सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Public Key Cryptosystems in hindi

Public Key Cryptosystems in hindi:-

asymmetric algorithm encryption के लिए एक keys और डिक्रिप्शन के लिए एक अलग लेकिन संबंधित key पर भरोसा करते हैं।

Properties of Public Key Cryptosystems:-

• केवल क्रिप्टोग्राफ़िक एल्गोरिथम और एन्क्रिप्शन key के Knowledge को देखते हुए decryption key का निर्धारण करना कम्प्यूटेशनल रूप से संभव नहीं है।
 कुछ एल्गोरिदम, जैसे RSA,भी विशेषता करते हैं।
• एन्क्रिप्शन के लिए दो संबंधित keys में से किसी एक का उपयोग किया जा सकता है, अन्य का उपयोग डिक्रिप्शन के लिए किया जा सकता है।

एक public-key encryption scheme में 5 Componet हैं-

Plaintext:-

यह readable message या डेटा है जिसे इनपुट के रूप में एल्गोरिथम में फीड किया जाता है।

Encryption algorithm:-

एन्क्रिप्शन एल्गोरिथम प्लेनटेक्स्ट पर विभिन्न transformations करता है।

Public and private keys:-

यह keys की एक जोड़ी है जिसे चुना गया है ताकि यदि एक एन्क्रिप्शन के लिए उपयोग किया जाता है, तो दूसरा डिक्रिप्शन के लिए उपयोग किया जाता है। एल्गोरिदम द्वारा execute exact conversion public या private key पर निर्भर करता है जो इनपुट के रूप में प्रदान की जाती है। 

Ciphertext:-

यह आउटपुट के रूप में built-in scramble messages है। यह plain text और key पर निर्भर करता है। किसी दिए गए messages के लिए, दो अलग-अलग keys दो अलग-अलग सिफरटेक्स्ट उत्पन्न करेंगी।

Decryption algorithm:-

यह एल्गोरिथम सिफरटेक्स्ट और मैचिंग की को स्वीकार करता है और प्लेनटेक्स्ट तैयार करता है।
essential steps :-
1. प्रत्येक user messages के एन्क्रिप्शन और डिक्रिप्शन के लिए उपयोग की जाने वाली keys की एक जोड़ी उत्पन्न करता है। 
2. प्रत्येक user public register में दो keys में से एक रखता है। यह public key है। companion key को निजी रखा जाता है। प्रत्येक user दूसरों से प्राप्त सार्वजनिक key का संग्रह रखता है। 
3. यदि bob alice को एक confidential message भेजना चाहता है, तो बॉब एन्क्रिप्ट करता है alice की public keys का उपयोग करते हुए massage। 
4. जब alice message प्राप्त करती है, तो वह अपनी private key का उपयोग करके इसे डिक्रिप्ट करती है। कोई अन्य प्राप्तकर्ता संदेश को डिक्रिप्ट नहीं कर सकता क्योंकि केवल alice ही alice की private key जानता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag