सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

What is Magnetic Tape in hindi

Active Server Pages in hindi

ASP - Active Server Pages in hindi :-

Full form ASP in hindi:- active server pages 

ASP- Active Server Pages माइक्रोसॉफ्ट द्वारा विकसित की गई एक टेक्नोलॉजी है जिसका प्रयोग डायनेमिक एप्लीकेशन बनाने के लिए किया जाता है। यह एक server साइट स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज है। ASP वेब पेज की फाइल का exction .asp होता हैै।   एक asp पेज HTML तथा स्क्रिप्ट से मिलकर बनता है। ASP- Active Server Pages माइक्रोसॉफ्ट द्वारा विकसित की गई एक टेक्नोलॉजी है जिसका प्रयोग डायनेमिक एप्लीकेशन बनाने के लिए किया जाता है। यह एक server साइट स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज है। ASP वेब पेज की फाइल का exction .asp होता हैै।   एक asp पेज HTML तथा स्क्रिप्ट से मिलकर बनता है। ASP पेज में स्क्रिप्ट लिखने के लिए किसी ना किसी स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज का प्रयोग किया जाता है।  साधारण इसके लिए VB स्क्रिप्ट या जावा  स्क्रिप्ट का प्रयोग किया जाता है।
जब यूजर किसी ASP पेज के लिए वेब सर्वर पर रिक्वेस्ट भेजता है तो वेब सर्वर इस पेज पर लिखी स्क्रिप्ट को प्रोसेस करके  उसे क्लाइंट की मशीन पर  भेजता है।
जब भी कोई प्रोग्राम बनाया जाता है तो हो सकता है कि रन करवाने पर किन्हीं कारणों से उसमें कोई एरर उत्पन्न हो जाए । ऐसी एरर्स के कारण प्रोग्राम अवांछित रूप से रूक जाता है , तथा यूजर कुछ समझ नहीं पाता है । एरर हैंडलिंग के माध्यम से प्रोग्रामर ऐसा कोड लिख सकता है जिससे किसी एरर के आने पर प्रोग्राम का शेष भाग रन हो जाए या समुचित संदेश देते हुए प्रोग्राम को बंद कर दिया जाए । किसी एरर के आने पर लिए जाने वाले एक्शन को एरर हैंडलिंग कहा जाता है । किसी संख्या को जीरो से विभाजित करना , एरे के किसी ऐसे एलीमेंट को प्रयोग करने की कोशिश करना जो अस्तित्व ही नहीं रखता हो आदि कारणों से प्रोग्राम के रन होने के दौरान एरर आने की संभावना रहती है । ऐसे में बेहतर रहता है कि प्रोग्राम में ही ऐसी एरर को संभालने की व्यवस्था कर दी जाए ।

Types of error ASP in hindi:-

1. प्रारूप की एरर ( syntax error ) :-

ऐसी एरर तब आती हैं , जब किसी कमांड का गलत प्रारूप टाइप कर दिया गया हो । 

2. रन टाइम एरर ( run - time error ) :-

ऐसी एरर प्रोग्राम के रन होने के दौरान आती है । उदाहरण के लिए प्रोग्राम के रन होने के दौरान किसी संख्या को शून्य से विभाजित कर दिया जाए तो ऐसी एरर को रन टाइम एरर कहा जाएगा ।

3. लॉजिकल एरर ( logical error ) :-

प्रोग्राम में प्रयोग में लिया जाने वाला लॉजिक ही यदि गलत लगा दिया तो परिणाम भी गलत ही आएगा । ऐसी एरर को लॉजिकल एरर कहा जाता है । ASP में एरर हैंडल करने के लिए on error resume next स्टेटमेंट का प्रयोग किया जाता है : 
< % On Error Resume Next % >

ASP object Property:-

ASPCode - यह एरर का नंबर रिटर्न करती है । 
ASPDescription - यह एरर का विस्तृत विवरण रिटर्न करती है । 
Description - यह एरर का संक्षिप्त विवरण रिटर्न करती है। 
File - यह उस फाइल का नाम रिटर्न करती है जिसमें एरर जनरेट हुई है । 
Line - यह वह लाइन नंबर रिटर्न करती है जिसमें एरर जनरेट हुई है । 
Source - यह वह सोर्स कोड रिटर्न करती है जिसमें एरर जनरेट हुई है ।
Request ऑब्जेक्ट:-
 यूजर से डाटा इनपुट में लेने के लिए रिक्वेस्ट ऑब्जेक्ट का प्रयोग किया जाता है।
रिक्वेस्ट ऑब्जेक्ट की निम्नलिखित प्रॉपर्टी होती है:
Total Bytes :- यह प्रॉपर्टी रीड ओनली प्रॉपर्टी है, जो यह बताती है की क्लाइंट द्वारा HTTP रिक्वेस्ट बॉडी में कितने बाइट का डाटा भेजा गया है।
रिक्वेस्ट ऑब्जेक्ट में निम्नलिखित मेथड  है:
Binary Read :- यह मेथड क्लाइंट द्वारा भेजे गए डाटा को server द्वारा प्राप्त करने के लिए  प्रयोग में  किया जाता है।  यह प्राप्त किए गए  डाटा को Safe Array में स्टोर करता है, जो कि  वेरिएट टाइप का होता है।
  इसके अतिरिक्त  रिक्वेस्ट ऑब्जेक्ट के  विभिन्न कलेक्शन  निम्नानुसार है:
* QueryString 
* Form
* Cookies
* ServerVariables

QueryString:- क्लाइंट द्वारा सर्वर पर सुचना इनपुट के रूप में भेजने के लिए क्वेरी स्ट्रिंग का प्रयोग किया जा सकता है। क्वेरी स्ट्रिंग को URL के साथ Server पर भेजा जा सकता है।
 इसका प्रारुप निम्नानुसार होता है:
VarName1=value1&VarName2=value2

Form:- Server पर स्थित प्रोग्राम को वैल्यू इनपुट में देने के लिए QueryString के अतिरिक्त Form का प्रयोग भी किया जाता है। इस कलेक्शन के माध्यम से पोस्ट किए गए HTML फॉर्म के एलिमेंट्स जैसे टैक्स बॉक्स आदि की वैल्यू को एक्सेस  किया जा सकता है।

Cookies: - कुकीज को मैनेज करने के लिए asp में cookies नाम का कलेक्शन प्रयोग में लिया जाता है। इस कलेक्शन का प्रयोग स्टोर की गई कुकीज का डाटा रीड करने के लिए किया जाता है।

  1. ServerVariables:- सर्वर से संबंधित विभिन्न प्रकार के डाटा को प्रयोग में लेने के लिए  रिक्वेस्ट ऑब्जेक्ट के ServerVariables नामक कलेक्शन  प्रयोग में  लिया जाता है।  इस  कलेक्शन  का पहले  प्रयोग  पहले से मौजूद  एनवायरमेंट  वैरियेबल्स  की वैल्यू को  काम में लेने के लिए  किया जाता है।
ASP पेज में स्क्रिप्ट लिखने के लिए किसी ना किसी स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज का प्रयोग किया जाता है।  साधारण इसके लिए VB स्क्रिप्ट या जावा  स्क्रिप्ट का प्रयोग किया जाता है।
जब यूजर किसी ASP पेज के लिए वेब सर्वर पर रिक्वेस्ट भेजता है तो वेब सर्वर इस पेज पर लिखी स्क्रिप्ट को प्रोसेस करके  उसे क्लाइंट की मशीन पर  भेजता है।

Advantages of active server pages in hindi :-

• यह एक सर्वर साइड स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज है । 
• एक ASP पेज HTML तथा स्क्रिप्ट से मिलकर बनता है , जो कि सीखने में आसान है । 
• जब यूज़र किसी ASP पेज के लिए वेब सर्वर पर रिक्वेस्ट भेजता है तो वेब - सर्वर इस पेज पर लिखी स्क्रिप्ट को सर्वर पर प्रोसेस करता है । इससे क्लाइंट को कोड के बारे में जानकारी नहीं होती है । इससे कोड में अवांछित छेडछाड की संभावनाए कम हो जाती है । 

Disadvantages of active server pages in hindi:-

• ASP पेज में स्क्रिप्ट लिखने के लिए किसी अन्य स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज जैसे VB स्क्रिप्ट या जावा स्क्रिप्ट का प्रयोग किया जाता है ।
• ASP पेज को टेस्ट कराने के लिए हमें अपने कम्प्यूटर पर IIS ( Internet Information Services ) या कोई अन्य वेब सर्वर इंस्टॉल करना होगा ।
 • इसमें प्रोग्रामर को कोड के प्रारूप पर ध्यान केन्द्रित करना पड़ता है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ms excel functions in hindi

  आज हम  computer in hindi  मे ms excel functions in hindi(एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है)   -   Ms-excel tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- ms excel functions in hindi (एमएस एक्सेल में फंक्शन क्या है):- वर्कशीट में लिखी हुई संख्याओं पर फॉर्मूलों की सहायता से विभिन्न प्रकार की गणनाएँ की जा सकती हैं , जैसे — जोड़ना , घटाना , गुणा करना , भाग देना आदि । Function Excel में पहले से तैयार ऐसे फॉर्मूले हैं जिनकी सहायता से हम जटिल व लम्बी गणनाएँ आसानी से कर सकते हैं । Cell Reference में हमने यह समझा था कि फॉर्मूलों में हम जिन cells को काम में लेना चाहते हैं उनमें लिखी वास्तविक संख्या की जगह सरलता के लिए हम उन सैलों के Address की रेन्ज का उपयोग करते हैं । अत : सैल एड्रेस की रेन्ज के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक होता है । सैल एड्रेस से आशय सैल के एक समूह या श्रृंखला से है । यदि हम किसी गणना के लिए B1 से लेकर  F1  सैल को काम में लेना चाहते हैं तो इसके लिए हम सैल B1 , C1 , D1 , E1 व FI को टाइप करें या इसे सैल Address की श्रेणी के रूप में B1:F1 टाइ

window accessories kya hai

  आज हम  computer in hindi  मे window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)   -   Ms-windows tutorial in hindi   के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं- window accessories kya hai (एसेसरीज क्या है)  :- Microsoft Windows  कुछ विशेष कार्यों के लिए छोटे - छोटे प्रोग्राम प्रदान करता है इन्हें विण्डो एप्लेट्स ( Window Applets ) कहा जाता है । उनमें से कुछ प्रोग्राम उन ( Gadgets ) गेजेट्स की तरह के हो सकते हैं जिन्हें हम अपनी टेबल पर रखे हुए रहते हैं । कुछ प्रोग्राम पूर्ण अनुप्रयोग प्रोग्रामों का सीमित संस्करण होते हैं । Windows में ये प्रोग्राम Accessories Group में से प्राप्त किये जा सकते हैं । Accessories में उपलब्ध मुख्य प्रोग्रामों को काम में लेकर हम अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कार्यों को सम्पन्न कर सकते हैं ।  structure of window accessories:- Start → Program Accessories पर click Types of accessories in hindi:- ( 1 ) Entertainment :-   Windows Accessories  के Entertainment Group Media Player , Sound Recorder , CD Player a Windows Media Player आदि प्रोग्राम्स उपलब्ध होते है

report in ms access in hindi - रिपोर्ट क्या है

  आज हम  computers in hindi  मे  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है)  - ms access in hindi  के बारे में जानकारी देगे क्या होती है तो चलिए शुरु करते हैं-  report in ms access in hindi (रिपोर्ट क्या है):- Create Reportin MS - Access - MS - Access database Table के आँकड़ों को प्रिन्ट कराने के लिए उत्तम तरीका होता है , जिसे Report कहते हैं । प्रिन्ट निकालने से पहले हम उसका प्रिव्यू भी देख सकते हैं ।  MS - Access में बनने वाली रिपोर्ट की मुख्य विशेषताएँ :- 1. रिपोर्ट के लिए कई प्रकार के डिजाइन प्रयुक्त किए जाते हैं ।  2. हैडर - फुटर प्रत्येक Page के लिए बनते हैं ।  3. User स्वयं रिपोर्ट को Design करना चाहे तो डिजाइन रिपोर्ट नामक विकल्प है ।  4. पेपर साइज और Page Setting की अच्छी सुविधा मिलती है ।  5. रिपोर्ट को प्रिन्ट करने से पहले उसका प्रिन्ट प्रिव्यू देख सकते हैं ।  6. रिपोर्ट को तैयार करने में एक से अधिक टेबलों का प्रयोग किया जा सकता है ।  7. रिपोर्ट को सेव भी किया जा सकता है अत : बनाई गई रिपोर्ट को बाद में भी काम में ले सकते हैं ।  8. रिपोर्ट बन जाने के बाद उसका डिजाइन बदल