सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

Depth Buffer Algorithm

Linux Commands in hindi

 Linux Commands in hindi:-

Basic Linux Commands in hindi:-

Is (list):-

ls कमांड का उपयोग वर्तमान वर्किंग डायरेक्टरी की सामग्री को listed करने के लिए किया जाता है। साथ ही उन छिपी हुई फाइलों को listed करने के लिए जिनका हम उपयोग कर सकते हैं-
ls -a
उपरोक्त कमांड का आउटपुट उन सभी फाइलों को दिखाएगा जिनका नाम डॉट (.) से शुरू होता है। Linux में छिपे हुए फ़ाइल नामों के आगे डॉट्स(.) लगे होते हैं।

mkdir (make directory):-

इस कमांड का प्रयोग डायरेक्टरी बनाने के लिए किया जाता है। उदाहरण , एक directory data बनाने के लिए हम इस रूप में उपयोग कर सकते हैं।
Syntax : mkdir data

pwd (print working directory):-

वर्तमान में working directory का find full pathname के लिए  order का उपयोग करें:
Syntax : pwd

cp (copy):-

Syntax : cp file1 file2
यह current working directory में फ़ाइल 1 की copy बनाता है और इसे फ़ाइल 2 कहता है।


rm (remove), rmdir (remove directory) :-

Syntax : rm test.c
rmdir software
rm order का उपयोग किसी फ़ाइल (यहाँ test.c) को हटाने के लिए किया जाता है और rmdir का उपयोग किसी directory (यहाँ सॉफ़्टवेयर) को हटाने के लिए किया जाता है।

cd :-

Syntax : cd test (where soft is a directory)
इस कमांड का प्रयोग डायरेक्टरी को बदलने के लिए किया जाता है।

Important Command linux:-

cat (concatenate):-

Syntax : cat hosts
स्क्रीन पर फ़ाइल की सामग्री को प्रदर्शित करने के लिए कमांड कैट का उपयोग किया जा सकता है।

less :-

Syntax : less text1.txt
Order कम एक फ़ाइल की सामग्री को एक समय में एक पेज स्क्रीन पर लिखता है।

head :-

Syntax : head kkhsou.txt
हेड कमांड फ़ाइल की पहली दस पंक्तियों को स्क्रीन पर लिखता है।

tail :-

Syntax : tail science.txt
टेल कमांड फ़ाइल की अंतिम दस पंक्तियों को स्क्रीन पर लिखता है।

grep :-

Syntaz : grep kkhsou text1.txt
यह specified words या पैटर्न के लिए फाइलों की खोज करता है। उदाहरण, above order 'text1.txt' फाइलों में 'kksou' शब्द खोजता है।

wc (word count) :-

Syntax : wc -w text1.txt
wc -l text1.txt
ऊपर दिखाए गए -w के साथ wc कमांड का उपयोग किसी विशेष फ़ाइल में शब्दों की संख्या को गिनने के लिए किया जाता है। साथ ही wc में -l विकल्प का उपयोग किसी विशेष फ़ाइल में लाइनों की संख्या की गणना करने के लिए किया जा सकता है।

who :-

Syntax : who
Rish tyy01 03:45
 कमांड आपको यह भी बता सकता है कि आपके द्वारा उपयोग किए जा रहे टर्मिनल पर कौन लॉग इन है।

date :-

date
Tue Nov 21 13:39:24 EST 1998
इस कमांड का उपयोग सिस्टम की वर्तमान तिथि और समय को प्रदर्शित करने के लिए किया जाता है।

cal:-

इस order का उपयोग किसी विशिष्ट माह या पूरे वर्ष के कैलेंडर को देखने के लिए किया जाता है। अगर हम चालू वर्ष के दिसंबर महीने के लिए कैलेंडर देखना चाहते हैं, तो हम cal कमांड को लागू करके इसे प्रदान कर सकते हैं:
Linux Commands in hindi

echo:-

इस कमांड का उपयोग स्क्रीन पर एक संदेश प्रदर्शित करने या एक variables की सामग्री को प्रदर्शित करने के लिए किया जाता है। 
echo “Well Come to KKHSOU”

passwd:-

पासवार्ड कमांड का उपयोग पासवर्ड बदलने के लिए किया जाता है। sysadmin के लिए पासवर्ड बदलना
passwd sysadmin
(current) UNIX password:
Enter new UNIX password:
Retype new UNIX password:

REDIRECTION:-

कमांड के आउटपुट को रीडायरेक्ट करने के लिए हम > Sign  का उपयोग करते हैं। उदाहरण, छात्र के नाम की सूची के साथ kksou.txt फ़ाइल बनाने के लिए हम कमांड का उपयोग कर सकते हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

applet in java in hindi

  आज हम  computers  in hindi   मे   applet in java in hindi  (java programming in hindi)  -   Internet tools in hindi  के बारे में  जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  Applet in java in hindi:- applet in java  के वे छोटे प्रोग्राम होते हैं जो इन्टरनेट प्रोग्रामिंग में काम में लिए जाते हैं । यह  applet  एक कम्प्यूटर से दूसरे कम्प्यूटर पर भेजे जा सकते हैं , तथा फिर इन्हें किसी भी वेब ब्राउज़र या एप्लेट व्यूअर द्वारा रन कराया जा सकता है ।  एक  applet  किसी एप्लीकेशन प्रोग्राम की तरह कई कार्य कर सकता है , जैसे गणितिय गणनाएं करना , ग्राफिक्स प्रदर्शित करना , साउंड का प्रयोग करना , यूजर से इनपुट लेना आदि । life cycle applet in hindi :- 1. Born Or Initialization State  2. Running State  3. Idle State 4. Dead Or Destroyed State 1. Born Or Initialization State :- एक  applet  बोर्न स्टेट में तब आता है जब वह load होता है । किसी  applet  को लोड करने के लिए  applet  क्लास के init () मैथड का प्रयोग किया जाता है । आवश्यकता होने पर एप्लेट क्लास के init ( ) मैथड ओवरराईड किया जा सकता है -