सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Cryptanalysis in hindi

Cryptanalysis in hindi :-

आमतौर पर, एक एन्क्रिप्शन सिस्टम पर attack करने का purpose केवल एक Ciphertext के plaintext को recovere करने के बजाय उपयोग में आने वाली key को recovere करना है। traditional encryption scheme पर attack करने के लिए दो type हैं।
Cryptanalytic attack algorithm की nature पर निर्भर करते हैं और शायद plaintext की सामान्य characteristics के बारे में कुछ यहां तक ​​​​कि कुछ सैंपल Plaintext-Ciphertext जोड़े। इस प्रकार का attack एक specific plaintext को निकालने या उपयोग की जा रही key को यह निकालने के लिए एल्गोरिथम की characteristics का exploitation करता है।
cryptoanalist को known information की amount के आधार पर विभिन्न प्रकार के cryptoanalytic attacks। सबसे hard problem पहले से भेजी जाती है जब जो कुछ उपलब्ध है वह केवल Ciphertext है।  कुछ cases में, एन्क्रिप्शन एल्गोरिथम भी ज्ञात नहीं है, लेकिन सामान्य तौर पर, हम यह मान सकते हैं कि rival encryption के लिए उपयोग किए जाने वाले एल्गोरिथम को जानता है।  इन circumstances में एक potential attack सभी potential key को आजमाने का brute force approach है।  यदि key स्थान बहुत बड़ा है, तो यह impractical हो जाता है।  इस प्रकार, rival को स्वयं Ciphertext के analysis पर भरोसा करना चाहिए, आम तौर पर इसमें Various statistical tests applied होते हैं।  इस approach का उपयोग करने के लिए, rival को plain text के प्रकार के बारे में कुछ सामान्य विचार होना चाहिए, जैसे कि अंग्रेजी या फ्रेंच पाठ, एक EXE फ़ाइल, एक Java source list, एक accounting file, और इसी तरह।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है