सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

software requirement in hindi

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS(रिकवरी)

 के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं-

Recovery in hindi( रिकवरी) :-

यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है । 

recovery technique(रिकवरी तकनीक):-

यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे । 
डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए
Types of recovery ( रिकवरी के प्रकार ):-
1. Log Based Recovery
2. Shadow paging 
Restore

1. Log based Recovery: -

इस प्रकार की रिकवरी रिकॉर्डस के Login पर आधारित होती है । इन रिकॉर्ड्स को Log रिकॉर्ड भी कहा जाता है जब भी कोई transaction प्रारम्भ होता है तो प्रारम्भिक Log को record कर लिया जाता है । इसके अन्तर्गत Start flag a trans action identifier होता है । data Base में जब कोई भी data संग्रहित करने या उसे अपडेट करने का कार्य किया जाता है तो log record निम्नलिखित को संग्रहित करता है 
1. Transaction की पहचान संख्या 
2. वह डेटा जिस पर कार्य किया जा रहा है 
3. उस data की पुरानी Value 
4. उस डेटा की नई Value 
5. log record का प्रकार
एक ही data Base के एक log record के पास अन्य log record क पॉइंटर होता है जो कि अलग - अलग log रिकॉर्ड को पाइंट करता है । जब भी Commil या rollBack दिया जाता है तो Records स्थायी रूप से संग्रहित हो जाते हैं । log Record एक फाईल में संग्रहित होते हैं जिसे log file कहा जाता है । इन log फाईलों में वर्तमान Backup रखा जाता है । यह कार्य Data Base के द्वारा स्वतः किया जाता है । इस प्रकार का बैकअप प्रयोगकर्ता को लेने की आवश्यकता नहीं होती है ।
Data Base को पूर्णत : Restore करने के लिये DBA पहले समस्त offline Backup को Restore करता है तथा उसके बाद समस्त ऑनलाईन Backup को Restore करता है , इससे log फाईलें अपनी पूर्व की स्थिति में आ जाती हैं । Data Base log file व data को संग्रहित करता है । log फाईलों में Transcation ( ट्रांजेक्शन ) के विवरण का बैकअप रखा जाता है तथा data फाईलों में उससे संबंधित वास्तविक data को रखा जाता है । इसके अन्तर्गत मुख्यतः दो विधियाँ अपनायी जाती है 
 ( i ) Deferred update 
( ii ) Immediate update

2. Shadow paging:-

तार्किक रूप से data Base एक निश्चित size के Block में बंटा होता है जिन्हें pages कहा जाता है । Database तार्किक रूप में विभाजन होता है इनका साईज Data Base पर आधारित होता है । एक data Base में कई pages हो सकते हैं जिनकी क्रम संख्या एक से प्रारम्भ होती है । data page किसी विशिष्ट क्रम में संग्रहित नहीं होते हैं । इन्हें ढूँढने के लिये page table का use किया जाता है । एक ट्रांजेक्शन की प्रक्रिया के द्वारा दो प्रकार के pages को बनाया जाता है । 
( 1 ) Current 
( 2 ) Shadow
जब एक ट्रांजेक्शन प्रारम्भ होता है तो दोनों Pages की Table Identical हो जाती हैं ट्रांजेक्शन के दौरान shadow page में कोई बदलाव नहीं आता है । कोई data संग्रहित करने वाले operation से current page में बदलाव लाये जा सकते हैं । data page को ढूँढने के लिये समस्त ट्रांजेक्शन Current Page Table का Use करते हैं । Shadow Page स्थायी माध्यम में संग्रहित किया जाता है । स्थायी माध्यम से अभिप्राय स्थायी Memory से है । इससे यह फायदा है कि यदि किसी ट्रांजेक्शन के दौरान सिस्टम फेल हो जाये तो data Base को रिकवर किया जा सके । Current पेज अस्थायी मैमोरी में संग्रहित किया जाता है यदि सिस्टम फेल हो जाये तो ऐसी स्थिति में वह data स्वत : ही delete हो जाएगा तथा undo की आवश्यकता नहीं पड़ेगी ।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ

foxpro data type in hindi । फॉक्सप्रो

 आज हम computers in hindi मे फॉक्सप्रो क्या है?  Foxpro data type in hindi  कार्य के बारे मे जानेगे? How many data types are available in foxpro?    में  तो चलिए शुरु करते हैं-    How many data types are available in foxpro? ( फॉक्सप्रो में कितने डेटा प्रकार उपलब्ध हैं?):- FoxPro में बनाई गई डेटाबेस फाईल का एक्सटेन्शन नाम .dbf होता है । foxpro data type in hindi (फॉक्सप्रो डेटा प्रकार) :- Character data type Numeric data type Float data type Date data type Logical data type Memo data type General data type 1. Character data type :- Character data type  की फील्ड में अधिकतम 254 Character store किये जा सकते हैं । इस टाईप की फील्ड में अक्षर जैसे ( A , B , C , .......Z ) ( a , b , c , ...........z ) तथा इसके साथ ही न्यूमेरिक अंक ( 0-9 ) व Special Character ( + , - , / . x , ? , = ; etc ) आदि भी Store करवाए जा सकते हैं । इस प्रकार की फील्ड का प्रयोग नाम , पता , फोन नम्बर , शहर का नाम , पिता का नाम , माता का नाम आदि संग्रहित करने के लिए किया जाता है । 2. Numeric data type :- Numeric da

Management information system (MIS in hindi)

What is Management Information Systems (MIS) in hindi ? Introduction to management information system (MIS in hindi):-  बिजनेस प्रॉब्लम का समाधान प्राप्त करने के लिए युजर, तकनीक और प्रॉसीजर (procedure) एक साथ मिलकर  कार्य करते हैं। यूूूूजर तकनीक और प्रॉसीजर के सकलन को Information system  कहते हैं।   management information system definition :- जब इनफॉर्मेशन सिस्टम में निहित सभी भाग एक अनुशासन (Discipline) विधि से किसी बिजनेस प्रॉब्लम को हल करते हैं तो इस प्रक्रिया को Management information system ( MIS in hindi ) कहते हैं।   MIS कोई नवीन व्यवस्था नहीं है, कंप्यूटर के आगमन से पूर्व व्यवसाय की गतिविधियों का योजना निर्धारण और नियन्त्रण करने का कार्य इसी प्रकार की MIS विधि से ही सम्पन्न किया जाता था।  कंप्यूटर ने इस MIS व्यवस्था में नवीन आयामों  जैसे, गति (speed), शुद्धता (accuracy) और वृहद मात्रा में डेटा समापन को भी सम्मिलित कर दिया गया है। management, Information और system    को कंप्यूटर की सहायता से मिश्रित व्यावसायिक गतिविधियों को सम्पन्न किया जाता है।  किसी ऑर्गेनाइजेशन की ऑ