सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Nature of DES Algorithm in hindi & Timing Attacks

Nature of DES Algorithm in hindi:-

 DES Algorithm की characteristics करके cryptanalysis possible है। आठ substitution tables या S-boxes पर रहा है, जिनका उपयोग प्रत्येक repetition में किया जाता है। क्योंकि इन boxes के लिए design criteria, और संपूर्ण एल्गोरिथम के लिए, public नहीं किए गए थे, है कि boxes का निर्माण इस तरह से किया गया था कि एक rival के लिए cryptanalysis possible है जो S-boxes में कमजोरियों को जानता है। boxes यह claim technical है, और पिछले कुछ वर्षों में S-boxes की कई regularities और unexpected behaviors की गई है। अभी तक कोई भी  S-boxes में कथित perceived fatal vulnerabilities का पता लगाने में सफल नहीं हुआ है।

Timing Attacks in hindi:-

हम समय के attacks के बारे में भाग दो में करते हैं, क्योंकि वे public-key algorithm से संबंधित हैं। हालांकि, यह issue symmetric cipher के लिए भी relevant हो सकता है। एक टाइमिंग अटैक वह है जिसमें key या  प्लेनटेक्स्ट के बारे में जानकारी यह देखकर प्राप्त की जाती है कि विभिन्न सिफरटेक्स्ट पर डिक्रिप्शन करने के लिए दिए गए implementation में कितना समय लगता है। एक टाइमिंग अटैक इस का फायदा उठाता है कि एक एन्क्रिप्शन या डिक्रिप्शन एल्गोरिथम अक्सर अलग-अलग इनपुट पर थोड़ा अलग समय लेता है। [HEVI99] एक approach पर रिपोर्ट करता है जो Pre-Shared Key के हैमिंग वजन (एक के बराबर बिट्स की संख्या) उत्पन्न करता है। यह वास्तविक key का एक लंबा रास्ता है, लेकिन यह एक पहला है। लेखकों का निष्कर्ष है कि DES एक सफल समय के attack के लिए काफी seem resistant होता है, लेकिन कुछ रास्ते तलाशने का सुझाव देता है। अब तक यह impossible होता है कि यह तकनीक कभी भी डेस या अधिक शक्तिशाली symmetric cipher जैसे ट्रिपल DES और AES सफल होगी।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना