सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

Types of Images or Subsets of Computer Graphics in hindi

System Bus in hindi

 System Bus in hindi:-

कंप्यूटर (सीपीयू, मेमोरी और आई/ओ) के प्रमुख तीन घटकों को जोड़ने वाली बस को system bus (सिस्टम बस) कहा जाता है। सिस्टम बस में आमतौर पर 50 से 100 अलग-अलग लाइनें होती हैं। 

Types of System bus in hindi:-

1. Address Lines
2. Data Lines
3. Control Lines

1. Address Lines:-

इन lines का उपयोग डेटा ट्रांसफर के source/destination को specified करने के लिए किया जाता है। address lines की width सिस्टम की अधिकतम संभव मेमोरी क्षमता निर्धारित करती है।

2. Data Lines:-

ये डेटा को एक मॉड्यूल से सिस्टम के दूसरे मॉड्यूल तक ले जाने वाली लाइनें हैं। डेटा लाइनों की width overall system performance को determine करती है।

3. Control Lines:-

डेटा और address lines तक पहुंच और उपयोग को controll करने के लिए control lines का उपयोग किया जाता है। कुछ control lines हैं- मेमोरी राइट, मेमोरी रीड, I/O Write, I/O Read, Bus Request, Bus Grant, Interrupt Request, Interrupt ACK, Clock आदि।

BUS Design Elements :-

कुछ basic design elements जो buses को अलग कर सकते हैं-

Types of System bus in hindi:-

बस को दो प्रकारों में विभाजित किया जा सकता है- Dedicated और multiplex। एक dedicated bus line स्थायी रूप से या तो एक कार्य या computer components के physical subset को assigned जाती है।
लेकिन, time multiplexing purpose के लिए एड्रेस वैलिड कंट्रोल सिग्नल शुरू करके पता और डेटा जानकारी एक ही लाइन पर dispatched की जा सकती है। इस विधि को multiplex bus कहा जाता है।

Method of Arbitration:-

जिस डिवाइस को एक निश्चित समय पर data transfer करने की अनुमति दी जाती है उसे bus master कहा जाता है और अगले bus master को चुनने की process को Arbitration कहा जाता है। 
Arbitration दो प्रकार की होती है- 
(i) centralized
(ii) distributed arbitration
centralized arbitration में, एक एकल हार्डवेयर डिवाइस एक fixed time पर बस मास्टर्स का चयन करने के लिए जिम्मेदार होता है। 
distributed arbitration में, mediation के लिए जिम्मेदार कोई central equipment नहीं है, लेकिन प्रत्येक मॉड्यूल में access control logic होता है और मॉड्यूल बस को shared करने के लिए एक साथ काम करते हैं।

Timing:-

Timing से means उस तरीके से है जिससे bus में events का coordinated किया जाता है। दो प्रकार की टाइमिंग मौजूद है synchronous timing और asynchronous timing
synchronous timing में, बस में event का occurrence होना एक घड़ी द्वारा निर्धारित किया जाता है। फिर से, asynchronous timing में, एक बस में एक event का occurrence होना पिछली event के occurrence होने पर निर्भर करता है।

Bus Width:-

Bus की width का मतलब bus में उपलब्ध लाइनों की संख्या से है। इसलिए, यदि डेटा लाइन की संख्या अधिक है, तो अधिक संख्या में बिट्स को एक मॉड्यूल से दूसरे मॉड्यूल में transfer किया जा सकता है और जिससे better system performance होता है।
दोबारा, यदि address lines की संख्या अधिक है, तो अधिक संख्या में मेमोरी स्थानों को reference किया जा सकता है और जिससे बेहतर सिस्टम क्षमता होती है।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल