सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

Visible Surface detection in hindi

Linux File System in hindi

 Linux File System in hindi:-

लिनक्स के बारे में एक दिलचस्प बात यह है कि हर चीज को एक फ़ाइल या Directory के रूप में माना जाता है। यहां तक ​​कि हार्डवेयर को एक फ़ाइल माना जाता है जो / dev Directory में stored होती है। लिनक्स अलग-अलग divisions और devices के बीच अंतर करने के लिए drive letters का उपयोग नहीं करता है। . "रूट" को विंडोज़ के रूप में / के रूप में deont किया गया है, यह सी होगा:
लिनक्स में drive specific directories के लिए "mounted" हैं (उदाहरण के लिए /mnt/पेन_ड्राइव, आपको pen_drive directory बनाने की आवश्यकता है) जहां उनके डेटा तक पहुंचा जा सकता है, उदाहरण, यदि आपको अपने थंबड्राइव का उपयोग करने की आवश्यकता है, तो आप इसे अपने कंप्यूटर में प्लग करें और फिर इसे "माउंट" कमांड का उपयोग करके माउंट करें, जो डिवाइस के path को specified करता है।
  • / :- यह रूट फोल्डर है, अन्य सभी फोल्डर रूट के अंतर्गत आते हैं। हम इसे Windows reference में C: ड्राइव के रूप में मान सकते हैं।
  • /bin :- इस फ़ोल्डर में सभी यूजर -आवश्यक बायनेरिज़ प्रोग्राम हैं, जैसे cp, ls आदि।
  • /boot :- इसमें कॉन्फ़िगरेशन फ़ाइलें और बूटलोडर द्वारा आवश्यक अन्य आवश्यक फ़ाइलें शामिल हैं।
  • /dev:- इस फ़ोल्डर में डिवाइस फ़ाइलें हैं। 
  • /etc:- इस फ़ोल्डर में सिस्टम द्वारा उपयोग की जाने वाली सभी कॉन्फ़िगरेशन फ़ाइलें हैं। 
  • /Home:- इसमें सिस्टम पर सभी सामान्य यूजर्स के होम फोल्डर शामिल हैं।
  •  lib:- इसमें सॉफ्टवेयर लाइब्रेरी हैं।
  • /media:- यह हटाने योग्य devices के लिए एक mount point है ।
  • /mnt:- यह एक temporary mount point है।
  • /opt:- फ़ोल्डर में ऐड ऑन सॉफ्टवेयर है 
  • /sbin:- इस फ़ोल्डर में बायनेरिज़ हैं जो केवल root user के रूप में चलाए जा सकते हैं 
  • /tmp:- इस फ़ोल्डर में अस्थायी फ़ाइलें हैं जो रिबूट 
  • /usr:- इस फ़ोल्डर और इसके उप-फ़ोल्डरों में user द्वारा स्थापित प्रोग्राम और उपयोगिताएँ और लाइब्रेरी शामिल हैं। 
  • /var:- इस फ़ोल्डर में ऐसी फ़ाइलें हैं जो बहुत बदलती हैं। उदाहरण के लिए लॉग फ़ाइलें शामिल हैं। 
  • /root:- यह folder root user की फ़ाइलों का against करता है।
  • /proc:- इस फ़ोल्डर में लिनक्स कर्नेल और हार्डवेयर के बारे में जानकारी है जो वास्तविक समय में अपडेट की जाती है।
लिनक्स कई फ़ाइल सिस्टम प्रकारों का Support करता है जैसे:-
Ext2 : यह ब्लॉक, इनोड और directories की concepts का उपयोग करता है। 
Ext3 : यह journaling capabilities के साथ ext2 फ़ाइल सिस्टम का advanced version है। journaling fast से फाइल सिस्टम रिकवरी की permission देता है।
 Sysfs: यह एक रैम-आधारित फाइल सिस्टम है जो शुरू में ramfs पर आधारित है। इसका उपयोग कर्नेल वस्तुओं को निर्यात करने के लिए किया जाता है ताकि end user इसे आसानी से उपयोग कर सकें। 
Procfs: proc फ़ाइल सिस्टम कर्नेल में internal data structures के लिए एक इंटरफ़ेस के रूप में कार्य करता है। इसका उपयोग सिस्टम के बारे में जानकारी प्राप्त करने और sysctl कमांड का उपयोग करके रनटाइम पर कुछ कर्नेल पैरामीटर बदलने के लिए किया जा सकता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

foxpro commands in hindi

आज हम computers in hindi मे  foxpro commands  क्या होता है उसके कार्य के बारे मे जानेगे?   foxpro all commands in hindi  में  तो चलिए शुरु करते हैं-   foxpro commands in hindi:-  (1) Clear command in foxpro in hindi:-  इस  command  का प्रयोग  foxpro  की main स्क्रीन ( जहां रिकॉर्ड्स / Output प्रदर्शित होते हैं ) को Clear करने के लिए किया जाता है ।  (2) Modify Structure in foxpro in hindi :-  इस  command  का प्रयोग वर्तमान प्रयुक्त  डेटाबेस  फाईल के स्ट्रक्चर में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए किया जाता है । इसके द्वारा नये फील्ड भी जोड़े जा सकते हैं तथा पुराने फील्ड्स को हटाया व उनके साईज़ में भी परिवर्तन किया जा सकता है ।  (3) Rename in foxpro in hindi :-  इस  command  के द्वारा किसी  database  file का नाम बदला जा सकता है जिस फाईल को Rename करना हो वह मैमोरी में खुली नहीं होनी चाहिए ।   Syntax : Rename < Old filename > to < New filename >  Foxpro example: -  Rename Student.dbf to St.dbf (4) Copy file in foxpro in hindi :- इस command के द्वारा किसी एक डेटाबेस फाईल के रिकॉ