सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Demand paging in hindi

आज हम computer course in hindi मे हम Demand paging in hindi के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- 

Demand paging in hindi :-

यह demand paging system swapping के साथ एक paging system के समान होते हैं। Processes Secondary Memory पर स्थित होती हैं ( जो एक डिस्क होती है ) । जब हम एक processes को execute करना चाहते हैं , हम इसे मैमोरी में परिवर्तित कर सकते हैं । मैमोरी में पूरे processes को change किया जाता है , फिर भी , हम एक सुस्त Swapper का उपयोग करते हैं । एक सुस्त Swapper एक पेज को मैमोरी में तब तक change नहीं करता है और जब तक पेज की आवश्यकता न हो । चुंकि हमे processes को पेजों की Chain की तरह विचार करते हैं , एक बड़ा address space swap term का उपयोग technology रूप से गलत होता है । एक Swapper पूरी Processes को manage करता है वहीं एक Pager Processes के pages के साथ सम्बन्ध रखता है । तब हम demand paging के साथ जुड़ने में Swapper की अपेक्षा pager term का उपयोग करेंगे ।
 जब एक process को change किया जाता है , तो पेजर ये अनुमान लगाता है कि कौन - से process को वापस change होने से पहले उपयोग किया जायेगा । पूरे processes में change के स्थान पर पेज केवल उन आवश्यक पेजों को मैमोरी में लाता है । ये मैमोरी पेजों में उन पेजों को पढ़ने को अनदेखा करते हैं जो किसी भी प्रकार से उपयोग नहीं किये जायेंगे और swap time को कम करना और physical memory के आवश्यक परिणाम को अनदेखा किया जाता है । इस योजना को साथ हमें हार्डवेयर के कुछ फॉर्म की आवश्यकता उन पेजों के मध्य अन्तर करने के लिये होती है जो मैमोरी में होते हैं और उन पेजों के मध्य जो डिस्क पर होते हैं । valid - invalid bit plan इस objective के लिये उपयोग की जा सकती है । इस समय जब ये bit valid के लिये सैट कर दी जाती है , ये सहायक page legal और मैमोरी दोनों प्रकार का है । यदि बिट को invalid पर सैट किया जाता है ये मान कि पेज वैलिड है या नहीं है लेकिन डिस्क पर इस समय है । पेज के लिये पेज table entry जो मैमोरी में लायी गयी है साधारण प्रकार से सैट की जाती है लेकिन एक पेज जो वर्तमान में मैमोरी में नहीं है , table entry के रूप से invaild बतायी जाती है या डिस्क पर स्थित पेज के एड्रैस को Inclusive करती है ।
यदि प्रोसेस उस पेज को एक्सेस करने का कोई प्रयास नहीं करता है । और पेज सभी में व केवल पेज जिनकी आवश्यकता है , प्रोसेस इसे suitable रूप से रन करेगा। जब प्रोसेस , पेजों को execute और एक्सेस करता है तो वह Memory Resident होता है । ये execute सामान्य रूप में आगे बढ़ता है । लेकिन उस समय यदि प्रोसेस उस पेज को उपयोग करने की कोशिश करे जो मैमोरी में लाया नहीं गया था ? एक पेज के invalid mark के लिये किया जाने वाला एक्सेस Page Fault Trap का कारण होता है । पेज टेबल के माध्यम से एड्रैस को ट्रान्सलेट करने में पेजिंग हार्डवेयर ये नोट सिस्टम के फेलियर का परिणाम होता है । जो इच्छित पेज को मैमोरी में लाता है । एक invalid address error attempt के एक परिणाम की तरह एक अमान्य मैमोरी एड्रैस को उपयोग कर लेता है । इस पेज को control करने के लिये प्रक्रिया सरल है -
( 1 ) हम इस प्रोसेस के लिये आन्तरिक टेबल को यह निर्धारित करने के लिये चैक करते हैं ( जो सामान्य तौर पर Process control block के साथ होती है ) कि reference valid या invalid memory access है ।
( 2 ) यदि reference invalid होता है तो हम प्रोसेस को समाप्त करते हैं यदि ये वैलिड होता है लेकिन हमने अभी तक इसे इस पेज में प्रवेश नहीं कराया है तो हम इसे बाद में करते हैं । 
( 3 ) हम एक Independent फ्रेम को खोजते हैं ( जिनमें हम उदाहरण के लिये स्वतंत्र फ्रेम लिस्ट से एक को लेने के द्वारा करते है ) । 
( 4 ) एक डिस्क ऑपरेशन को new constructed split frame में desired page को पढ़ने के लिये listed करते हैं । 
( 5 ) जब डिस्क द्वारा पढना पूर्ण हो जाता है , हम आन्तरिक टेबल को प्रोसेस के साथ converted करते हैं और पेज टेबल यह दर्शाती है कि पेज इस समय मैमोरी में है । 
( 6 ) हम उस Instruction को पुनः आरम्भ करते हैं जो Invalid address trap द्वारा interrupt किया गया था और तब प्रोसेस पेज को इस प्रकार एक्सेस कर सकता है कि वह हमेशा ही मैमोरी में हो ।

1. Page table:-

ये table valid invalid bit  की special value के माध्यम से एक एन्ट्री को marked invalid करने की क्षमता रखती है । 

2. secondary memory :-

ये मैमोरी उन पेजों को रखती है जो मुख्य मैमोरी में उपस्थित नहीं होते हैं । secondary memory सामान्यतः एक उच्च गति वाली डिस्क है । ये swap device के नाम से जानी जाती है और इस objective के लिये उपयोग की जाने वाली डिस्क की Category Swap Space या Backing Store के नाम से जानी जाती है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

What is Message Authentication Codes in hindi (MAC)

What is  Message Authentication Codes in hindi (MAC) :- Message Authentication Codes (MAC) , cryptography के सबसे attractive और complex areas में से एक message authentication और digital signature का area है। सभी क्रिप्टोग्राफ़िक फ़ंक्शंस और प्रोटॉल्स को समाप्त करना असंभव होगा, जिन्हें message authentication और digital signature के लिए executed किया गया है।  यह message authentication और digital signature के लिए आवश्यकताओं और काउंटर किए जाने वाले attacks के प्रकारों के introduction के साथ होता है। message authentication के लिए fundamental approach से संबंधित है जिसे Message Authentication Code (MAC)  के रूप में जाना जाता है।  इसके दो categories में MACs की होती है: क्रिप्टोग्राफिक हैश फ़ंक्शन से बनाई और ऑपरेशन के ब्लॉक सिफर मोड का उपयोग करके बनाए गए। इसके बाद, हम एक relatively recent के approach को देखते हैं जिसे Authenticated encryption के रूप में जाना जाता है। हम क्रिप्टोग्राफ़िक हैश फ़ंक्शंस और pseudo random number generation के लिए MCA के उपयोग को देखते हैं। message authentication ए