभव होगा, जिन्हें message authentication और digital signature के लिए executed किया गया है।  यह message authentication और digital signature के लिए आवश्यकताओं और काउंटर किए जाने वाले attacks के प्रकारों के introduction के साथ होता है। message authentication के लिए fundamental approach से संबंधित है जिसे Message Authentication Code (MAC)  के रूप में जाना जाता है।  इसके दो categories में MACs की होती है: क्रिप्टोग्राफिक हैश फ़ंक्शन से बनाई और ऑपरेशन के ब्लॉक सिफर मोड का उपयोग करके बनाए गए। इसके बाद, हम एक relatively recent के approach को देखते हैं जिसे Authenticated encryption के रूप में जाना जाता है। हम क्रिप्टोग्राफ़िक हैश फ़ंक्शंस और pseudo random number generation के लिए MCA के उपयोग को देखते हैं। message authentication ए