सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Other Public Key Cryptosystems in hindi

Other Public Key Cryptosystems in hindi:-

यह सबसे शुरुआती और सरल PKCS में से एक के विवरण के साथ शुरू होता है: डिफी-हेलमैन कुंजी एक्सचेंज। फिर एक अन्य critical plan, ElGamal PKCS को देखता है। इसके बाद, हम तेजी से महत्वपूर्ण PKCS को देखते हैं जिसे Elliptic Curve Cryptography के रूप में जाना जाता है। अंत में, pseudo random number generation के लिए public key algorithm के उपयोग की जांच की जाती है।

Key points:-

• एक साधारण public key algorithm Diffie-Hellman key exchange है।  यह प्रोटोकॉल दो उपयोगकर्ताओं को discrete logarithm के आधार पर एक public key scheme का उपयोग करके एक Pre-Shared Key स्थापित करने में सक्षम बनाता है।  प्रोटोकॉल तभी सुरक्षित होता है जब दो participants की authenticity स्थापित की जा सके।
• Elliptic Curve Arithmetic का उपयोग विभिन्न प्रकार के Elliptic Curve Cryptography (ECC) Schemes को विकसित करने के लिए किया जा सकता है, जिसमें प्रमुख एक्सचेंज, एन्क्रिप्शन और डिजिटल हस्ताक्षर शामिल हैं।
• ECC के purposes के लिए, Elliptic Curve Arithmetic में एक finite field पर परिभाषित elliptic curve equation का उपयोग शामिल है। समीकरण में coefficient और variable एक finite field के element हैं। Zp और GF(2m) का उपयोग करने वाली schemes विकसित की गई हैं।

Other Public Key Cryptosystems:-

• Diffie-Hellman Key Exchange
• Elgamal Cryptographic System
• Elliptic Curve Arithmetic
• Elliptic Curve Cryptography
• Pseudorandom Number Generation Based on an Asymmetric Cipher

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag