सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Feistel Cipher

Feistel Cipher:-

Feistel ने [FEIS73] कि हम product cipher की concept का उपयोग करके ideal block cipher का estimate लगा सकते हैं, जो क्रम में दो या दो से अधिक simple cipher का execution है अंतिम परिणाम या product क्रिप्टोग्राफिक रूप से मजबूत हो किसी भी component सिफर की तुलना में। एक ब्लॉक सिफर को k बिट्स की एक लंबाई और बिट्स की एक ब्लॉक लंबाई के साथ विकसित करना है, जो 2n के बजाय कुल 2k संभावित changes की permission देता है! ideal block cipher के साथ conversion है।
Feistel ने एक सिफर के उपयोग किया जो Substitution और permutation को alternative करता है:-

Substitution:-

प्रत्येक plaintext element या elements के समूह को विशिष्ट रूप से सिफरटेक्स्ट element या elements के समूह द्वारा Substitution किया जाता है।

Permutation:-

plaintext elements के sequence को उस order के permutation द्वारा substitution किया जाता है। sequence में कोई element जोड़ा या हटाया या substitution नहीं किया जाता है, बल्कि order में element दिखाई देने का order बदल जाता है।
Feistel claude shannon द्वारा एक product cipher developed करने का एक practical application है जो Confusion और dissemination functions को करता है [SHAN49]। 

Feistel नेटवर्क की accurate receipt parameters और डिज़ाइन पर निर्भर करती है:-

Block size:-

बड़े ब्लॉक आकार का अर्थ है अधिक सुरक्षा (अन्य सभी चीजें समान हैं) लेकिन किसी दिए गए एल्गोरिथम के लिए एन्क्रिप्शन/डिक्रिप्शन गति को कम करना।  अधिक Spreading द्वारा अधिक सुरक्षा प्राप्त की जाती है। 64 बिट्स के एक ब्लॉक आकार को एक fair tradeoff माना गया है और ब्लॉक सिफर डिज़ाइन में लगभग universal था।  नया AES 128-बिट ब्लॉक आकार का उपयोग करता है।

Key size:-

बड़े key आकार का अर्थ है अधिक सुरक्षा लेकिन एन्क्रिप्शन/डिक्रिप्शन गति को कम कर सकता है। brute force के attack के अधिक resistance और अधिक confusion से अधिक से अधिक सुरक्षा प्राप्त की जाती है। 64 बिट या उससे कम के key आकार और 128 बिट एक सामान्य आकार बन गए हैं।

Number of rounds:-

Feistel सिफर एक round insufficient security प्रदान करता है लेकिन कई राउंड बढ़ती सुरक्षा प्रदान करते हैं। एक आकार 16 राउंड है।

Subkey generation algorithm:-

इस एल्गोरिथम में अधिक complexity से क्रिप्टोएनालिसिस की अधिक कठिनाई हो सकती है।

Round function F:-

 अधिक से अधिक complexity का अर्थ आमतौर पर क्रिप्टैनालिसिस के लिए अधिक resistance होता है।

two other considerations design Feistel cipher:-

1. Fast software encryption/decryption:-

एन्क्रिप्शन को applications या utility functions में इस तरह से एम्बेड किया जाता है जैसे कि हार्डवेयर implementation को रोकना। एल्गोरिथम के execution की गति बन जाती है।

2. Ease of analysis:-

यद्यपि हम अपने एल्गोरिथम को cryptanalyze के लिए जितना हो उतना कठिन बनाना चाहते हैं, एल्गोरिथम को analysis करने में आसान बनाने में बहुत लाभ है। एल्गोरिथ्म को सही से समझाया जा सकता है, तो क्रिप्टोएनालिटिक कमजोरियों के लिए उस एल्गोरिथ्म का analysis करना आसान है और इसलिए इसकी power के रूप में उच्च स्तर का assurance developed करना है। 
Example:- DES में आसानी से analysis की जाने वाली efficiency नहीं है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag