सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

interrupt in hindi

 आज हम computer course in hindi मे हम interrupt in hindi  के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-

interrupt in hindi :-

interrupt एक mechanism आगे लिखे अनुसार कार्य करता है और cpu hardware interrupt request line नाम का एक तार होता है जो प्रत्येक Instructions को execute करने के बाद सी.पी.यू. को बताता है । जब सी.पी.यू. पता लगाता है कि Controller interrupt request line पर strongly signal दिया गया है तो सी.पी.यू. उसका कुछ भाग सेव कर लेती है , इसमें जैसे instruction point की वर्तमान वैल्यू और मैमोरी में interrupt handler routine के एक fix address पर Jump करता है । interrupt handler error के कारण को निश्चित करता है और आवश्यक Proceeding करता है और interrupt से पहले सी.पी.यू. को Execution status पर वापस पहुँचाने के लिए एक Return from interrupt instructions को execute करता हैं और हम कहते हैं कि Device controller interrupt request line पर एक signal establish करके interrupt बनाती है । सी.पी.यू. इस interrupt को हटा देता है । Interrupt Driven I / O Cycle को describe करता है ।
यह Basic interrupt mechanism CPU को लगातार होने वाली incident का उत्तर देने में है । जैसे , 
एक Device controller service के लिए तैयार हो रहा हो तो एक नवीन ऑपरेटिंग सिस्टम में हमें अधिक Complex interrupt handling को hand over की ability होनी चाहिए और फिर दूसरे हमें एक device के लिए एक proper interrupt handler को hand over के लिए एक proper way चाहिए । बिना सभी devices को polling किये देखना कि कौन सा Generate device interrupts कर रहा है । 
तीसरे हमें multilevel interrupt चाहिए , ताकि ऑपरेटिंग सिस्टम High Priority और Low Priority interrupt के बीच अन्तर कर सके और सबसे पहले आवश्यकता के अनुसार उसका उत्तर दे सके । आधुनिक कम्प्यूटर हार्डवेयर ये लक्षण सी.पी.यू. और Interrupt control hardware के द्वारा provide किये जाते हैं । ज्यादातर सी.पी.यू. में interrupt request lines होती हैं। 
interrupt in hindi

Types of interrupt in hindi:-

1. नॉन - मास्केबल ( Non - Maskable ) interrupt :-

 जो ठीक न होने वाली memory faults जैसी event के लिए सुरक्षित रखे जाते हैं ।

2. Interrupt line Maskable:-

 यह सी.पी.यू. के द्वारा complex order sequences , जो रूकी हुई नहीं तो , के editing से पहले निकाल दिया जा सकता है । Muskable interrupt service को रिक्वैस्ट करने के लिए device controller द्वारा प्रयोग किया जाता है ।
interrupt mechanism एक पता स्वीकार करता है वह एक नम्बर होता है जो एक छोटे समूह से एक Fixed interrupt handling routine चुनता है । ज्यादातर structures में यह पता एक टेबल में रखा जाता है जिसे Interrupt vector के नाम से जाना जाता है और यह vector special interrupt handlers की मैमोरी पता रखता है । vector interrupt mechanism का objective interrupt की सभी possible source को खोजकर यह निश्चित करता है कि किसको service की interrupt handler के कार्य को कम करना Interrupt vector का objective है । कम्प्यूटर में कई device होते हैं ( और इसलिए interrupt handler भी ) और तब उनका Interrupt vector में address element होता है , इस समस्या को सुलझाने का एक सामान्य रास्ता interrupt और chaining technique का प्रयोग करना है जिसमें Interrupt vector में प्रत्येक element interrupt handler की index के head पर signal करता है । जब एक generate interrupt होता है , handler उसके according की indexes पर , एक - एक करके बुलाये जाते हैं इसमें जब तक कि वह handler नहीं मिल जाता जो रिक्वेस्ट को पूरा कर सकता है । यह structure एक बड़ी Interrupt table के overhead और एक अकेले interrupt handler को भेजने की disqualification के बीच एक समझौता है । Interrupt mechanism Interrupt priority level के एक सिस्टम को भी पूरा करती है । यह mechanism बिना सभी Interrupt को प्रकट किये लो - Priority Interrupt की handling को handing over सी.पी.यू. को बनाता है और इसे High - priority interrupt के लिए possible बनाया जाता है ।
एक modern operating system कई प्रकार से Interrupt mechanism के साथ relation रखती है । बूट के समय पर , ऑपरेटिंग सिस्टम , यह पता लगाने के लिए क्या device है और हार्डवेयर बस की thorough exam लेता है औ इन्ट्रप्ट र Interrupt vector में analog interrupt handler को इन्स्टॉल करता है । इनपुट / आउटपुट के दौरान , Interrupt कई Device controller के द्वारा किया जाता है जब वह सर्विस के लिए तैयार होता है या interrupt बताते हैं कि आउटपुट पूरा हो चुका है या इनपुट डाटा उपलब्ध है या कि failure को ढूँढ़ा जाता है और interrupt mechanism expansion के प्रकारों को हैण्डल करने के लिए प्रयोग की जाती हैं । जैसे से भाग देना , किसी मैमोरी एड्रैस न होने पर भी उसे एक्सेस करना या किसी containing instructions को execute करने का प्रयास , यूज़र की ओर से करना और इवेन्ट जो interrupt को ट्रिगर करते हैं सामान्य प्रोपर्टी के होते हैं । ये वे event होती हैं जो एक आवश्यक , self-contained routine को execute करने का अनुमान लगाती है ।

एक ऑपरेटिंग सिस्टम एक Qualified Hardware Mechanism के लिए दूरा अच्छा उपयोग होता है जो कि processor की condition का एक छोटा भाग सेव करता है और फिर colonel में एक empowered routine को बुलाता है ।

Operating System Virtual Memory packing के लिए:-

 Interrupt mechanism का उपयोग करते है और page fault एक exception होता है , जो एक interrupt generate करता है । interrupt वर्तमान process को कुछ देर के लिए रोक देता है और फिर colonel में पेज फॉल्ट हैण्डलर पर जम्प करता है । यह handler process की condition को सेव करता है , और उस प्रक्रिया को Wait Queue में पहुँचा देता है और फिर page cache management को पूरा करता है । जब page cache management पूरा हो जाता है तब पेज को निकालने के लिए इनपुट / आउटपुट ऑपरेशन को schedule करता है और फिर execution को दोबारा से करने के लिए दूसरी प्रक्रिया को schedule करता है और फिर interrupt से वापस आ जाता है ।

सिस्टम कॉल को पूरा करने:-

सिस्टम कॉल को पूरा करने में एक पाया जाता है और एक सिस्टम कॉल एक - सा फंक्शन होता है जो colonel service को बुलाने के लिए एक एप्लीकेशन के द्वारा बुलया जाता है । सिस्टम कॉल एप्लीकेशन द्वारा दी गई argument को चैक करता है । इसको चैक करने के बाद argument को colonel के पास भेजने के लिए एक data structure बनाता है और फिर एक Software interrupt एक ट्रैप के नाम का एक execute special instructions करता है । इस instructions में एक Operand होता है , जो कर्नल की आवश्यक colonel service को signal करता है और जब system call trap instruction को execute करता है तो interrupt hardware user code की condition को सेव कर देता है और उसे supervisor mode से जोड़ देता है और फिर उसे कर्नल रूटीन के पास भेज देता है जो request service को पूरा करता है और ट्रैप जो device interrupt को सौपें जाते हैं उन्हें Low interrupt priority दे देते हैं । एप्लीकेशन की ओर से सिस्टम कॉल को execute करना Letter - Key FIFO Line के overflow और डाटा के नष्ट होने से पहले Device controller की service करना उससे कम आवश्यक होता है ।

Interrupt Colonel में कन्ट्रोल के फ्लो का management करने:-

Interrupt Colonel में कन्ट्रोल के फ्लो का management करने में भी प्रयोग किया जाता है और एक डिस्क रीड को पूरा करने के लिए जो प्रोसेसिंग चाहिए उस पर ध्यान देने पर पहला कदम colonel space से user buffer में डाटा कॉपी करना है । इस कॉपी को करने में बहुत समय लगता है लेकिन यह आवश्यक नहीं होती और इसलिए दूसरे High priority interrupt handling को ब्लॉक नहीं करना चाहिए । दूसरा उस डिस्क ड्राइव के लिए अगले रूका हुआ इनपुट / आउटपुट को चालू करना है । इस को सबसे high priority प्राप्त होती है । यदि डिस्क को उचित प्रकार से प्रयोग किया जाये तो जैसे ही पहला इनपुट / आउटपुट पूरा हो जाता है दूसरे को चालू करने को आवश्यकता होती है । अत : कर्नल जो डिस्क रीड को पूरा करता है वह interrupt handler एक जोड़े के द्वारा किया जाता है और High Priority Handler Input/Output के status को रिकॉर्ड करता है और device interrupt को हटाता है फिर अगले रूके हुए इनपुट / आउटपुट को चालू करता है और अन्त में कार्य को पूरा करने के लिए जो Priority interrupt करता है । जब सी.पी.यू. high priority कार्य से घिरा हुआ नहीं होता है तब Low priority interrupt को भेज दिया जाता है । एक दूसरा analog handler kernel buffer से Application Space में कॉपी करके यूज़र लेवल इनपुट / आउटपुट को पूरा करता है और फिर एप्लीकेशन को ready पर लगाने के लिए scheduler को बुलाता है ।
इसमें एक Threaded Colonel Architecture कई interrupt priority को पूरा करने में योग्य होता है और कर्नल और application routine में back ground process पर interrupt handling की priority को executed करता है । हम इस विषय को Solaris Colonel के साथ described करते हैं । Solaris में , interrupt handler kernel thread की तरह execute किये हैं । और उन थ्रेड के लिए high priority की एक category को reserve रखा जाता है । ये Priority interrupt handler को एप्लीकेशन कोड और colonel housekeeping पर priority प्रदान करती है और interrupt handlers के बीच Priority relationship बनाती है । इन Priority के कारण Solaris Thread Scheduler सबसे high priority के समर्थन में low-priority interrupt handler को प्राप्त करा देता है और threaded implementation multiprocessor hardware में एक साथ अनेकों interrupt handlers को चलाने के लिये समर्थ बनाता है । यह इन्ट्रप्ट आधुनिक ऑपरेटिंग सिस्टम में asynchronous events को हैण्डल करने को और कर्नल में supervisor mode routine को पकड़ने के लिए प्रयोग किया जाता है । सबसे पहले सबसे आवश्यक कार्य करने के लिए , Modern computer interrupt priority के एक सिस्टम का प्रयोग करते हैं और Device controller, hardware faults और system calls सभी colon routine को ट्रिगर करने के लिए interrupt करते हैं क्योंकि time-sensitive, processing के लिए बहुत अधिक प्रयोग किये जाते हैं और एक योग्य interrupt handling system की परफॉरमेन्स अच्छी करने के लिए आवश्यक होती है ।

 Multiple Interrupts in hindi:-

इस बिंदु पर, हम इस बात से बहुत परिचित हैं कि एक interrupt क्या है, एक interrupt request signal क्या है, एक Interruption acknowledgment signal क्या है, एक interrupt service routine क्या है, interrupt के प्रकार और interrupt को कैसे संभालना है। इसलिए, यह एक से अधिक interrupt को संभालने का समय है क्योंकि यह एक ही समय में हो सकता है, क्योंकि यह अन्य interrupt के होने के लिए संभव है, जबकि एक interrupt service routine को processed किया जा रहा है। इसलिए, एक मॉड्यूल होना चाहिए जो विभिन्न devices से interrupt requests को संभाल सकता है और एक-एक करके प्रोसेसर को अनुमति देता है और इसे इंटरप्ट कंट्रोलर के रूप में जाना जाता है। मूल रूप से, कई disruptions को संभालने के दो तरीके हैं और वे इस प्रकार हैं-
Disabling the interrupts
Defining priorities to the interrupts

Disabling the interrupts:- 

एक disable interrupt का मतलब है कि सीपीयू उस इंटरप्ट रिक्वेस्ट सिग्नल को अनदेखा कर सकता है और करेगा। यदि इस समय के दौरान कोई interrupt generate होता है, तो यह आम तौर पर pending रहता है और सीपीयू द्वारा interrupt को enable करने के बाद सीपीयू द्वारा इसकी जाँच की जाएगी। इसलिए, जब कोई user program execute हो रहा है और interrupt generate होती है, तो interrupts तुरंत disable हो जाते हैं, और interrupt service routine के पूरा होने के बाद, उपयोगकर्ता प्रोग्राम को फिर से शुरू करने से पहले interrupts enable होते हैं, और प्रोसेसर यह देखने के लिए जांच करता है कि क्या अतिरिक्त इंटरप्ट्स हैं हो गया।

Defining priorities to the interrupts:-

एक प्रायोरिटी इंटरप्ट एक इंटरप्ट है जो various sources पर priority establish करता है यह determine करने के लिए कि दो या दो से अधिक request एक साथ आने पर कौन सी स्थिति पहले serve की जानी है।
इस method में, priorities को इंटरप्ट के लिए defined किया जाएगा और एक उच्च priorities वाले इंटरप्ट को कम प्राथमिकता वाले इंटरप्ट सर्विस रूटीन को self interrupted होने की permission दी जाएगी। जब उच्च priorities वाले इंटरप्ट के लिए इंटरप्ट सर्विस रूटीन पूरा हो जाएगा, तो निम्न priorities वाली इंटरप्ट सर्विस रूटीन को पहले फिर से शुरू किया जाएगा और end में user program पर control आ जाएगा। तो, यह सीपीयू के control के transfer की nature का एक नेस्टेड प्रकार है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल