सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

OSI security architecture in hindi

 OSI security architecture in hindi:-

OSI security architecture किसी organization की security requirements का effectively से assessment करने और evaluation करने और चुनने के लिए विभिन्न security products और policies, security requirements के लिए responsible manager security के लिए आवश्यकताओं को परिभाषित करने और उन्हें mark करने का कुछ व्यवस्थित तरीका उन आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए approach यह एक centralized में काफी मुश्किल है डाटा प्रोसेसिंग atmosphere; local और wide area network के उपयोग के साथ complex problems हैं।

threat:-

 Security के breach (उल्लंघन) की possibility, जो तब मौजूद होती है जब कोई circumstance, ability, action या event जो security breach कर सकती है और नुकसान पहुंचा सकती है। यानी एक खतरा potential danger है जो कि vulnerability का फायदा उठा सकते हैं।

 Attack:-

 system security पर attack जो एक intelligent danger से generate होता है; वह एक intelligent act है जो कि security services से बचने के लिए जानबूझकर प्रयास (विशेषकर एक तकनीक के अर्थ में) और
 एक system की security policy का उल्लंघन।

ITU-T3 recommendation X.800, OSI के लिए Security architecture define करता है:
 systematic approach OSI security architecture managers के लिए एक तरह से उपयोगी है security provide करने के कार्य को व्यवस्थित करने के लिए। क्योंकि यह architecture
 an international standard, कंप्यूटर और communication vendors के रूप में विकसित किया गया था अपने products और services के लिए security features का development किया है जो इससे related हैं।
हमारे objectives के लिए, OSI Security structure provide करती है इस blog से releted कई concepts का Observation:-
 Texture Security Attacks, Mechanisms और services पर केंद्रित है। इन्हें परिभाषित किया जा सकता है

 security attack:-

 कोई भी action जो सूचना की सुरक्षा से समझौता करती है
 एक  organization के possession में है।

 Security mechanism:-

एक प्रक्रिया (या ऐसी प्रक्रिया को शामिल करने वाला उपकरण) जो किसी सुरक्षा हमले का पता लगाने, उसे रोकने या उससे उबरने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

 security Service:- 

एक processing या communication service को बढ़ाती है डेटा प्रोसेसिंग सिस्टम की security और किसी के information transfer organization service का objective security attacks का मुकाबला करना है, और वे service delivery करने के लिए एक या अधिक security systems का उपयोग करें।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag