सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

what is M commerce in hindi - M commerce क्या हैं?

 what is M commerce in hindi:-

मोबाइल कॉमर्स या M-Commerce Wireless personal digital assistants (PDAs) और network technology का मिश्रण है। यह Kevin Duffy द्वारा 1997 में वायरलेस तकनीक के माध्यम से कहीं भी किसी भी समय electronic commerce capabilities को सीधे user के हाथ में देने के विचार के साथ बनाया गया था। मुख्य रूप से बैंकिंग और खरीदारी में इस विचार का उपयोग करने की उम्मीद थी। आजकल कई मोबाइल उपयोगकर्ता अपने फोन के माध्यम से खरीदारी करते हैं। 

Introduction of M-Commerce in hindi:-

मोबाइल कॉमर्स को सामान्य रूप से मोबाइल फोन, स्मार्टफोन, टैबलेट पर्सनल डिजिटल असिस्टेंट (PDA), स्मार्ट वियरेबल आदि जैसे wireless mobile devices का उपयोग करके products या services की खरीद और बिक्री के रूप में समझा जा सकता है। M-commerce के पीछे की तकनीक वायरलेस एप्लिकेशन प्रोटोकॉल  (WAP) पर आधारित है और बहुत जल्द ऑनलाइन लेनदेन के विकल्प के रूप में ई-कॉमर्स को पार करने की उम्मीद है।
2016 तक M-commerce उद्योग का मूल्य लगभग 230 बिलियन अमरीकी डालर होने का अनुमान है और दुनिया भर में 2017 के अंत तक इसके 700 बिलियन अमरीकी डालर तक बढ़ने की उम्मीद है।
भारत और अन्य एशियाई देश मिलकर इस अर्थव्यवस्था में लगभग 50% का योगदान करते हैं, और अभी भी आबादी के एक बड़े हिस्से को कवर किया जाना बाकी है, इस part का developing countries में real promise है।
भारत में लगभग 46 करोड़ लोग इंटरनेट से जुड़े हैं (दिसंबर 2016) और 2020 के अंत तक इसके बढ़कर 75 करोड़ होने की उम्मीद है और भारत की क्षमता ने वास्तव में सैमसंग, मोटोरोला जैसी प्रमुख स्मार्टफोन कंपनियों का ध्यान आकर्षित किया है। माइक्रोमैक्स और कई अन्य भारतीयों को अपने business के प्रमुख बिंदु के रूप में रखते हुए स्मार्टफोन बनाने के लिए।
Competition Only Mobile Device Providers के बीच नहीं है, बल्कि customer acquisition के लिए Internet Service Provider (ISP) के बीच भी प्रतियोगिता मौजूद है। Example: Reliance JioInfocomm Limited (RJIL) और Reliance Jio SIM द्वारा established Lyf स्मार्टफोन्स का है, जिन्होंने मुफ्त कॉलिंग, मुफ्त डेटा की पेशकश की और सफलतापूर्वक 50 मिलियन से अधिक ग्राहकों का acquisition किया। यह रिलायंस समूह द्वारा support है और इसने इस क्षेत्र में धन का निवेश किया है, जो कि किसी भी कंपनी ने वैश्विक स्तर पर निवेश नहीं किया है, जिससे लोगों को सबसे सस्ती कीमत पर डेटा तक पहुंच प्रदान की जा सके।
संभावित mobile commerce market का फायदा उठाने के लिए, Nokia, Ericsson, Motorola, और Qualcomm जैसे मोबाइल फोन निर्माता WAP-सक्षम स्मार्टफ़ोन विकसित करने के लिए AT&T वायरलेस और स्प्रिंट जैसे carriers के साथ काम कर रहे हैं। smartphone basic phone capabilities जैसे कॉलिंग आदि के अलावा फैक्स, ई-मेल और फोन क्षमताओं की पेशकश करते हैं।
IPhone के लॉन्च के बाद से, मोबाइल Commerce SMS System और real applications से दूर हो गया है। SMS में critical security vulnerabilities और भीड़-भाड़ की समस्याएं हैं, हालांकि यह व्यापक रूप से उपलब्ध और सुलभ है। modern mobile devices की capabilities में सुधार से मोबाइल डिवाइस पर resources का अधिक burden डालना हो जाता है।

financial Services:-

 मोबाइल बैंकिंग, मोबाइल ब्रोकरेज, और मनी ट्रांसफर इत्यादि।

 Information Services:-

 समाचार अपडेट, मैच स्कोर, ट्रैफिक अपडेट, मौसम पूर्वानुमान आदि। 

Services:-

 टैक्सी किराए पर लेना, टिकट बुक करना, होटल आदि। 

retail:-

ऑनलाइन उत्पाद खरीदना, ऑनलाइन खाना ऑर्डर करना आदि।

History of M - Commerce in hindi:-

मोबाइल कॉमर्स शब्द पहली बार Kevin Duffy द्वारा 10 नवंबर 1997 को ग्लोबल मोबाइल कॉमर्स फोरम के लॉन्च पर दिया गया था, जहां उन्हें Executive Chairman के रूप में चुना गया था, जिसके द्वारा उनका मतलब था "इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स capabilities की डिलीवरी सीधे उपभोक्ता के हाथ में, कहीं भी वायरलेस तकनीक के माध्यम से।"
mobile commerce services पहली बार 1997 में delivered की गईं, जब फिनलैंड में Helsinki area में पहली दो मोबाइल-फोन सक्षम कोका कोला वेंडिंग मशीनें स्थापित की गईं। मशीनों ने sms text messages के माध्यम से payment accept किया। यह काम कई नए मोबाइल एप्लिकेशन के रूप में विकसित हुआ जैसे कि पहली मोबाइल phone-based banking service 1997 में फिनलैंड के मेरिटा बैंक द्वारा शुरू की गई थी, जो SMS का उपयोग कर रही थी। Finnair Mobile Check-in भी एक प्रमुख मील का पत्थर था, जिसे पहली बार 2001 में पेश किया गया था। एम-कॉमर्स सर्वर को 1997 के अंत में लॉजिका में केविन डफी और एंड्रयू टोबिन द्वारा developed किया गया था, जिसने 1998 में "सबसे नवीन मोबाइल उत्पाद" के लिए फाइनेंशियल टाइम्स का पुरस्कार जीता था। De La Rue, मोटोरोला और लॉजिका के साथ। फाइनेंशियल टाइम्स ने "मोबाइल कॉमर्स को reality में बदलने" के समाधान की सराहना की। एम-कॉमर्स के लिए ट्रेडमार्क 7 अप्रैल 2008 को दायर किया गया था।
1998 में, मोबाइल फोन पर डाउनलोड के रूप में डिजिटल सामग्री की पहली बिक्री संभव हो गई थी, जब रेडिओलिंजा द्वारा फिनलैंड में पहली commercial download करने योग्य रिंगटोन लॉन्च की गई थी। 2000 की शुरुआत में मोबाइल-कॉमर्स से संबंधित सेवाओं का तेजी से प्रसार हुआ। ऑस्ट्रिया मोबाइल डिवाइस के माध्यम से ट्रेन टिकटिंग की पेशकश शुरू की। जापान ने एयरलाइन टिकटों की मोबाइल खरीद की भी पेशकश की।
अप्रैल 2002 में, Global Mobile Commerce Forum (GMCF) के काम पर निर्माण करते हुए, European Telecommunications Standards Institute (ETSI) ने मोबाइल कॉमर्स के लिए develop official standards करने के लिए मोटोरोला के जोआचिम हॉफमैन को नियुक्त किया। PDA और सेलुलर फोन इतने लोकप्रिय हो गए हैं कि कई business (फ्लिपकार्ट, ओला, ओएलएक्स और बैंक) अपने ग्राहकों के साथ संवाद करने के लिए एक अधिक कुशल तरीके के रूप में मोबाइल कॉमर्स का उपयोग करना शुरू कर रहे हैं।

Advantages and Disadvantages of M - Commerce:-

Advantages of Mobile Commerce :-

यह M-Commerce बड़े पैमाने और छोटे पैमाने दोनों प्रकार के business के लिए फायदेमंद है। मोबाइल उपयोगकर्ता दिन-ब-दिन बढ़ते जा रहे हैं, इसलिए mCommerce के माध्यम से, व्यापार को वस्तुओं और सेवाओं की wide range के लिए बड़ा और बढ़ता बाजार स्थान मिलता है।
1. Cover Widedistance:- मोबाइल एक ऐसी तकनीक है जो अब किसी भी व्यक्ति के social और commercial जीवन का लगभग integral part बन गया है, traditional computers की तुलना में बहुत अधिक सामान्य है। इसलिए, M-Commerce के माध्यम से उपयोगकर्ताओं तक पहुंचना आसान है।
2. Consumer Deals:- जैसे-जैसे अधिक उपयोगकर्ता M-Commerce का उपयोग करते हैं, बहुत सारी कंपनियां अपने competitors की तुलना में customers को अलग और बेहतर सौदों के साथ लुभाकर उन तक पहुंचने के लिए M-Commerce प्लेटफॉर्म का उपयोग करती हैं।
3. Saving:- Companies M-Commerce के माध्यम से सीधे consumer तक अपनी पहुंच बढ़ा रही हैं, इसलिए यूजर्स को physical form से स्टोर पर नहीं जाना पड़ता है और अंत में यह यूजर के समय और धन की बचत करता है। Amazon, Flipkart आदि जैसी कंपनियाँ इसके उदाहरण हैं।
4. Easy to use:- smart consumer की कोई आवश्यकता नहीं है। खरीदार अपने सेल फोन पर हजारों आइटम देख सकते हैं और ऑनलाइन चेकआउट प्रक्रिया की कोई आवश्यकता नहीं है। अधिकांश कंपनियां अपनी साइट/एप्लिकेशन के अनुभव को आसान और सुखद बनाए रखने के लिए भारी निवेश करती हैं।

Disadvantages of Mobile Commerce:-

1.Smartphone Limitation:- मोबाइल में डेस्कटॉप या लैपटॉप जैसी कोई बड़ी स्क्रीन नहीं होती है, इसलिए कभी-कभी यूजर हजारों में से केवल एक आइटम चुनने के लिए अधिक से अधिक नेविगेट करने का प्रयास करते हैं। यह खरीदारी दरों को प्रभावित करता है।
2. Habituate:- हर नई तकनीक में शुरुआती दौर में कुछ न कुछ समस्या होती है। चूंकि M-Commerce एक नया एप्लिकेशन है, इसलिए कभी-कभी लोग इसे स्वीकार करने में संकोच करते हैं क्योंकि उन्हें ई-कॉमर्स से उत्पाद खरीदने की आदत होती है।
3. Risk Factor:- प्रत्येक business का अपना जोखिम होता है।  वहीं मोबाइल कॉमर्स एक उभरता हुआ क्षेत्र है और इस क्षेत्र में बहुत अधिक निवेश जोखिम भरा हो जाता है।  क्योंकि तकनीक दिन-दिन बदलती रहती है।  इसके अलावा, वायरलेस नेटवर्क में सुरक्षा कम होती है, इसलिए डेटा ट्रांसफर में हैकिंग की संभावना अधिक होती है।
4. Connectivity:- कनेक्टिविटी आम तौर पर सभी क्षेत्रों में उपलब्ध नहीं होती है, और जिन क्षेत्रों में यह उपलब्ध है वहां कनेक्शन की गति एक समस्या बन जाती है। यह अक्सर यूजर के लिए संपूर्ण उत्पाद खरीद process से गुजरना काफी व्यस्त हो जाता है।

Difference between M-Commerce vs. E-Commerce in hindi:-

1. ई-कॉमर्स को इंटरनेट के उपयोग के साथ business activities के प्रदर्शन के रूप में किया गया है।  जब किसी प्रकार का commercial लेन-देन mobile cellular devices के उपयोग से किया जाता है/शुरू किया जाता है, तो इसे m-commerce के रूप में जाना जाता है।
2. ई-कॉमर्स की शुरुआत 1970 के दशक में हुई जबकि m-commerce की शुरुआत 1990 के दशक में हुई।
3. एम-कॉमर्स मूल रूप से ई-कॉमर्स की line पर develop किया गया था। यह कहा जा सकता है कि एम-कॉमर्स ई-कॉमर्स का एक subset है।
4. ई-कॉमर्स गतिविधियाँ कंप्यूटर और लैपटॉप की मदद से होती हैं, जबकि एम-कॉमर्स में स्मार्टफोन, टैबलेट, आईपैड, पीडीए (पर्सनल डिजिटल असिस्टेंट) आदि का उपयोग किया जाता है।
5. ई-कॉमर्स की तुलना में एम-कॉमर्स की कनेक्टिविटी तुलनात्मक रूप से बड़ी है।
6. एम-कॉमर्स डिवाइस कहीं भी ले जाने में आसान होते हैं क्योंकि वे हल्के वजन वाले होते हैं जो ई-कॉमर्स के साथ संभव नहीं है।

Services of m-commerce in hindi:- 

Mobile money transfer:-

मोबाइल के जरिए एक दूसरे को पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं। सबसे पहले Kenya में एक multimillion shilling company द्वारा की गई।

Mobile ATM service:-

मोबाइल मनी प्लेटफॉर्म कनेक्ट करना और Bank grade ATM quality प्रदान करना।

Mobile ticketing:-

टिकट मोबाइल फोन पर भेजे जा सकते हैं और टिकट चेक पर अपने मोबाइल फोन को show करके user तुरंत अपने टिकट का उपयोग कर सकते हैं। इस तकनीक का उपयोग vouchers, coupons और loyalty card के लिए भी किया जा सकता है।

Mobile Content purchase and delivery:-

इसमें मोबाइल फोन के लिए रिंग-टोन, वॉलपेपर और गेम्स की बिक्री शामिल है। मोबाइल फोन में full-length music tracks और वीडियो की खरीदारी और डिलीवरी संभव है। 4जी नेटवर्क वाला मोबाइल मोबाइल डिवाइस पर कुछ सेकंड में मूवी खरीदना संभव बनाता है।

Location-based services:-

मोबाइल के माध्यम से कुछ local information जैसे local discount offers, local weather, tracking और लोगों की निगरानी आदि जानना संभव है।

Information services:-

News, sports scores, financial records, traffic reporting आदि जैसी services की एक wide variety mobile में उसी तरह संभव है जैसे यह पीसी को डिलीवर की जाती है।

Mobile Banking or M-banking:-

customers को accounts की जानकारी तक पहुंचने और लेन-देन करने की permission देना, जैसे स्टॉक खरीदना, पैसा भेजना।

Mobile shopping:-

customers अपने personal computer पर बैठे बिना मोबाइल के माध्यम से ऑनलाइन खरीदारी कर सकते हैं।

Mobile Marketing and Advertising:-

कंपनियां मोबाइल के माध्यम से अपने product का advertisement और publicity कर सकती हैं, जिन्हें traditional campaigns की तुलना में बेहतर feedback मिलती है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Recovery technique in dbms । रिकवरी। recovery in hindi

 आज हम Recovery facilities in DBMS (रिकवरी)   के बारे मे जानेगे रिकवरी क्या होता है? और ये रिकवरी कितने प्रकार की होती है? तो चलिए शुरु करतेे हैं- Recovery in hindi( रिकवरी) :- यदि किसी सिस्टम का Data Base क्रैश हो जाये तो उस Data को पुनः उसी रूप में वापस लाने अर्थात् उसे restore करने को ही रिकवरी कहा जाता है ।  recovery technique(रिकवरी तकनीक):- यदि Data Base पुनः पुरानी स्थिति में ना आए तो आखिर में जिस स्थिति में भी आए उसे उसी स्थिति में restore किया जाता है । अतः रिकवरी का प्रयोग Data Base को पुनः पूर्व की स्थिति में लाने के लिये किया जाता है ताकि Data Base की सामान्य कार्यविधि बनी रहे ।  डेटा की रिकवरी करने के लिये यह आवश्यक है कि DBA के द्वारा समूह समय पर नया Data आने पर तुरन्त उसका Backup लेना चाहिए , तथा अपने Backup को समय - समय पर update करते रहना चाहिए । यह बैकअप DBA ( database administrator ) के द्वारा लगातार लिया जाना चाहिए तथा Data Base क्रैश होने पर इसे क्रमानुसार पुनः रिस्टोर कर देना चाहिए Types of recovery (  रिकवरी के प्रकार ):- 1. Log Based Recovery 2. Shadow pag

Query Optimization in hindi - computers in hindi 

 आज  हम  computers  in hindi  मे query optimization in dbms ( क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन) के बारे में जानेगे क्या होता है और क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन (query optimization in dbms) मे query processing in dbms और query optimization in dbms in hindi और  Measures of Query Cost    के बारे मे जानेगे  तो चलिए शुरु करते हैं-  Query Optimization in dbms (क्वैरी ऑप्टीमाइजेशन):- Optimization से मतलब है क्वैरी की cost को न्यूनतम करने से है । किसी क्वैरी की cost कई factors पर निर्भर करती है । query optimization के लिए optimizer का प्रयोग किया जाता है । क्वैरी ऑप्टीमाइज़र को क्वैरी के प्रत्येक operation की cos जानना जरूरी होता है । क्वैरी की cost को ज्ञात करना कठिन है । क्वैरी की cost कई parameters जैसे कि ऑपरेशन के लिए उपलब्ध memory , disk size आदि पर निर्भर करती है । query optimization के अन्दर क्वैरी की cost का मूल्यांकन ( evaluate ) करने का वह प्रभावी तरीका चुना जाता है जिसकी cost सबसे कम हो । अतः query optimization एक ऐसी प्रक्रिया है , जिसमें क्वैरी अर्थात् प्रश्न को हल करने का सबसे उपयुक्त तरीका चुना