सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

paging in os in hindi - पेजिंग

 आज हम computer course in hindi मे हम paging in os in hindi के बारे में जानकारी देते क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  

paging in os in hindi :-

paging हमारे पास एक method है जिससे कि हम external fragmentation की problem से बाहर आ सकते हैं और जो कि लगातार कोई भी प्रोसेस को देता है । किसी भी प्रोसेस को physical memory बाद में मिलती है जब कि logic address space से लगातार काम करता रहता है । इन सभी को करने का एक method paging है ( इस paging memory में प्रोसेस को कोई भी Shape देने में और उन्हें किसी भी छोटे - छोटे टुकड़े में बदलने में काम करता ताकि मैमोरी खराब न हो । जब भी कोई कोड fragment होता है या जो डाटा मैमोरी में है वह बाहर जाता है तो बैंकिंग स्टोर पर जगह बन जाती है । इससे समय ज्यादा लगता है इसलिये देखा जाये तो compaction नहीं हो सकता । इन्हीं सब कारणों से paging को लाया गया है और paging कई ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा स्वीकार की जाती है ।

Method of paging in os in hindi:-

1. Basic pagging method
2. Multi level pagging method

1. Basic pagging method:-

physical memory बराबर के ब्लॉक में divided हो जाती है जिन्हें हम फ्रेम ( Frame ) कहते हैं और logical memory भी इसी तरह ब्लॉक में बदल जाती है जिसे हम पेज ( Page ) कहते हैं । जब कोई भी process action के लिये जाता है तो उस पेज को किसी भी जगह memory frame में डाल दिया जाता है । बैकिंग स्टोर को भी इसी तरह divided कर दिया जाता है जैसे कि memory frame को जो हार्डवेयर है वह भी इस sport करता है । जो भी एड्रैस सी.पी.यू. द्वारा बनता है । वह दो भागों में divided हो जाता है पहला पेज नं .0 और दूसरा पेज offset । जो पेज नं . है वह पेज टेबल के काम आता है । जिसमें सब लिखा होता है कि किस पेज के बाद कौन सा आयेगा जैसे 0,1,2,3 , पेज टेबल बेस एड्रैस रखती है जो कि physical memory में होता है । 
यह बेस एड्रैस , page offset के साथ मिलकर physical address को display जोकि मैमोरी यूनिट में send कर जाता है । पेज का आकार हार्डवेयर को बताता है जो एक पेज होता है वह 512 बाइट से लेकर 8192 बाइट के बीच के होता है तथा पेज की पावर कितनी हैं , जैसे कि हम कह कहते हैं कि साइज एक की पावर ( x2 ) इस पर भी निर्भर करता हैं । यह सब कुछ कम्प्यूटर के होने पर निर्भर करता हैं । logical address पेज साइज की पावर को पेज संख्या में बदल देता है और page offset आसान हो जाता है । अगर logical address space का आकार 20 " और जो पेज है।
वह 2 " है ( बाइट और शब्द में जो एड्रैसिंग यूनिट को display है ) तब बड़ा m bit logical address की पेज संख्या को display है और n जो छोटा ऑर्डर बिट है वह page offset को display है । तो जो logical address है।

2. Multi level pagging method:-

आजकल के सिस्टम बहुत बड़ी logical address को रखते हैं ( 2 ( 32 ) से 2 ( 64 ) तक ) । इन सबमें पेज टेबल बहुत बड़ी होती है । एक सिस्टम 32 बिट का logical address रखता है । अगर उसमें पेज का आकार 4K का है तो वह 212 हो जायेगा तो जो पेज है वह एक million entry रखेगा ( 2 ( 32 ) / 2 ( 11 ) क्योंकि हर entry 4 बाइट लेगी और हर प्रोसेस को physical address space लेने में 4 megawatt तक की आवश्यकता होगी । यह तो साफ है कि हम पेज टेबल को लगातार मैमोरी में नहीं दे सकते इससे तो यह बढ़िया है कि हम पेज टेबल को छोटे - छोटे टुकडो में कर ले ताकि यह काम भी आ जायेंगे । यह तरीका यह है कि इसे दो लेवल पेजिंग में डाल दे जिसमें पेज टेबल खुद paged हो जायेगा । अपने 32 बिट मशीन से जिसमें 4 बाइट के पेज हैं । जो logical address है वह बँट जाता है कई सारे pages में जो 20 बिट लेते हैं और जो worship offset है वो 12 बिट लेता है फिर जो पेज संख्या है वह 10 बिट पेज में और 10 बिट पेज offset में बँट जाती है तो जो logical address है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

What is Message Authentication Codes in hindi (MAC)

What is  Message Authentication Codes in hindi (MAC) :- Message Authentication Codes (MAC) , cryptography के सबसे attractive और complex areas में से एक message authentication और digital signature का area है। सभी क्रिप्टोग्राफ़िक फ़ंक्शंस और प्रोटॉल्स को समाप्त करना असंभव होगा, जिन्हें message authentication और digital signature के लिए executed किया गया है।  यह message authentication और digital signature के लिए आवश्यकताओं और काउंटर किए जाने वाले attacks के प्रकारों के introduction के साथ होता है। message authentication के लिए fundamental approach से संबंधित है जिसे Message Authentication Code (MAC)  के रूप में जाना जाता है।  इसके दो categories में MACs की होती है: क्रिप्टोग्राफिक हैश फ़ंक्शन से बनाई और ऑपरेशन के ब्लॉक सिफर मोड का उपयोग करके बनाए गए। इसके बाद, हम एक relatively recent के approach को देखते हैं जिसे Authenticated encryption के रूप में जाना जाता है। हम क्रिप्टोग्राफ़िक हैश फ़ंक्शंस और pseudo random number generation के लिए MCA के उपयोग को देखते हैं। message authentication ए