सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Substitution techniques in Cryptography in hindi

Substitution techniques in Cryptography in hindi:-

Substitution techniques इस section और next में, हम एक samples की inspection करते हैं, जिसे classical encryption techniques कहा जा सकता है। हमें आज उपयोग किए जाने वाले symmetric encryption के लिए basic approaches और cryptanalytic attacks के प्रकारों को clear करने में capable बनाता है जिन्हें anticipate किया जाना चाहिए।

सभी एन्क्रिप्शन तकनीकों के दो basic building block replacement और transfer हैं। हम अगले दो segments में इनकी inspection (जांच ) करते हैं। हम एक ऐसे system पर करते हैं जो replacement और transfer दोनों को जोड़ती है।

एक replacement technology वह है जिसमें प्लेनटेक्स्ट के अक्षरों को अन्य अक्षरों या संख्याओं या प्रतीकों द्वारा replacement किया जाता है। यदि प्लेनटेक्स्ट को बिट्स के sequence के रूप में देखा जाता है, तो replacement में प्लेनटेक्स्ट बिट पैटर्न को सिफरटेक्स्ट बिट पैटर्न के साथ बदलना है।

Substitution techniques in Cryptography


Types of Substitution Techniques:-

1. Caesar Cipher (more info. click her)

2. Monoalphabetic Ciphers (more info. click her)

3. Playfair Cipher (more info. click her)

4. Hill Cipher

5. Polyalphabetic Ciphers

6. One-Time Pad


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है