सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Cryptanalysis in hindi

Cryptanalysis in hindi:-

एन्क्रिप्शन एल्गोरिदम के साथ, हैश फ़ंक्शन पर cryptoanalytic attacks exhaustive search के अलावा कुछ attack करने के लिए एल्गोरिदम की कुछ property का exploitation करना चाहते हैं।  crypt analysis के लिए हैश एल्गोरिथम के resistance को मापने का तरीका यह है कि इसकी ताकत की तुलना ब्रूट-फोर्स अटैक के लिए आवश्यक प्रयास से की जाए। एक ideal hash algorithm के लिए क्रिप्टैनालिटिक प्रयास से अधिक या उसके बराबर की आवश्यकता होगी। 

 हैश फ़ंक्शंस पर cryptoanalytic attacks के development में considerable effort और कुछ successes मिली हैं। एक iterative hash function के रूप में, मर्कले [MERK79, MERK89] द्वारा propose की गई थी और आज उपयोग में आने वाले  hash functions की structure है, जिसमें SHA भी शामिल है, हैश फ़ंक्शन एक इनपुट संदेश लेता है और इसे प्रत्येक बिट्स के निश्चित आकार के ब्लॉक में divide करता है। यदि आवश्यक हो, तो अंतिम ब्लॉक को बिट्स में padde किया जाता है। अंतिम ब्लॉक में हैश फ़ंक्शन में इनपुट की कुल लंबाई का मान भी शामिल होता है। लेंथ को शामिल करने से rival  का काम और मुश्किल हो जाता है। या तो rival को समान लंबाई के दो message खोजने होंगे जो समान मान के हैश हों या अलग-अलग लंबाई के दो message, जो उनके length values के साथ समान मान के हैश हों।

हैश एल्गोरिथम में एक compression function का बार-बार उपयोग शामिल है, f, जो दो इनपुट लेता है (पिछले चरण से एक n-बिट इनपुट, जिसे चेनिंग वैरिएबल कहा जाता है, और b-बिट ब्लॉक) और एक n-बिट आउटपुट का उत्पादन करता है। चेनिंग वैरिएबल का एक प्रारंभिक मान होता है जिसे एल्गोरिथम के भाग के रूप में specified किया जाता है। चेनिंग वेरिएबल का अंतिम मान हैश मान है। अक्सर, b>n ; इसलिए शब्द compression। 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना